Breaking :
||लातेहार: बालूमाथ में फिर एक विवाहिता ने फांसी लगाकर की आत्महत्या, पुलिस जांच में जुटी||लातेहार: बालूमाथ में विवाहिता ने फांसी लगाकर की आत्महत्या, मायके वालों ने लगाया हत्या का आरोप||लातेहार: मनिका में सड़क निर्माण स्थल पर उग्रवादियों का हमला, JCB मशीन में लगायी आग||वेतन नहीं मिलने से नहीं हुआ बेहतर इलाज, गढ़वा में DRDA कर्मी की मौत||लातेहार: हेरहंज में पेड़ से गिरकर युवक की मौत, परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल||लातेहार: सड़क दुर्घटना में घायल महिला की इलाज के दौरान मौत, मुआवजे की मांग को लेकर सड़क जाम||लातेहार: महुआडांड में आदिवासी महिला से दुष्कर्म के बाद बनाया वीडियो, वायरल करने व जान से मारने की धमकी||लातेहार: चंदवा पुलिस ने अभिजीत पावर प्लांट से लोहा चोरी कर ले जा रहे पिकअप को पकड़ा, एक गिरफ्तार||लातेहार: महुआडांड़ में बस और बाइक की जोरदार टक्कर में दो युवकों की मौत, एक गंभीर, देखें तस्वीरें||पलामू: मनरेगा कार्य में लापरवाही बरतने के आरोप में दो जेई सेवामुक्त, एक पर कानूनी कार्रवाई करने का निर्देश

नक्सलियों के खिलाफ अभियान को और तेज करने के लिए झारखंड पुलिस और सीआरपीएफ के आला अधिकारी पहुंचे लोहरदगा

Jharkhand Naxal news

लोहरदगा: नक्सलियों के खिलाफ अभियान को और तेज करने के लिए झारखंड पुलिस और सीआरपीएफ के आला अधिकारी गुरुवार को हेलीकॉप्टर से लोहरदगा पहुंचे। इनमें झारखंड पुलिस के आईजी ऑपरेशन एवी होमकर, सीआरपीएफ के आईजी राजीव सिंह, पुलिस के डीआईजी अमोल पालेकर शामिल थे। बीएस कॉलेज स्टेडियम में हेलीकॉप्टर से आए आला अधिकारियों का लोहरदगा एसपी प्रियंका मीणा और एसडीपीओ बीएन सिंह ने स्वागत किया।

इन सभी पुलिस और सीआरपीएफ के आला अधिकारियों की लोहरदगा सर्किट हाउस और सीआरपीएफ मुख्यालय में पुलिस और सीआरपीएफ के आला अधिकारियों के साथ बैठक हुई। इसमें लोहरदगा के बुलबुल जंगल में नक्सलियों के खिलाफ जारी अभियान को अंत तक ले जाने की रणनीति तय की गई।

पुलिस और सीआरपीएफ के संयुक्त अभियान में नक्सलियों को काफी नुकसान हुआ है। एक नक्सली मारा गया है, जबकि लोहरदगा और लातेहार जिलों में सुरक्षा बलों ने अब तक कुल दस नक्सलियों को पकड़ा है। फिलहाल सुरक्षाबल बाकी नक्सलियों की जंगलों में तलाश में जुटे हैं। उनके काफी हथियार भी बरामद किए गए हैं।

सुरक्षाबलों ने खाने-पीने का सामान और जरूरी सामान भी जब्त कर लिया है। पूरे इलाके की मैपिंग की जा रही है. सुरक्षा बल नक्सलियों द्वारा बिछाई गई आईईडी को नष्ट करने और उसे बरामद करने का काम भी कर रहे हैं।

आईजी अभियान ने कहा कि ऑपरेशन की कोई सीमा नहीं होती है कि कब शुरू होता है कब खत्म होता है। यह लगातार चलने की प्रक्रिया है जब तक हम अपना लक्ष्य हासिल नहीं कर लेते। जब तक क्षेत्र को नक्सलवाद की काली छाया से मुक्त नहीं कर लेते तब तक अभियान चलता रहेगा। अभी भी कुछ इलाकों में ऑपरेशन जारी है जहां नक्सलियों की मौजूदगी की सूचना है। नक्सलियों के समर्थकों के खिलाफ भी कार्रवाई की जा रही है।

यह अभियान अभूतपूर्व था क्योंकि यह लगातार 12 दिनों तक चला था। हमारे जवानों को भी शुरुआत में नुकसान हुआ। ऑपरेशन में शामिल तीन कोबरा जवान बारूदी सुरंग की चपेट में आने से घायल हो गए।

इसके बाद भी जवानों ने हिम्मत दिखाई और पूरे आत्मविश्वास के साथ इस अभियान को जारी रखा, जिसके फलस्वरूप झारखंड पुलिस और सीआरपीएफ को ऐतिहासिक सफलता मिली है। मुठभेड़ के दौरान एक इनामी नक्सली मारा गया। जोनल कमांडर बलराम सहित कोर दस्ते के नौ नक्सलियों को गिरफ्तार किया गया। भारी मात्रा में हथियार, गोला-बारूद और अन्य सामान बरामद किया गया। इस पूरे अभियान से क्षेत्र के आम लोगों का विश्वास भी बढ़ा है। इलाके के लोग भी नक्सलियों से त्रस्त हैं।

नक्सलियों ने खुद को बचाने के लिए जंगलों में प्रेशर आईडी और बारूदी सुरंगें लगा रखी हैं, जिससे आए दिन आम नागरिक मर रहे हैं, उनके जानवर मर रहे हैं। इसके साथ ही आईजी अभियान ने सरकार की सरेंडर नीति का फायदा उठाते हुए नक्सलियों से हथियार डालने की अपील की। नहीं तो परिणाम भुगतने को कहा।

अंत में उन्होंने कहा कि नक्सलियों के समर्थकों की पहचान की जा रही है. मुठभेड़ के दौरान जंगल से भागकर शहर में छिपे नक्सलियों की भी तलाश की जा रही है।

Jharkhand Naxal news


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *