Breaking :
||पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की जमानत याचिका पर कल होगी सुनवाई||लातेहार में भीषण सड़क हादसा, शादी समारोह से लौट रही कार पेड़ से टकरायी, पति की मौत, पत्नी और पोते की हालत नाजुक||लातेहार: सिरफिरे युवक ने दो महिलाओं समेत पिता को कुल्हाड़ी से काट डाला, गिरफ्तार||झारखंड एकेडमिक काउंसिल कल जारी करेगा मैट्रिक और इंटर का रिजल्ट||लातेहार: चुनाव प्रशिक्षण में बिना सूचना के अनुपस्थित रहे SBI सहायक पर FIR दर्ज||ED ने जमीन घोटाला मामले में आरोपियों के पास से बरामद किये 1 करोड़ 25 लाख रुपये||झारखंड में हीट वेब को लेकर इन जिलों में येलो अलर्ट जारी, पारा 43 डिग्री के पार||सतबरवा सड़क हादसे में मारे गये दोनों युवकों की हुई पहचान, यात्री बस की चपेट में आने से हुई थी मौत||झारखंड: रामनवमी जुलूस रोके जाने से लोगों में आक्रोश, आगजनी, पुलिस की गाड़ियों में तोड़फोड़, लाठीचार्ज||लातेहार में भीषण सड़क हादसा, दो बाइकों की टक्कर में तीन युवकों की मौत, महिला समेत चार घायल, दो की हालत नाजुक
Tuesday, April 23, 2024
झारखंड

भोजपुरी, मगही को क्षेत्रीय भाषा से हटाने के फैसले के खिलाफ 6 मार्च को झारखंड बंद

Jharkhand Bandh 6 March

रांची : घोषित कार्यक्रम के तहत हरमू विद्यानगर (रांची) में 6 मार्च को अखिल भारतीय भोजपुरी मगही मैथिली अंगिका मंच के बैनर तले 28 संगठनों की बैठक हुई. इसमें हेमंत सरकार के बोकारो, धनबाद से भोजपुरी, मगही को क्षेत्रीय भाषा से हटाने के फैसले का विरोध किया गया था। यह भी कहा गया कि 1932 खतियान आधारित स्थानीय नीति की मांग निराधार है। मंच की अध्यक्षता करते हुए कैलाश यादव ने कहा कि प्रदेश के सभी जिलों में उर्दू की तरह भोजपुरी, मगही, मैथिली, अंगिका और हिंदी को भी क्षेत्रीय भाषाओं में शामिल किया जाए । राज्य में भाषाई विवाद और 1932 के खतियान जैसे विषय निश्चित रूप से हेमंत सरकार द्वारा प्रायोजित हैं।

तीसरी, चौथी पीढ़ी के बिहारियों और झारखंड में रहने वाले अन्य लोगों को जानबूझकर भोजपुरी, मगही, मैथिली, अंगिका भाषाओं के अधीन किया गया और शिक्षा मंत्री जगरनाथ महतो द्वारा घुसपैठियों, अतिक्रमणकारियों और बाहरी लोगों द्वारा लगातार व्यक्तिगत हमलों का शिकार होना पड़ा। यह लोकतांत्रिक व्यवस्था के प्रतिकूल है। अब सभी चौबीस जिलों में दूसरी राजभाषा, उर्दू की तर्ज पर क्षेत्रीय भाषा में भोजपुरी, मगही, मैथिली, अंगिका और हिंदी को शामिल करने की मांग की जाएगी । 1932 की खतियान आधारित स्थानीय नीति की आधारहीन और असंवैधानिक मांग के विरोध में 6 मार्च को संपूर्ण झारखंड बंद का ऐलान किया गया है । इस दौरान कई विषयों पर प्रस्ताव भी पारित किए गए।

जयहिंद पार्टी के बबन चौबे ने कहा कि हेमंत सरकार के अपने फैसले को निरस्त नहीं करने तक पूरे राज्य में चरणबद्ध तरीके से जिला स्तर पर विरोध सभा आयोजित की जाएगी। जेडीयू नेता उपेंद्रनारायण सिंह ने कहा कि अगर हेमंत सरकार 6 मार्च को झारखंड बंद की घोषणा से पहले भोजपुरी मगही को हटाने का फैसला वापस लेती है तो झारखंड बंद स्थगित कर दिया जाएगा। नहीं तो आंदोलन तेज कर दिया जाएगा।

Jharkhand Bandh 6 March


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *