Breaking :
||पलामू में जन वितरण प्रणाली दुकानदार की गोली मारकर हत्या, पुलिस कर रही जांच||लातेहार: युवक हत्याकांड का खुलासा, भाभी ने ही करा दी देवर की हत्या, दो आरोपी गिरफ्तार||थर्ड रेल लाइन निर्माण कार्य में लगी कंपनी के साइट पर नक्सलियों का उत्पात, फायरिंग कर जेसीबी में लगायी आग||दुर्गा पूजा पर आयोजित कार्यक्रम देख लौट रही नाबालिग से सामूहिक दुष्कर्म||हजारीबाग: तीर्थयात्रियों से भरे बस और ट्रक की सीधी टक्कर में 4 की मौत, 30 घायल||लातेहार: ढाबा चलाने की आड़ में अफीम व डोडा पाउडर बेचने के आरोप में ढाबा संचालक गिरफ्तार||रांची: गैस रिफिलिंग की दुकान में रखे सिलेंडर में हुए विस्फोट से चार दुकानें जलकर राख||चतरा में पुलिस और नक्सलियों के बीच मुठभेड़, भारी मात्रा में सामान और हथियार बरामद||लातेहार: दशहरा व दुर्गा पूजा को लेकर मिठाई व फास्ट फूड दुकानों की हुई जांच, पांच दुकानों पर कार्रवाई, लगा जुर्माना||पलामू सिविल सर्जन 50 हजार रुपये की रिश्वत लेते रंगेहाथ गिरफ्तार, बिल भुगतान के एवज में मांगी थी रिश्वत

नक्सलियों के खिलाफ अभियान को और तेज करने के लिए झारखंड पुलिस और सीआरपीएफ के आला अधिकारी पहुंचे लोहरदगा

'

Jharkhand Naxal news

लोहरदगा: नक्सलियों के खिलाफ अभियान को और तेज करने के लिए झारखंड पुलिस और सीआरपीएफ के आला अधिकारी गुरुवार को हेलीकॉप्टर से लोहरदगा पहुंचे। इनमें झारखंड पुलिस के आईजी ऑपरेशन एवी होमकर, सीआरपीएफ के आईजी राजीव सिंह, पुलिस के डीआईजी अमोल पालेकर शामिल थे। बीएस कॉलेज स्टेडियम में हेलीकॉप्टर से आए आला अधिकारियों का लोहरदगा एसपी प्रियंका मीणा और एसडीपीओ बीएन सिंह ने स्वागत किया।

इन सभी पुलिस और सीआरपीएफ के आला अधिकारियों की लोहरदगा सर्किट हाउस और सीआरपीएफ मुख्यालय में पुलिस और सीआरपीएफ के आला अधिकारियों के साथ बैठक हुई। इसमें लोहरदगा के बुलबुल जंगल में नक्सलियों के खिलाफ जारी अभियान को अंत तक ले जाने की रणनीति तय की गई।

पुलिस और सीआरपीएफ के संयुक्त अभियान में नक्सलियों को काफी नुकसान हुआ है। एक नक्सली मारा गया है, जबकि लोहरदगा और लातेहार जिलों में सुरक्षा बलों ने अब तक कुल दस नक्सलियों को पकड़ा है। फिलहाल सुरक्षाबल बाकी नक्सलियों की जंगलों में तलाश में जुटे हैं। उनके काफी हथियार भी बरामद किए गए हैं।

सुरक्षाबलों ने खाने-पीने का सामान और जरूरी सामान भी जब्त कर लिया है। पूरे इलाके की मैपिंग की जा रही है. सुरक्षा बल नक्सलियों द्वारा बिछाई गई आईईडी को नष्ट करने और उसे बरामद करने का काम भी कर रहे हैं।

आईजी अभियान ने कहा कि ऑपरेशन की कोई सीमा नहीं होती है कि कब शुरू होता है कब खत्म होता है। यह लगातार चलने की प्रक्रिया है जब तक हम अपना लक्ष्य हासिल नहीं कर लेते। जब तक क्षेत्र को नक्सलवाद की काली छाया से मुक्त नहीं कर लेते तब तक अभियान चलता रहेगा। अभी भी कुछ इलाकों में ऑपरेशन जारी है जहां नक्सलियों की मौजूदगी की सूचना है। नक्सलियों के समर्थकों के खिलाफ भी कार्रवाई की जा रही है।

यह अभियान अभूतपूर्व था क्योंकि यह लगातार 12 दिनों तक चला था। हमारे जवानों को भी शुरुआत में नुकसान हुआ। ऑपरेशन में शामिल तीन कोबरा जवान बारूदी सुरंग की चपेट में आने से घायल हो गए।

इसके बाद भी जवानों ने हिम्मत दिखाई और पूरे आत्मविश्वास के साथ इस अभियान को जारी रखा, जिसके फलस्वरूप झारखंड पुलिस और सीआरपीएफ को ऐतिहासिक सफलता मिली है। मुठभेड़ के दौरान एक इनामी नक्सली मारा गया। जोनल कमांडर बलराम सहित कोर दस्ते के नौ नक्सलियों को गिरफ्तार किया गया। भारी मात्रा में हथियार, गोला-बारूद और अन्य सामान बरामद किया गया। इस पूरे अभियान से क्षेत्र के आम लोगों का विश्वास भी बढ़ा है। इलाके के लोग भी नक्सलियों से त्रस्त हैं।

नक्सलियों ने खुद को बचाने के लिए जंगलों में प्रेशर आईडी और बारूदी सुरंगें लगा रखी हैं, जिससे आए दिन आम नागरिक मर रहे हैं, उनके जानवर मर रहे हैं। इसके साथ ही आईजी अभियान ने सरकार की सरेंडर नीति का फायदा उठाते हुए नक्सलियों से हथियार डालने की अपील की। नहीं तो परिणाम भुगतने को कहा।

अंत में उन्होंने कहा कि नक्सलियों के समर्थकों की पहचान की जा रही है. मुठभेड़ के दौरान जंगल से भागकर शहर में छिपे नक्सलियों की भी तलाश की जा रही है।

Jharkhand Naxal news


Leave a Reply

Your email address will not be published.