Breaking :
||झारखंड में भीषण गर्मी से मिलेगी राहत, 20 जून तक मानसून करेगा प्रवेश||पलामू: बालिका गृह में दुष्कर्म पीड़िता की बहन की मौत, मजिस्ट्रेट की मौजूदगी में हुआ पोस्टमार्टम||सतबरवा प्रखंड के रैयतों ने सांसद से की मुलाकात, उचित मुआवजा दिलाने की मांग||पलामू में तीन अलग-अलग सड़क हादसों में तीन की मौत, नेतरहाट घूमने जा रहा एक पर्यटक भी शामिल||केंद्रीय मंत्री शिवराज व असम के मुख्यमंत्री हिमंता झारखंड विधान सभा चुनाव में भाजपा का करेंगे बेड़ापार||झारखंड में पांच नक्सली ढेर, एक महिला नक्सली समेत दो गिरफ्तार, हथियार बरामद||अब स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग स्कूली बच्चों को नशीले पदार्थो के सेवन से होने वाले दुष्प्रभावों के बारे में करेगा जागरूक||लातेहार: बालूमाथ में अनियंत्रित बाइक दुर्घटनाग्रस्त, दो युवक घायल, सांसद ने पहुंचाया अस्पताल, दोनों रिम्स रेफर||15 ऐसे महत्वपूर्ण कानून और कानूनी अधिकार जो हर भारतीय को जरूर जानने चाहिए||लातेहार में तेज रफ्तार बोलेरो ने घर में सो रहे पांच लोगों को रौंदा, एक की मौत, चार रिम्स रेफर
Tuesday, June 18, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरपलामू प्रमंडलमनिकालातेहार

मनिका: करोड़ों की लागत से हो रहे सड़क निर्माण में धांधली, बालू की जगह डस्ट से हो रही ढलाई

कौशल किशोर पांडेय/मनिका

लातेहार : तुंबागड़ा-केड़ पथ निर्माण में व्यापक पैमाने धांधली बरते जाने का मामला प्रकाश में आया है। पथ निर्माण में मनिका प्रखंड के रांकि कला गांव में शनिवार को हो रही पीसीसी पथ की ढलाई सारे नियम कानूनों को ताक पर रखकर किया जा रहा था।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

गुणवत्ता को ताक पर रखकर संवेदक करा रहा है काम, विभाग मौन

ग्रामीणों ने बताया कि पीसीसी पथ निर्माण में बालू की जगह पत्थर के डस्ट खुलेआम मिलाया जा रहा है। ग्रामीणों का कहना था कि संवेदक पूरी मनमानी तरीके से सारे गुणवत्ता को दरकिनार कर सिर्फ डस्ट से ढलाई कर रहा है। ग्रामीणों ने बताया कि डस्ट से ढलाई होने के बाद सड़क का क्या हाल होगा सोचने वाली बात है।

निर्माण स्थल नहीं थे जेई, जैसे-तैसे संवेदक करा रहा था काम

ग्रामीणों का कहना है कि जहां बालू से ढलाई किया जाना है वहां पर संवेदक डस्ट लाकर सीमेंट की मात्रा को छुपाने के लिए उपयोग कर रहा है। सबसे हम खबर है कि सड़क निर्माण स्थल पर संबंधित विभाग के कनीय अभियंता भी मौजूद नहीं थे। जबकि संवेदक बेधड़क मिक्सर मशीन में डस्ट डलवाकर लेकर ढलाई करवा रहा था।

गुणवत्ता को किया जा रहा दरकिनार

हालांकि कई ग्रामीणों ने बताया कि बालू के महंगा होने के कारण जेई डस्ट के लिए संवेदक को पूरी तरह से छूट दे दी है। ग्रामीणों का कहना था कि जेई खुलेआम बोल रहा था कि इस काम का एमबी मैं बुकिंग करूंगा इसलिए कुछ नहीं होने दूंगा। जबकि करोड़ों की लागत से बन रहे पथ में सारी गुणवत्ता को दरकिनार कर संवेदक और विभाग आपस में घाल-मेल कर लिया है।

क्या है डीपीआर

पीसीसी पथ ढलाई में बालू शरीर की विभिन्न मात्रा और सीमेंट मिलाने का प्रावधान किया जाता है। डस्ट से ढलाई किस परिस्थिति में कराया जा रहा है यह जांच का विषय है।