Breaking :
||पलामू में बिजली गिरने से तीन किशोर की मौत, बारिश से बचने के लिए पेड़ के नीचे छिपे थे||रांची में करंट लगने से एक ही परिवार के तीन लोगों की मौत, तिरंगा लगाने के दौरान हुआ हादसा||15 अगस्त को झारखंड के 26 पुलिसकर्मियों को विभिन्न सेवाओं के लिए मेडल||रांची में नकली नोटों के तस्कर को पकड़ने गई दिल्ली पुलिस पर ग्रामीणों ने किया हमला, बनाया बंधक||झारखंड जल्द होगा सूखाग्रस्त घोषित, सभी मापदंडों पर तैयार हो रही रिपोर्ट||लातेहार: विद्यालय से उर्दू शब्द हटाए जाने पर मुस्लिम समुदाय में आक्रोश, किया प्रदर्शन||मुख्य धारा में लौटे नक्सलियों के सम्मान समारोह में अधिकारियों ने कहा- सरकार की सेरेंडर पॉलिसी का लाभ उठाएं नक्सली||लातेहार : खेत में धान बो रहे किसान पर गिरी बिजली, पति-पत्नी की मौके पर ही मौत||झारखंड भाजपा को मिलेगा नया प्रदेश अध्यक्ष, नियुक्ति को लेकर कई नामों पर चर्चा||अब झारखंड के बिजली उपभोक्ताओं को मिलेगी 100 यूनिट मुफ्त बिजली

मनिका में हाथियों ने दूसरे दिन भी मचाया उत्पात, 3 मवेशियों की पटक कर ली जान, दो घायल

'

खलिहान में रखे 5 किसानों के लगभग 40 क्विंटल धान को खाया और बर्बाद किया

झुंड में चल रहे है हाथी

लातेहार : मनिका थाना क्षेत्र के मटलोंग पंचायत के माइल गांव स्थित कंनडेरा टोला में हाथियों के झुंड ने जमकर उत्पात मचाया। इस दौरान हाथियों ने तीन मवेशियों को पटक कर मार डाला और दो मवेशियों को घायल कर दिया। वहीं खलिहान में रखे कई एक क्विंटल धान को खाया और बर्बाद कर दिया।

कंनडेरा टोला निवासी उमेश सिंह के खलिहान से लगभग 4 क्विंटल धान को खाकर बर्बाद किया। वही रामसेवक सिंह के एक बैल को पटक पटक कर मार डाला और पास ही खेत में लगे आलू की फसल को पूरी तरह से नष्ट कर दिया।

इसी गांव के रविंद्र सिंह के एक बैल को पटक कर घायल कर दिया जिससे बैल का पैर टूट गया है। वही कोलकान सिंह के 1 गाय को पटक कर मार डाला और दूसरी गाय को बुरी तरह से घायल कर दिया और खलिहान में रखे धान को बर्बाद कर दिया। ग्रामीण राम अवतार सिंह के एक बैल को भी पटक-पटक कर मार डाला और खलिहान में रखे लगभग 25 क्विंटल धान को बर्बाद कर दिया।

ग्रामीणों ने बताया कि जुंगुर गांव की तरफ से 15-16 की संख्या में आए हाथियों के झुंड ने एकाएक गांव में आये और मवेशियों पर हमला कर दिया। मवेशियों को तो मारा ही साथ में धान व फसलों को बर्बाद कर हमारी मेहनत पर भी पानी फेर दिया।

सूचना के बाद वन विभाग की टीम ने घटनास्थल पर पहुंचकर घटना का मुआयना किया और सरकारी प्रावधान के अनुसार मुआवजे दिलाने की बात कहीं।

वनपाल ललन उरांव ने बताया कि गांव में रात्रि के समय लोग सतर्क रहें और हाथी आने की आहट पाकर मसाल और पटाखा छोड़कर हाथियों को भगाने का प्रयास करे। गांव में महुआ का शराब नहीं बनाएं, नहीं तो शराब की गंध पाकर हाथी गांव की तरफ प्रवेश करते हैं।

मौके पर समाजसेवी कामेश्वर सिंह, नंदकिशोर यादव, राज किशोर सिंह, गुड्डू सिंह ने जिले के उपायुक्त से मुआवजे की मांग की है।


Leave a Reply

Your email address will not be published.