Breaking :
||गैंगेस्टर अमन श्रीवास्तव गैंग का शूटर राजू शर्मा बिहार से गिरफ्तार||Jharkhand: प्रेमी ने पांच माह की गर्भवती प्रेमिका को गला दबाकर मार डाला||कोयला लदे हाइवा व ट्रक की भीषण टक्कर में दोनों चालकों की दर्दनाक मौत||रांची: असामाजिक तत्वों ने मेन रोड स्थित हनुमान मंदिर में की तोड़फोड़, प्रतिमा क्षतिग्रस्त||बालूमाथ: वज्रपात की चपेट में आने से पत्नी की मौत, पति समेत दो घायल||पातम-डाटम जलप्रपात में डूबे दोनों युवकों के शव बरामद, प्रशासनिक उदासीनता से ग्रामीणों में आक्रोश||तीन माह की गर्भवती महिला से छह अपराधियों ने पति के सामने किया सामूहिक दुष्कर्म, सभी आरोपी गिरफ्तार||लातेहार: माइंस खोलने को लेकर भूमि पूजन करने मंगरा गांव पहुंची डीवीसी कंपनी का विरोध, दो पक्षों में जमकर मारपीट, आधा दर्जन लोग घायल||लातेहार: नाबालिग से दुष्कर्म कर बनाया वीडियो, वायरल करने की धमकी दे करता रहा दुष्कर्म, ग्रामीणों ने पिटायी कर पुलिस को सौंपा||BREAKING: बालूमाथ में मधुमक्खियों ने फिर किया हमला, एक आदिवासी महिला की मौत, छह घायल

पलामू पहुंची सीबीआई की टीम, बकोरिया एनकाउंटर की करेगी जांच

'

bakoria palamu news

पलामू : सतबरवा थाना क्षेत्र के बकोरिया में कथित मुठभेड़ की जांच के लिए सीबीआई की टीम एक बार फिर पलामू पहुंची है। बकोरिया एनकाउंटर मामले में सीबीआई ने 70 फीसदी जांच पूरी कर ली है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार सीबीआई के वरिष्ठ अधिकारी पलामू पहुंचकर कई लोगों से पूछताछ करेंगे। सीबीआई की स्पेशल टीम चार्जशीट के लिए दस्तावेज तैयार कर रही है।

जानकारी के मुताबिक इस मामले में सीबीआई अब तक 350 से ज्यादा लोगों के बयान ले चुकी है।

आपको बता दें कि 8 जून 2015 की आधी रात को बकोरिया की भलवाही घाटी में कथित मुठभेड़ में 12 नक्सली मारे गए थे।

इसमें नक्सलियों का टॉप कमांडर आरके उर्फ ​​अनुराग, उसका बेटा और भतीजा भी शामिल था। कथित मुठभेड़ में चार नाबालिग, एक पारा शिक्षक और उसका भाई भी मारा गया था।

कथित पुलिस नक्सली मुठभेड़ में मारे गए 12 लोगों को पुलिस ने माओवादी कहा और अपनी पीठ थपथपाई। यह शर्मनाक है कि पुलिस ने इस मुठभेड़ के लिए इनाम भी बांटे। लेकिन कुछ ही दिनों में यह मुठभेड़ सवालों के घेरे में आ गई। तत्कालीन मुख्यमंत्री रघुवर दास और डीजीपी डीके पांडे पर फर्जी एनकाउंटर करने का आरोप लगा था। काफी हंगामे के बाद मामले की जांच सीबीआई को सौंपी गई।

लेकिन साढ़े छह वर्ष बीत जाने के बाद भी मुठभेड़ में मारे गए लोगों के परिवारों को न्याय नहीं मिल पाया है। पुलिस जांच में पता चला कि इन 12 लोगों में डॉक्टर आरके उर्फ ​​अनुराग के अलावा किसी का भी नक्सली रिकॉर्ड नहीं था।

bakoria palamu news

https://thenewssense.in/category/latehar

https://www.facebook.com/newssenselatehar


Leave a Reply

Your email address will not be published.