Breaking :
||झारखंड: रामनवमी जुलूस रोके जाने से लोगों में आक्रोश, आगजनी, पुलिस की गाड़ियों में तोड़फोड़, लाठीचार्ज||लातेहार में भीषण सड़क हादसा, दो बाइकों की टक्कर में तीन युवकों की मौत, महिला समेत चार घायल, दो की हालत नाजुक||बड़ी खबर: 25 लाख के इनामी समेत 29 नक्सली ढेर, तीन जवान घायल||पलामू: महुआ चुनकर घर जा रही नाबालिग से भाजपा मंडल अध्यक्ष ने किया दुष्कर्म, आरोपी की तलाश में जुटी पुलिस||झामुमो केंद्रीय समिति सदस्य नज़रुल इस्लाम ने मोदी को जमीन में 400 फीट नीचे गाड़ने की दी धमकी, भाजपा प्रवक्ता ने कहा- इंडी गठबंधन के नेता पीएम मोदी के खिलाफ बड़ी घटना की रच रहे साजिश||लातेहार: बालूमाथ में अज्ञात वाहन की चपेट में आने से एक बाइक सवार की मौत, दो की हालत गंभीर||लातेहार: माओवादियों की बड़ी साजिश नाकाम, बरवाडीह के जंगल से आठ आईईडी बम बरामद||गुमला में लूटपाट करने आये चार अपराधी हथियार के साथ गिरफ्तार||रांची में वाहन चेकिंग के दौरान भारी मात्रा में कैश बरामद||लोहरदगा में धारदार हथियार से गला रेतकर महिला की हत्या
Wednesday, April 17, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरलोहरदगा

लोहरदगा-लातेहार जिले के सीमावर्ती जंगल में पुलिस और नक्सलियों के बीच मुठभेड़!

Lohardaga naxal news

गोपी कुमार सिंह/लातेहार

लोहरदगा: पेशरार थाना क्षेत्र के बुलबुल जंगल में पिछले 6 दिनों से नक्सलियों के खिलाफ तलाशी अभियान चलाया जा रहा है. इस बीच लोहरदगा-लातेहार जिले के सीमावर्ती जंगल में मंगलवार को पुलिस और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ हुई है। दोनों ओर से सैकड़ों राउंड फायरिंग की गई। हालांकि पुलिस को भारी पड़ते देख नक्सली भागने में सफल रहे। इस मुठभेड़ की कोई आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है।

गौरतलब है कि पिछले छह दिनों से चल रहे नक्सल विरोधी अभियान के दौरान मुठभेड़ की यह चौथी घटना है। बताया जा रहा है कि चारों तरफ से सुरक्षाबलों से घिरे नक्सली भागने की कोशिश कर रहे थे। इस बीच मुठभेड़ की यह घटना लोहरदगा-लातेहार जिले की सीमा पर नारायणपुर जंगल में हुई। लेकिन इस फायरिंग के बाद नक्सली वापस बुलबुल के जंगल की ओर भागने को मजबूर हो गए।

सीआरपीएफ, झारखंड जगुआर और जिला पुलिस बल के करीब 450 जवान जंगलों में नक्सलियों की तलाश में लगे हैं। नक्सलियों को पुलिस ने घेर लिया है ताकि वे बुलबुल के जंगल से भागकर लातेहार या गुमला की सीमा की ओर न जा सकें। पुलिस को तलाशी अभियान में भी सफलता मिली है।

कभी नक्सलियों का गढ़ माने जाने वाले पेशरार इलाके में नक्सली कमजोर हो गए थे। हाल के महीनों में नक्सली एक बार फिर सिर उठाने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन पुलिस की सक्रियता से उन्हें परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

Lohardaga naxal news

https://thenewssense.in/category/latehar

https://www.facebook.com/newssenselatehar


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *