Breaking :
||झारखंड एकेडमिक काउंसिल कल जारी करेगा मैट्रिक और इंटर का रिजल्ट||लातेहार: चुनाव प्रशिक्षण में बिना सूचना के अनुपस्थित रहे SBI सहायक पर FIR दर्ज||ED ने जमीन घोटाला मामले में आरोपियों के पास से बरामद किये 1 करोड़ 25 लाख रुपये||झारखंड में हीट वेब को लेकर इन जिलों में येलो अलर्ट जारी, पारा 43 डिग्री के पार||सतबरवा सड़क हादसे में मारे गये दोनों युवकों की हुई पहचान, यात्री बस की चपेट में आने से हुई थी मौत||झारखंड: रामनवमी जुलूस रोके जाने से लोगों में आक्रोश, आगजनी, पुलिस की गाड़ियों में तोड़फोड़, लाठीचार्ज||लातेहार में भीषण सड़क हादसा, दो बाइकों की टक्कर में तीन युवकों की मौत, महिला समेत चार घायल, दो की हालत नाजुक||बड़ी खबर: 25 लाख के इनामी समेत 29 नक्सली ढेर, तीन जवान घायल||पलामू: महुआ चुनकर घर जा रही नाबालिग से भाजपा मंडल अध्यक्ष ने किया दुष्कर्म, आरोपी की तलाश में जुटी पुलिस||झामुमो केंद्रीय समिति सदस्य नज़रुल इस्लाम ने मोदी को जमीन में 400 फीट नीचे गाड़ने की दी धमकी, भाजपा प्रवक्ता ने कहा- इंडी गठबंधन के नेता पीएम मोदी के खिलाफ बड़ी घटना की रच रहे साजिश
Monday, April 22, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

झारखंड में सार्वजनिक जगहों पर शराब पीने पर रोक, तीन महीने की जेल या 10 हजार रुपये जुर्माना

रांची : झारखंड उत्पाद संशोधन विधेयक समेत तीन विधेयकों को सत्र के समापन से पहले गुरुवार को झारखंड विधानसभा में ध्वनिमत से पारित कर दिया गया। इस बिल में दंड और जुर्माने से जुड़े कई बदलाव किए गए हैं। सार्वजनिक स्थान पर शराब पीने वालों से दस हजार रुपये तक का जुर्माना वसूला जा सकता है। इसके अलावा तीन महीने सजा का भी प्रावधान किया गया है।

उत्पाद एवं मद्यनिषेध विभाग द्वारा संशोधित प्रस्ताव में विभिन्न स्तरों पर अनियमितताओं पर दंड और जुर्माने का प्रावधान किया गया है। नए नियमों के मुताबिक सड़क पर शराब पीने वालों से न सिर्फ जुर्माना वसूल किया जाएगा, बल्कि उन्हें तीन साल तक की कैद का भी प्रावधान किया गया है।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

पहली बार, अधिकारियों को मामूली अपराधों के मामलों में जुर्माना माफ करने का अधिकार दिया गया है। विधेयक पर चर्चा के दौरान विधायक विनोद कुमार सिंह और लम्बोदर महतो के संशोधन प्रस्तावों पर चर्चा हुई। दोनों नेताओं ने प्रस्तावित संशोधन को पेश करते हुए प्रवर समिति को यह निर्देश देने की मांग की कि वह विधेयक को 30 दिनों के भीतर प्रवर समिति को भेजकर इसकी रिपोर्ट दे।