Breaking :
||पलामू में बिजली गिरने से तीन किशोर की मौत, बारिश से बचने के लिए पेड़ के नीचे छिपे थे||रांची में करंट लगने से एक ही परिवार के तीन लोगों की मौत, तिरंगा लगाने के दौरान हुआ हादसा||15 अगस्त को झारखंड के 26 पुलिसकर्मियों को विभिन्न सेवाओं के लिए मेडल||रांची में नकली नोटों के तस्कर को पकड़ने गई दिल्ली पुलिस पर ग्रामीणों ने किया हमला, बनाया बंधक||झारखंड जल्द होगा सूखाग्रस्त घोषित, सभी मापदंडों पर तैयार हो रही रिपोर्ट||लातेहार: विद्यालय से उर्दू शब्द हटाए जाने पर मुस्लिम समुदाय में आक्रोश, किया प्रदर्शन||मुख्य धारा में लौटे नक्सलियों के सम्मान समारोह में अधिकारियों ने कहा- सरकार की सेरेंडर पॉलिसी का लाभ उठाएं नक्सली||लातेहार : खेत में धान बो रहे किसान पर गिरी बिजली, पति-पत्नी की मौके पर ही मौत||झारखंड भाजपा को मिलेगा नया प्रदेश अध्यक्ष, नियुक्ति को लेकर कई नामों पर चर्चा||अब झारखंड के बिजली उपभोक्ताओं को मिलेगी 100 यूनिट मुफ्त बिजली

बेमौसम बारिश ने तोड़ दी किसानों की कमर, टमाटर की फसल पर गहरा असर

'

संजय राम/बारियातू

लातेहार में दो दिनों से तूफ़ान के साथ हो रही बारिश और बदली से किसानों को काफी नुकसान हो गया है। इस बेमौसम बारिश से सबसे ज्यादा सब्जी की खेती पर असर पड़ा है। किसानों के मुताबिक तूफ़ान के साथ हो रही बारिश और बदली के कारण टमाटर, फूल गोभी, बैंगन, मिर्च, धनिया आदि फसल कई जगह बर्बाद हो गई है।

बालूमाथ और बारियातू प्रखंड क्षेत्र में हजारों एकड़ में लगी टमाटर की फसल असर पड़ा है। बारियातू प्रखंड के नौ पंचायत के सभी गांव में बड़े पैमाने पर टमाटर की खेती होती है। जो छोटे-बड़े सभी किसानों के लिए आर्थिक आमदनी का बेहतर जरिया है।

मंगलवार की रात तेज आंधी तूफान के साथ लगातार दो घंटे तक हुई बारिश से इटके, अमरवाड़ीह, बेसरा,बेसरा, मकरा, मनातू, शिबला, राजगुरु, गोनिया, गड़गोमा, नावाडीह, छाताबर, चुम्बा बीरबीर, बालूभांग, फुलसू, डाढा, साल्वे, टोटी हेसला, गिद्दी मोड़, बरछिया, गड़गोमा, भाटचतरा, मनातू सहित 56 गांव में हजारों एकड़ में लगे टमाटर की फसल प्रभावित हुआ है। जिससे किसानों को भारी आर्थिक क्षति हुई है।

बता दें कि किसानों द्वारा टमाटर की रोपाई के कुछ दिन बाद ही काफ़ी हिस्सो में लगे पौधे मर गए थे। जो बचे थे उससे टमाटर निकलने लगे थे। जिससे किसानों को अच्छी आमदनी हो रही थी। अचानक आई तेज आंधी पानी से पूरे क्षेत्र में फले और पके टमाटर पर असर पड़ा है। ऐसे में बेमौसम बारिश होने के कारण किसानों की मेहनत पर पानी फिर गया है।


Leave a Reply

Your email address will not be published.