Breaking :
||पलामू में जन वितरण प्रणाली दुकानदार की गोली मारकर हत्या, पुलिस कर रही जांच||लातेहार: युवक हत्याकांड का खुलासा, भाभी ने ही करा दी देवर की हत्या, दो आरोपी गिरफ्तार||थर्ड रेल लाइन निर्माण कार्य में लगी कंपनी के साइट पर नक्सलियों का उत्पात, फायरिंग कर जेसीबी में लगायी आग||दुर्गा पूजा पर आयोजित कार्यक्रम देख लौट रही नाबालिग से सामूहिक दुष्कर्म||हजारीबाग: तीर्थयात्रियों से भरे बस और ट्रक की सीधी टक्कर में 4 की मौत, 30 घायल||लातेहार: ढाबा चलाने की आड़ में अफीम व डोडा पाउडर बेचने के आरोप में ढाबा संचालक गिरफ्तार||रांची: गैस रिफिलिंग की दुकान में रखे सिलेंडर में हुए विस्फोट से चार दुकानें जलकर राख||चतरा में पुलिस और नक्सलियों के बीच मुठभेड़, भारी मात्रा में सामान और हथियार बरामद||लातेहार: दशहरा व दुर्गा पूजा को लेकर मिठाई व फास्ट फूड दुकानों की हुई जांच, पांच दुकानों पर कार्रवाई, लगा जुर्माना||पलामू सिविल सर्जन 50 हजार रुपये की रिश्वत लेते रंगेहाथ गिरफ्तार, बिल भुगतान के एवज में मांगी थी रिश्वत

लातेहार: पीटीआर के गारू पूर्वी वन क्षेत्र में हाथी की मौत, पोस्टमार्टम के लिए पहुंची मेडिकल टीम

'

लातेहार : जिले के पलामू टाइगर रिजर्व के गारू पूर्वी वन क्षेत्र के फुलहर जंगल में एक जंगली हाथी की मौत हो गई है। हाथी के शव से दुर्गंध आ रही है। बताया जा रहा है कि करीब दस दिन पहले हाथी की मौत हो गई थी।

लेकिन वन विभाग के अधिकारियों को सोमवार को इसकी जानकारी मिली। इसके बाद वे जंगल पहुंचे। मंगलवार को मेडिकल टीम मृत हाथी का पोस्टमार्टम करने पहुंची। हाथी की उम्र 40 साल से ज्यादा बताई जा रही है।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

जंगली हाथी की दस दिन पहले गारू पूर्वी वन क्षेत्र से करीब सात किलोमीटर दूर फुलहर के घने जंगलों में मौत हो गई थी, लेकिन सोमवार को हाथी की मौत की जानकारी वन विभाग को मिली। वनकर्मियों ने इसकी जानकारी वन विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों को दी।

सूचना मिलने के बाद बाघ परियोजना के उप निदेशक मुकेश कुमार ने मौके पर पहुंचकर स्थिति का जायजा लिया, लेकिन हाथी की मौत का कारण स्पष्ट नहीं हो पाया है। मंगलवार को मेडिकल टीम मृत हाथी का पोस्टमार्टम करने पहुंची है।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

जहां हाथी की मौत हुई है वहां मीडियाकर्मियों को जाने से रोक दिया गया है। वन कर्मियों ने बताया कि अधिकारियों ने मीडियाकर्मियों को साइट पर जाने से मना किया है। जंगल की ओर जाने वाली कच्ची सड़क पर चार वन कर्मियों को निगरानी के लिए रखा गया है, जो मीडियाकर्मियों को जंगल में प्रवेश नहीं करने दे रहे हैं। इस संबंध में उप निदेशक मुकेश कुमार ने कहा कि हाथी की मौत से संबंधित जो भी जानकारी व तस्वीरें होंगी मीडियाकर्मियों तक पहुंचाई जाएंगी।