Breaking :
||मोदी 3.0: मोदी सरकार में मंत्रियों के बीच हुआ विभागों का बंटवारा, देखें किसे मिला कौन सा मंत्रालय||गढ़वा: प्रेमी ने गला रेतकर की प्रेमिका की हत्या, शादी का बना रही थी दबाव, बिन बयाही बनी थी मां||मैक्लुस्कीगंज में फायरिंग व आगजनी मामले में पांच गिरफ्तार, ऑनलाइन जुआ खेलाने वाले गिरोह का भंडाफोड़, सात गिरफ्तार||पलामू में शैक्षणिक संस्थानों के 100 मीटर के दायरे में 60 दिनों के लिए निषेधाज्ञा लागू, जानिये वजह||पलामू में युवक की गोली मारकर हत्या, पुलिस जांच तेज||पलामू: संदिग्ध हालत में स्कूल में फंदे से लटका मिला प्रधानाध्यापक का शव, हत्या की आशंका||लातेहार: तालाब में डूबे बच्चे का 24 घंटे बाद भी नहीं मिला शव, तलाश के लिए पहुंची NDRF की टीम||मुख्यमंत्री चंपाई सोरेन ने आलमगीर आलम से लिए सभी विभाग वापस||पलामू: कोयला से भरा ट्रक और बीड़ी पत्ता लदा ऑटो जब्त, पांच गिरफ्तार, दो लातेहार के निवासी||लातेहार: नहाने के दौरान तालाब में डूबने से दस वर्षीय बच्चे की मौत, शव की तलाश में जुटे ग्रामीण
Thursday, June 13, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

रांची: 15 लाख के इनामी माओवादी रीजनल कमांडर इंदल गंझू ने किया आत्मसमर्पण

रांची : प्रतिबंधित नक्सली संगठन भाकपा माओवादी रीजनल कमांडर और 15 लाख के इनामी इंदल गंझू उर्फ ललन गंझू ने गुरुवार को रांची जोनल आईजी कार्यालय में आत्मसमर्पण कर दिया। इंदल गंझू ने आईजी अभियान एवी होमकर, रांची जोनल आईजी पंकज कंबोज, सीआरपीएफ के आईजी विधि कुमार विधि, हजारीबाग के डीआईजी नरेंद्र सिंह और चतरा के एसपी राकेश रंजन के सामने सरेंडर कर दिया।

Ranchi maoist commander surrendered

इंदल गंझू के खिलाफ 145 मामले हैं दर्ज

इंदल मूल रूप से बिहार के गया जिले के इमामगंज थाना क्षेत्र के असरैन गांव के रहने वाले हैं। वर्तमान में वह भाकपा माओवादी संगठन में रीजनल कमांडर था और सरकार ने उस पर 15 लाख रुपये का इनाम घोषित किया था। पुलिस के लगातार नक्सल विरोधी अभियान से परेशान इंदल ने सरेंडर कर दिया है। इंदल गंझू के खिलाफ 145 मामले दर्ज हैं। इनमें से चतरा जिले में 48, पलामू जिले में एक, हजारीबाग जिले में पांच और बिहार के गया में 78 और औरंगाबाद में 13 मामले दर्ज हैं।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

नक्सलियों को समाज की मुख्य धारा में जोड़ना मुख्य उदेश्य

इस अवसर पर आईजी अभियान एवी होमकर ने कहा कि सरकार ने झारखंड को नक्सल मुक्त राज्य बनाने का संकल्प लिया है। इस संकल्प को धरातल पर उतारने के लिए लगातार अभियान चलाया जा रहा है और इस दिशा में पुलिस को नक्सली संगठनों के खिलाफ सफलता भी मिल रही है। वहीं दूसरी ओर भटके हुए नक्सलियों को मुख्यधारा में वापस लाने के लिए राज्य सरकार की समर्पण और पुनर्वास नीति नई दिशा का व्यापक प्रचार-प्रसार किया जा रहा है। इसका उद्देश्य नक्सलियों को समाज की मुख्य धारा में जोड़ना है, जो किसी कारण से नक्सलवाद के रास्ते में भटक गये हैं। इसी क्रम में इंदल गंझू उर्फ ललन गंझू उर्फ उमा उर्फ बढ़न ने सरेंडर कर दिया है। उसके आत्मसमर्पण से भाकपा माओवादियों को बड़ा झटका लगा है।

जमीन विवाद में इंदल बना था नक्सली

इंदल गंझू ने कहा कि वह जमीन विवाद के चलते नक्सली संगठन भाकपा माओवादी में शामिल हो गया था। इंदल ने कहा कि वह 2003 से भाकपा माओवादी संगठन से जुड़ा हुआ था। उसके गांव के गोतियों ने उसकी जमीन हड़प ली थी। इस वजह से वह संगठन से जुड़ा। इसके बाद उसके गोतिया डर के मारे उसकी जमीन छोड़कर चले गये। भाकपा माओवादी की बिहार रिजनल कमेटी के तहत मध्य जोन के शीर्ष नेता संदीप यादव की मौत के बाद, इंदल ने संगठन के विस्तार और नीतियां निर्धारित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभायी है।