Breaking :
||मुख्यमंत्री ने पलामू में 75 योजनाओं की रखी आधारशिला, 113 योजनाओं का किया उद्घाटन, करोड़ों रुपये की बांटी परिसंपत्ति||BSF के स्थापना दिवस समारोह में शामिल हुए केंद्रीय गृह मंत्री, कहा- देश जल्द होगा वामपंथी उग्रवाद से पूरी तरह मुक्त||लातेहार में फूड प्वाइजनिंग: चावल में गिरी थी छिपकली, खाने से एक ही परिवार के 10 लोग बीमार||लातेहार: अनियंत्रित बोलेरो पेड़ से टकरायी, एक घायल, गंभीर हालत में रिम्स रेफर||मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन से मिले पलामू जिला के सरकारी कर्मचारी, पुरानी पेंशन योजना लागू करने के लिए जताया आभार||मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन दो दिवसीय दौरे पर पहुंचे पलामू, डीसी व एसपी ने किया स्वागत||लातेहार: बालूमाथ में आयुष्मान मेला के नाम पर खानापूर्ति, एमबीबीएस डॉक्टर रहे गायब||लातेहार: बालूमाथ में मानवता हुई शर्मसार, अवैध संबंध से जन्मे नवजात को परिजनों ने झाड़ी में फेंका||गढ़वा में आयोजित सरकार आपके द्वार कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने कहा- झारखंड के नवनिर्माण के लिए पूरी ताकत के साथ काम कर रही राज्य सरकार||लातेहार: बालूमाथ में बालश्रम के खिलाफ चलाया गया अभियान, तीन बालश्रमिकों को कराया मुक्त
Saturday, December 2, 2023
बिहार

Bihar News: प्रेमी की दूसरी लड़की से शादी तय होने पर थाने पहुंची प्रेमिका, पुलिस ने लगवाये सात फेरे

मुजफ्फरपुर : मुजफ्फरपुर पुलिस ने थाने में ही एक प्रेमी जोड़े की शादी करा दी। दरअसल प्रेमी की दूसरी लड़की से शादी तय होने के बाद लड़की अपनी गुहार लेकर मीनापुर थाने की पुलिस के पास पहुंची थी। युवती की गुहार सुनने के बाद थानेदार ने दोनों परिवारों की रजामंदी के बाद थाने में सात फेरे लगवा दिए। पुलिसकर्मियों और दोनों परिवारों के लोगों की मौजूदगी में थाने में ही शादी की सारी रस्में निभाई गयीं। सात जन्म के बंधन में बंधने के बाद दूल्हा खुशी-खुशी अपनी दुल्हन को लेकर अपने घर चला गया।

बताया जा रहा है कि मीनापुर के नेउरा गांव निवासी राजेश और किरण के बीच काफी समय से प्रेम प्रसंग चल रहा था। जब दोनों ने घरवालों के सामने शादी का प्रस्ताव रखा तो घर वालों ने इस रिश्ते से इनकार कर दिया। इसी बीच अविनाश के घरवालों ने उसकी शादी कहीं और तय कर दी। शादी की तारीख भी तय हो गयी थी। किरण को जैसे ही इस बात का पता चला वह अपनी शिकायत लेकर मीनापुर थाने पहुंची।

किरण की गुहार सुनने के बाद थानेदार राजेश कुमार ने अविनाश व किरण के परिजनों को थाने बुलाया। थानेदार के समझाने के बावजूद दोनों परिवारों के लोग शादी के लिए तैयार नहीं हुए, लेकिन बाद में किरण और अविनाश के परिवार वाले इस शादी के लिए राजी हो गए। फिर क्या था थाने के सिपाही इस शादी की तैयारी में लग गए। थाने में ही पंडित को बुलाकर दोनों प्रेमी जोड़े को सात फेरे लगवाए गए। शादी के बाद दोनों प्रेमी जोड़े की खुशी का ठिकाना नहीं रहा।