Breaking :
||लोहरदगा में हथियार के साथ एक गिरफ्तार, एक भागने में सफल, भारी मात्रा में हथियार व गोलियां बरामद||सीएम हेमंत सोरेन का ऐलान, नेतरहाट फील्ड फायरिंग रेंज होगी रद्द, ग्रामीण 30 साल से कर रहे थे आंदोलन||कोलकाता हाईकोर्ट ने कांग्रेस के तीनों विधायकों को दी सशर्त अंतरिम जमानत||लातेहार: फिर एक महिला ने इलाज के बहाने डॉक्टर पर लगाया छेड़खानी का आरोप||बिहार में नीतीश कैबिनेट का विस्तार, 31 मंत्रियों ने ली शपथ, तेज प्रताप फिर बने मंत्री||DGP नीरज सिन्हा ने कहा- पिछले तीन साल में 1,526 नक्सली गिरफ्तार, 51 मारे गये||जम्मू-कश्मीर में जवानों से भरी बस खाई में गिरी, 7 जवान शहीद, 32 घायल, राष्ट्रपति ने व्यक्त की संवेदना||JPSC के पूर्व अध्यक्ष IPS अमिताभ चौधरी का हार्ट अटैक से निधन||लातेहार: पीटीआर के गारू पूर्वी वन क्षेत्र में हाथी की मौत, पोस्टमार्टम के लिए पहुंची मेडिकल टीम||पलामू में बिजली गिरने से तीन किशोर की मौत, बारिश से बचने के लिए पेड़ के नीचे छिपे थे

झारखंड में सार्वजनिक जगहों पर शराब पीने पर रोक, तीन महीने की जेल या 10 हजार रुपये जुर्माना

'

रांची : झारखंड उत्पाद संशोधन विधेयक समेत तीन विधेयकों को सत्र के समापन से पहले गुरुवार को झारखंड विधानसभा में ध्वनिमत से पारित कर दिया गया। इस बिल में दंड और जुर्माने से जुड़े कई बदलाव किए गए हैं। सार्वजनिक स्थान पर शराब पीने वालों से दस हजार रुपये तक का जुर्माना वसूला जा सकता है। इसके अलावा तीन महीने सजा का भी प्रावधान किया गया है।

उत्पाद एवं मद्यनिषेध विभाग द्वारा संशोधित प्रस्ताव में विभिन्न स्तरों पर अनियमितताओं पर दंड और जुर्माने का प्रावधान किया गया है। नए नियमों के मुताबिक सड़क पर शराब पीने वालों से न सिर्फ जुर्माना वसूल किया जाएगा, बल्कि उन्हें तीन साल तक की कैद का भी प्रावधान किया गया है।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

पहली बार, अधिकारियों को मामूली अपराधों के मामलों में जुर्माना माफ करने का अधिकार दिया गया है। विधेयक पर चर्चा के दौरान विधायक विनोद कुमार सिंह और लम्बोदर महतो के संशोधन प्रस्तावों पर चर्चा हुई। दोनों नेताओं ने प्रस्तावित संशोधन को पेश करते हुए प्रवर समिति को यह निर्देश देने की मांग की कि वह विधेयक को 30 दिनों के भीतर प्रवर समिति को भेजकर इसकी रिपोर्ट दे।