Breaking :
||झारखंड में भीषण गर्मी से मिलेगी राहत, 20 जून तक मानसून करेगा प्रवेश||पलामू: बालिका गृह में दुष्कर्म पीड़िता की बहन की मौत, मजिस्ट्रेट की मौजूदगी में हुआ पोस्टमार्टम||सतबरवा प्रखंड के रैयतों ने सांसद से की मुलाकात, उचित मुआवजा दिलाने की मांग||पलामू में तीन अलग-अलग सड़क हादसों में तीन की मौत, नेतरहाट घूमने जा रहा एक पर्यटक भी शामिल||केंद्रीय मंत्री शिवराज व असम के मुख्यमंत्री हिमंता झारखंड विधान सभा चुनाव में भाजपा का करेंगे बेड़ापार||झारखंड में पांच नक्सली ढेर, एक महिला नक्सली समेत दो गिरफ्तार, हथियार बरामद||अब स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग स्कूली बच्चों को नशीले पदार्थो के सेवन से होने वाले दुष्प्रभावों के बारे में करेगा जागरूक||लातेहार: बालूमाथ में अनियंत्रित बाइक दुर्घटनाग्रस्त, दो युवक घायल, सांसद ने पहुंचाया अस्पताल, दोनों रिम्स रेफर||15 ऐसे महत्वपूर्ण कानून और कानूनी अधिकार जो हर भारतीय को जरूर जानने चाहिए||लातेहार में तेज रफ्तार बोलेरो ने घर में सो रहे पांच लोगों को रौंदा, एक की मौत, चार रिम्स रेफर
Tuesday, June 18, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

भाजपा ने मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर स्थानीय नीति एवं नियोजन नीति की समीक्षा करने का किया आग्रह

रांची : भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष और सांसद दीपक प्रकाश ने हेमंत सोरेन सरकार से नियोजन और स्थानीय नीति की समीक्षा करने का आग्रह किया है। उन्होंने इस संबंध में मंगलवार को मुख्यमंत्री को पत्र भी लिखा है। दीपक ने कहा है कि इन नीतियों पर फैसला लेने का मामला पूरी तरह से राज्य सरकार के अधिकार क्षेत्र में आता है। सरकार नीतियां बनाने और लागू करने में सक्षम है। उसे सिर्फ ड्यू डिलिजेंस रिव्यू की प्रक्रिया से गुजरना होगा।

रांची की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

मंगलवार को राज्यपाल से मिलने के लिए सर्वदलीय दल में भाजपा के दो प्रतिनिधियों के नाम पर दीपक प्रकाश ने कहा कि सरकार को सस्ती लोकप्रियता के लिए काम नहीं करना चाहिए। युवाओं के भविष्य के लिए दूरदर्शी सोच दिखाएं। योजना नीति पर हाईकोर्ट ने सरकार को मौका दिया है। ऐसे में सरकार को एक बार फिर स्थानीय और नियोजन नीति की कानूनी समीक्षा करनी चाहिए। भाजपा प्रदेश हित में जनभावनाओं के अनुरूप सरकार को सहयोग करने को तैयार है।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

गौरतलब है कि मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने सोमवार को प्रदेश के सभी दलों के वरीय नेताओं और निर्दलीय विधायकों को पत्र लिखा था। पत्र के माध्यम से उन्होंने झारखंड पदों एवं सेवाओं की रिक्तियों में आरक्षण (संशोधन) विधेयक, 2022 एवं झारखंड स्थानीय व्यक्तियों की परिभाषा और परिणामी सामाजिक, सांस्कृतिक और अन्य लाभों को ऐसे स्थानीय व्यक्तियों तक विस्तारित करने के लिए विधेयक, 2022 को अग्रेतर कार्रवाई के लिए भारत सरकार को भेजने का अनुरोध करने के लिए राज्यपाल रमेश बैस से मिलने के लिए प्रतिनिधिमंडल में शामिल होने का आग्रह किया, ताकि उपरोक्त विधेयक को शीघ्र कानून का रूप मिल सके।