Breaking :
||धनबाद रेल मंडल में बड़ा हादसा, हाईटेंशन तार की चपेट में आने से छह लोग ज़िंदा जले, दो लातेहार व दो सतबरवा के सगे भाई शामिल||लातेहार: मनिका इलाके से TSPC के छह उग्रवादी हथियार के साथ गिरफ्तार||यात्रीगण कृपया ध्यान दें! बीडीएम सवारी गाड़ी के परिचालन पर फिर लगी रोक, 29 मई से शुरू होना था परिचालन, अब इस..||चतरा: TSPC के एरिया कमांडर समेत तीन उग्रवादी गिरफ्तार, विदेशी हथियार बरामद||पलामू: TSPC सुप्रीमो की पत्नी को लेवी के पैसे पहुंचाने जा रहे दो उग्रवादी गिरफ्तार||लातेहार: माओवादियों ने पुल निर्माण स्थल पर मचाया उत्पात, एक पोकलेन और चार ट्रैक्टरों में लगा दी आग||पलामू: बैंक में पैसा जमा करने जा रहे युवक से बदमाशों ने लूट लिये 63 हजार||पलामू: प्रेम प्रसंग में नाबालिग छात्रा हुई गर्भवती, गर्भपात की दवा खाने पर बिगड़ी हालत||आशुतोष कुमार लातेहार और बबलू कुमार बने चंदवा के थाना प्रभारी||पलामू में आर्केस्ट्रा के दौरान जमकर मारपीट, उप मुखिया ने भाजपा नेता सहित चार को दांतों से काटकर किया घायल

पलामू: मुखिया के देवर ने दो बच्चों की मां से किया दुष्कर्म, पंचायत में मामले को रफा-दफा करने का बनाया दबाव

पलामू : दो बच्चों की मां ने मेदिनीनगर शहर थाना क्षेत्र के कौड़िया पंचायत की मुखिया अंजना सिंह के देवर सत्येंद्र सिंह के खिलाफ दुष्कर्म का मामला दर्ज कराया है। सबसे बड़ी बात यह है कि तीन दिन तक पंचायत इस मामले को दबाती रही। साथ ही पैसे का लालच देकर मामले को रफा-दफा करने का दबाव बनाया।

इतना ही नहीं पीड़िता के परिवार को घर से निकलने नहीं दिया जा रहा था। इसी बीच मौका पाकर महिला व उसका पति शहर थाने पहुंचे और मामला दर्ज कराया।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

सदर थाना प्रभारी गौतम कुमार ने बताया कि आवेदन प्राप्त हो गया है। कार्रवाई की जा रही है। आरोपी को जल्द ही न्यायिक हिरासत में भेज दिया जायेगा।

बताया जाता है कि 16 मई की रात मुखिया अंजना के देवर सत्येंद्र सिंह ने महिला के घर का दरवाजा रात करीब साढ़े दस बजे यह कहकर खुलवाया कि उसका पति नशे में है और सड़क पर गिर गया है। इसके बाद उसने उसके साथ दुष्कर्म किया। करीब एक घंटे बाद जब महिला का पति तिलक समारोह से घर पहुंचा तो महिला आपत्तिजनक हालत में मिली।

अगले दिन शाम को गांव के सामुदायिक भवन में पंचायत हुई और लोगों ने उसे मायके जाने की सलाह दी। साथ ही कुछ लोगों ने रुपये लेकर मामले को रफा-दफा करने का दबाव बनाया। विवाद के चलते पंचायत में कोई फैसला नहीं हो सका। अगले दिन 18 मई की सुबह पुन: पीड़िता के घर पंचायत हुई। आरोपियों ने पीड़ित महिला को किसी भी सूरत में थाने नहीं जाने की धमकी दी। आखिरकार हिम्मत जुटायी और तीसरे दिन थाने पहुंचकर मामला दर्ज कराया।