Breaking :
||झारखंड में भीषण गर्मी से मिलेगी राहत, 20 जून तक मानसून करेगा प्रवेश||पलामू: बालिका गृह में दुष्कर्म पीड़िता की बहन की मौत, मजिस्ट्रेट की मौजूदगी में हुआ पोस्टमार्टम||सतबरवा प्रखंड के रैयतों ने सांसद से की मुलाकात, उचित मुआवजा दिलाने की मांग||पलामू में तीन अलग-अलग सड़क हादसों में तीन की मौत, नेतरहाट घूमने जा रहा एक पर्यटक भी शामिल||केंद्रीय मंत्री शिवराज व असम के मुख्यमंत्री हिमंता झारखंड विधान सभा चुनाव में भाजपा का करेंगे बेड़ापार||झारखंड में पांच नक्सली ढेर, एक महिला नक्सली समेत दो गिरफ्तार, हथियार बरामद||अब स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग स्कूली बच्चों को नशीले पदार्थो के सेवन से होने वाले दुष्प्रभावों के बारे में करेगा जागरूक||लातेहार: बालूमाथ में अनियंत्रित बाइक दुर्घटनाग्रस्त, दो युवक घायल, सांसद ने पहुंचाया अस्पताल, दोनों रिम्स रेफर||15 ऐसे महत्वपूर्ण कानून और कानूनी अधिकार जो हर भारतीय को जरूर जानने चाहिए||लातेहार में तेज रफ्तार बोलेरो ने घर में सो रहे पांच लोगों को रौंदा, एक की मौत, चार रिम्स रेफर
Tuesday, June 18, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंड

माओवादियों की अपील, विश्व आदिवासी दिवस पर करें अत्याचार के खिलाफ संघर्ष

माओवादियों ने विश्व आदिवासी दिवस (9 अगस्त) पर आदिवासियों के जल, जंगल, जमीन, सशक्तीकरण के लिए संघर्ष को ऊंचा रखने और आदिवासियों पर हो रहे अत्याचारों के खिलाफ संघर्ष करने का आह्वान किया है। इस संबंध में प्रतिबंधित नक्सली संगठन भाकपा-माओवादी की केंद्रीय कमेटी के प्रवक्ता अभय ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी किया है।

केंद्र सरकार पर लगाया आरोप

जारी विज्ञप्ति में विश्व आदिवासी दिवस के अवसर पर नए वन संरक्षण नियम के विरोध में दंडकारण्य और बिहार-झारखंड में आदिवासी लोगों के संघर्ष के समर्थन में कार्यक्रम आयोजित करने की अपील की गई है। अभय ने आरोप लगाया है कि केंद्र और राज्य सरकार की गलत नीति के तहत आदिवासियों की जमीन उनसे छीनी जा रही है।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

भाकपा-माओवादी केंद्रीय कमेटी के प्रवक्ता अभय ने कहा है कि भाजपा ने ऐसे समय में ओडिशा की द्रौपदी मुर्मू को भारत का राष्ट्रपति बनाया है जब देश इसे खत्म करने की प्रक्रिया में है। राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार की घोषणा के बाद भाजपा ने नया वन संरक्षण नियम अलोकतांत्रिक और संविधान के खिलाफ लाया।

आदिवासी जनता गिरिडीह जिले के पर्वतपुर गांव के पास, छत्तीसगढ़ राज्य के बिजानूर, सुकमा जिले के सिलिंगर और अन्य स्थानों पर लगाए गए पुलिस कैम्पों के खिलाफ लड़ रहे हैं।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

केंद्र और राज्य सरकार की गलत नीति के तहत आदिवासी लोगों की जमीनें छीनी जा रही हैं और यह प्रक्रिया देश के कई हिस्सों जैसे ओडिशा में नियमगिरी, महाराष्ट्र के गढ़चिरौली में सुरजागढ़, छत्तीसगढ़ के नारायणपुर में आमदई में की जा रही है। और झारखंड में अन्य स्थानों पर आदिवासी जनता को उनकी जमीन से वंचित किया जा रहा है।