Breaking :
||झारखंड में Suo-Moto Online Mutation की ऐतिहासिक शुरुआत, अब जमीन रजिस्ट्री के बाद म्यूटेशन के लिए नहीं देना पड़ेगा आवेदन||झारखंड प्रशासनिक सेवा के 14 अधिकारियों को मिली अपर सचिव के पद पर पदोन्नति||लातेहार: कब्र से निकाले गये शव की गुत्थी महुआडांड़ पुलिस ने सुलझाया, सास, ससुर व साले ने पीट-पीटकर की थी हत्या||लातेहार: आदिवासी मुख्यमंत्री के कार्यकाल में आदिवासी की मौत के बाद नहीं मिली एंबुलेंस, ठेले पर ले गया शव||पलामू में भाकपा माओवादी के सब जोनल कमांडर नारायण यादव गिरफ्तार||चतरा में भाकपा माओवादी के एरिया कमांडर ने किया पुलिस के सामने सरेंडर||लातेहार: सात दिन पूर्व दफनाये गये शव को महुआडांड़ पुलिस ने कब्र से निकलवाया, हत्या की आशंका||लातेहार : गैंगस्टर गोपाल शार्क शूटर के नाम से पोस्टर चस्पा कर दी चेतावनी, सभी को देनी होगी रंगदारी, दो दिन लातेहार व चंदवा बंद रखने की धमकी||लातेहार में उग्रवादी संगठन JJMP के सबजोनल कमांडर समेत दो गिरफ्तार, हथियार बरामद||झारखंड निकाय चुनाव में ओबीसी को आरक्षण नहीं देने के मामले में सरकार को सुप्रीम कोर्ट का नोटिस

लापरवाही का आरोप : खून की कमी से महिला की मौत, चंदवा सीएचसी में उपलब्धता के बाद भी नहीं चढ़ाया गया खून

लातेहार : माकपा नेता सह सामाजिक कार्यकर्ता अयूब खान ने चंदवा सीएचसी के स्वास्थ्य कर्मियों पर आरोप लगाया है कि उनकी लापरवाही के कारण प्रखंड के कामता गांव निवासी दिवंगत मुनेश्वर महली की पत्नी गीता देवी (60 वर्ष) की मौत खून की कमी से हो गयी। .

जारी प्रेस विज्ञप्ति में उन्होंने बताया है कि मंगलवार को गीता देवी के पेट में अचानक दर्द उठा था। जिन्हें परिजनों की सहायता से ईलाज के लिए चंदवा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र लाया गया।

माकपा नेता सह सामाजिक कार्यकर्ता अयूब खान

जहां जांच के बाद चिकित्सकों ने ब्लड की कमी बताते हुए परिजनों को ब्लड की व्यवस्था करने को कहा गया। चिकित्सकों ने महिला के शरीर में 5 ग्राम ब्लड होने की बात बताई थी।

उन्होंने आगे बताया है कि बुधवार 12 बजे दिन में ही परिजनों ने अस्पताल को ब्लड उपलब्ध करा दिया गया। लेकिन शाम तक मरीज गीता को अस्पताल में ब्लड नहीं चढ़ाया गया। जब बुधवार की देर रात उनकी हालत बिगड़ी तो उन्हें सदर अस्पताल लातेहार रेफर कर दिया गया। जहां गुरुवार की अहले सुबह ब्लड चढ़ने के क्रम में गीता की मौत हो गई।

आगे बताया कि ब्लड अस्पताल में घंटों पड़ा रह गया लेकिन मरीज को चढ़ाया नहीं गया। एक तरफ अस्पताल में रक्त की कमी बताई गई वहीं दूसरी ओर ब्लड रहते हुए मरीज को नहीं चढ़ाया गया। परिजनों को मलाल है कि ब्लड आते ही मरीज को चंदवा अस्पताल में ब्लड चढा दिया जाता और ब्लड चढ़ते हुए लातेहार भेज दिया जाता तो गीता की जान बच सकती थी।

उन्होंने इस मामले में बीपीएम को दोषी ठहराते हुए कहा कि बीपीएम का पुनः चंदवा सीएचसी में पदस्थापना और उसके द्वारा बरती जा रही लापरवाही से ग्रामीण क्षेत्रों में स्वास्थ्य व्यवस्था चरमरा गई है।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *