Breaking :
||चतरा डीसी अबु इमरान ने किया एक और सांसद का अपमान, लोकसभा स्पीकर के पास दूसरी बार पहुंची शिकायत||अब झारखंड के प्राथमिक विद्यालयों में कक्षाएं संचालित करने में स्थानीय युवाओं की मदद लेगी सरकार||रांची बिरसा मुंडा एयरपोर्ट उड़ाने की धमकी देने वाला आरोपी बिहार से गिरफ्तार||बिहार में सियासी हलचल, नीतीश के पालाबदल की चर्चा, दिल्ली बुलाए गए भाजपा नेता||सुखाड़ को लेकर सरकार गंभीर, स्थिति का जायजा लेने सभी जिलों में भेजे गए अधिकारी||रांची में अपराधियों ने गैस दुकानदार मारी गोली, रिम्स में चल रहा इलाज||माओवादियों के नाम पर लेवी वसूलने आये तीन बदमाश पकड़ाये||झारखंड कैबिनेट में फेरबदल, कांग्रेस के लिए नयी मुसीबत, फूट पड़ने की आशंका बढ़ी||अब लातेहार के इस गांव के ग्रामीणों ने सीमा पर लगाया बोर्ड, बाहरी व्यक्ति के प्रवेश पर रोक||सांगठनिक बदलाव की तैयारी में झारखंड कांग्रेस, अधिकांश जिले में नए चेहरों को मौका

भारत सरकार ने राष्ट्रीय ध्वज संहिता में किये बड़े बदलाव, अब दिन-रात फहरा सकते हैं तिरंगा

'

नई दिल्ली : सरकार ने देश के ध्वज संहिता में बदलाव किया है, जिसके तहत अब दिन और रात दोनों समय तिरंगा फहराने की अनुमति होगी। साथ ही अब पॉलिएस्टर और मशीन से बने राष्ट्रीय ध्वज का भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

आजादी के अमृत महोत्सव के तहत सरकार 13 से 15 अगस्त तक ‘हर घर तिरंगा’ कार्यक्रम शुरू करने जा रही है, जिसे देखते हुए सरकार ने फ्लैग कोड में बदलाव किया है। केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला ने सभी केंद्रीय मंत्रालयों और विभागों के सचिवों को लिखे पत्र में कहा कि भारतीय राष्ट्रीय ध्वज का प्रदर्शन, फहराना और उपयोग भारतीय ध्वज संहिता, 2002 और राष्ट्रीय गौरव के अपमान की रोकथाम अधिनियम, 1971 के तहत आता है।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

भारत की ध्वज संहिता, 2002 को दिनांक 20 जुलाई, 2022 के एक आदेश द्वारा संशोधित किया गया है और अब भारतीय ध्वज संहिता, 2002 के भाग II के पैरा 2.2 के खंड (11) को अब इस प्रकार पढ़ा जाएगा। जहां झंडा खुले में प्रदर्शित होता है इसे किसी नागरिक के निवास पर ले जाया या प्रदर्शित किया जाता है, इसे दिन-रात फहराया जा सकता है।

पहले सूर्योदय से सूर्यास्त तक फहराने की थी अनुमति

पहले सूर्योदय से सूर्यास्त तक ही तिरंगा फहराने की अनुमति थी। इसी तरह, ध्वज संहिता के एक अन्य प्रावधान में संशोधन किया गया था कि राष्ट्रीय ध्वज हाथ से काता और हाथ से बुना हुआ या मशीन से बना होगा। इसे कॉटन/पॉलिएस्टर/ऊन/रेशम खादी से बनाया जाएगा। पहले मशीन से बने और पॉलिएस्टर से बने राष्ट्रीय झंडों के इस्तेमाल की अनुमति नहीं थी।