Breaking :
||भाजपा की मोटरसाइकिल रैली पर पथराव, कार्यकर्ताओं के साथ मारपीट, कई घायल||झारखंड की तीन लोकसभा सीटों पर चुनाव प्रचार थमा, 20 मई को वोटिंग||पिता के हत्यारे बेटे की निशानदेही पर हत्या में प्रयुक्त बंदूक बरामद समेत पलामू की तीन ख़बरें||चतरा लोकसभा क्षेत्र के नक्सल प्रभावित इलाके में नौ बूथों का स्थान बदला, जानिये||झारखंड हाई कोर्ट में 20 मई से ग्रीष्मकालीन अवकाश||पलामू: हार्डकोर इनामी माओवादी नीतेश के दस्ते का सक्रिय सदस्य गिरफ्तार||लातेहार: 65 हेली ड्रॉपिंग बूथ के लिए शुभकामनायें लेकर मतदान कर्मी रवाना||KIDZEE लातेहार के बच्चों ने मतदाताओं से की अपील- पहले मतदान, फिर कोई काम||पलामू में शौच के लिए निकली नाबालिग से सामूहिक दुष्कर्म, चार आरोपी गिरफ्तार||लातेहार अनुमंडल क्षेत्र में चुनाव के मद्देनजर चार जून तक धारा 144 लागू
Sunday, May 19, 2024
झारखंड

​​राधेश्याम से बना 25 लाख का इनामी माओवादी विमल यादव ने पुलिस के समक्ष किया आत्मसमर्पण

Jharkhand Naxalite Surrender

रांची : 25 लाख के इनामी नक्सली विमल यादव उर्फ ​​उमेश यादव उर्फ ​​राधेश्याम ने शुक्रवार को आईजी कार्यालय में अधिकारियों के समक्ष समर्पण कर दिया। माओवादी संगठन से जुड़े विमल यादव ने 90 के दशक में कुरियर बॉय का काम शुरू किया था। वहीं से वह आज के समय में 25 लाख का इनामी नक्सली बन गया।

मूल रूप से सलेमपुर थाना, करौना जिला, जहानाबाद, बिहार के रहने वाले विमल यादव अरविंद की मौत के बाद कमान संभाल रहे थे। माओवादियों के लिए सबसे सुरक्षित माने जाने वाले बूढ़ा पहाड़ इलाके में विमल काफी कद का माना जाता था।

2005 में सब-जोनल कमांडर बने, 2009 में जोनल कमांडर, 2011 में रीजनल सदस्य, 2012 में सैक सदस्य, दिसंबर 2018 में प्लाटून, 2019 में सुधाकरन की मृत्यु के बाद प्लाटून की कमान संभाली।

विमल यादव उर्फ ​​राधेश्याम यादव उर्फ ​​उमेश यादव के घर का नाम राधेश्याम यादव था। जब वे संगठन से जुड़े तो विमल यादव नाम दिया गया। 1993 में विमल इंटर का छात्र था। उस समय चचेरे भाई रामबालक प्रसाद यादव और बेचन यादव से जमीन का विवाद चल रहा था. इस वजह से मजदूर किसान संग्राम समिति में काम करने लगा।

उसके बाद वह किसान संगमी परिषद का सक्रिय सदस्य रहा। 1999 में निशांत उर्फ ​​अरविंद से मिलने के बाद, वह भाकपा-माओवादी के सक्रिय सदस्य के रूप में एक कूरियर के रूप में काम करना शुरू किया।

Jharkhand Naxalite Surrender


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *