Breaking :
||सीएम हेमंत सोरेन की नहीं होगी गिरफ्तारी, ईडी के पास कोई पुख्ता सबूत नहीं||झारखंड से कोरोना की विदाई, सभी जिले कोरोना मुक्त घोषित||झारखंड: प्रमाण पत्र सत्यापन नहीं कराने वाले सहायक अध्यापक होंगे कार्यमुक्त||झारखंड में Suo-Moto Online Mutation की ऐतिहासिक शुरुआत, अब जमीन रजिस्ट्री के बाद म्यूटेशन के लिए नहीं देना पड़ेगा आवेदन||झारखंड प्रशासनिक सेवा के 14 अधिकारियों को मिली अपर सचिव के पद पर पदोन्नति||लातेहार: कब्र से निकाले गये शव की गुत्थी महुआडांड़ पुलिस ने सुलझाया, सास, ससुर व साले ने पीट-पीटकर की थी हत्या||लातेहार: आदिवासी मुख्यमंत्री के कार्यकाल में आदिवासी की मौत के बाद नहीं मिली एंबुलेंस, ठेले पर ले गया शव||पलामू में भाकपा माओवादी के सब जोनल कमांडर नारायण यादव गिरफ्तार||चतरा में भाकपा माओवादी के एरिया कमांडर ने किया पुलिस के सामने सरेंडर||लातेहार: सात दिन पूर्व दफनाये गये शव को महुआडांड़ पुलिस ने कब्र से निकलवाया, हत्या की आशंका

सीओ हेमा प्रसाद व अन्य के खिलाफ होगी ACB जांच, सीएम हेमंत सोरेन ने दी मंजूरी

रांची : जामताड़ा के तत्कालीन अंचल अधिकारी (सीओ) हेमा प्रसाद व अन्य के खिलाफ अब एसीबी (भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो) जांच करेगी। झारखंड के सीएम हेमंत सोरेन ने इससे जुड़े प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है। यह मामला जामताड़ा जिले के मिहिजाम थाना अंतर्गत बुटकेरिया मौजा में अवैध रूप से जमीन की खरीद-फरोख्त से जुड़ा है।

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने मिहिजाम थाना क्षेत्र के बुटकेरिया मौजा में जमीन की अवैध खरीद-बिक्री से संबंधित तत्कालीन अंचल अधिकारी हेमा प्रसाद व अन्य के खिलाफ मिहिजाम थाना कांड संख्या (47/2016) भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो को स्थानांतरित करने का प्रस्ताव दिया है।

रांची की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

इस मामले में जामताड़ा के तत्कालीन अंचल अधिकारी हेमा प्रसाद, तत्कालीन अंचल निरीक्षक इस्माइल टुडू व अन्य के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने की अनुमति देने का अनुरोध किया गया है। रिपोर्ट के अनुसार जामताड़ा थाने में इस संबंध में धारा 420/406/409/468/471 व 120-बी के तहत कांड संख्या- 47/16 दर्ज किया गया है।

फरार होने की स्थिति में कुर्की जब्ती के निर्देश

प्रतिवेदन से स्पष्ट है कि इस प्रकरण के सभी नौ प्राथमिक अभियुक्तों के विरूद्ध प्रकरण को सत्य पाये जाने पर अविलम्ब गिरफ्तार करने एवं फरार होने की दशा में कुर्की की जब्ती हेतु कार्यवाही करने एवं स्वीकृति प्राप्त करने हेतु प्रतिवेदन प्रस्तुत करने हेतु उचित माध्यम से और पर्यवेक्षण में अभियोजन। लंबित अन्य निर्देशों का अनुपालन करने का निर्देश दिया गया है।