Breaking :
||चतरा: अत्याधुनिक हथियार के साथ TSPC के तीन उग्रवादी गिरफ्तार||लातेहार में बड़ा रेल हादसा, चार यात्रियों की मौत और कई के घायल होने की सूचना||मोदी 3.0: मोदी सरकार में मंत्रियों के बीच हुआ विभागों का बंटवारा, देखें किसे मिला कौन सा मंत्रालय||गढ़वा: प्रेमी ने गला रेतकर की प्रेमिका की हत्या, शादी का बना रही थी दबाव, बिन बयाही बनी थी मां||मैक्लुस्कीगंज में फायरिंग व आगजनी मामले में पांच गिरफ्तार, ऑनलाइन जुआ खेलाने वाले गिरोह का भंडाफोड़, सात गिरफ्तार||पलामू में शैक्षणिक संस्थानों के 100 मीटर के दायरे में 60 दिनों के लिए निषेधाज्ञा लागू, जानिये वजह||पलामू में युवक की गोली मारकर हत्या, पुलिस जांच तेज||पलामू: संदिग्ध हालत में स्कूल में फंदे से लटका मिला प्रधानाध्यापक का शव, हत्या की आशंका||लातेहार: तालाब में डूबे बच्चे का 24 घंटे बाद भी नहीं मिला शव, तलाश के लिए पहुंची NDRF की टीम||मुख्यमंत्री चंपाई सोरेन ने आलमगीर आलम से लिए सभी विभाग वापस
Saturday, June 15, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडपलामू प्रमंडललातेहार

लातेहार से गिरफ्तार लोगों से संगठन का कोई संबंध नहीं: TSPC

रांची : लातेहार पुलिस द्वारा गिरफ्तार दो व्यक्तियों के टीएसपीसी से संबंध होने के दावे पर उग्रवादी संगठन ने सवाल खड़ा किया है। तृतीय सम्मेलन प्रस्तुति कमेटी (TSPC) के दक्षिणी सब जोनल ब्यूरो जितेंद्र ने इस संबंध में आज प्रेस विज्ञप्ति जारी की है।

विज्ञप्ति में दावा किया गया है कि लातेहार पुलिस ने जिन दो व्यक्तियों को गिरफ्तार किया है, उनका संगठन से कोई संबंध नहीं है। पुलिस टीएसपीसी को अपराधियों से जोड़ रही है। संगठन का किसी भी आपराधिक गिरोह से कोई लेना देना नहीं है।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

विज्ञप्ति में आगे लिखा है कि इन दिनों टीएसपीसी के नाम पर ठेकेदारों और कारोबारियों को धमकाया जा रहा है। ऐसे लोगों को टीएसपीसी ने चिह्नित किया है। यह काम पोचरा का शमसाद अंसारी, जान्हो मतनाग का नंदू शर्मा, कोकी का भीम पासवान और महुआडाड़ का मंजर खान कर रहे हैं। यह लोग रात में कार्यस्थलों पर जाकर ठेकेदारों को धमकाकर मजदूरों के साथ मारपीट करते हैं।

प्रेस विज्ञप्ति के मुताबिक टीएसपीसी किसी भी आपराधिक गिरोह को पैसा उगाही का जिम्मा नहीं देता है। विवेक जी के नाम पर पैसा मांगा जा रहा है। वह जेल में बंद है। नवीन और रविंद्र नाम से भी धमकी दी जाती है। इनसे भी टीएसपीसी का कोई लेनादेना नहीं है। टीएसपीसी मजबूत है। उससे किसी भी आपराधिक गिरोह की जरूरत नहीं है।