Breaking :
||पलामू में जन वितरण प्रणाली दुकानदार की गोली मारकर हत्या, पुलिस कर रही जांच||लातेहार: युवक हत्याकांड का खुलासा, भाभी ने ही करा दी देवर की हत्या, दो आरोपी गिरफ्तार||थर्ड रेल लाइन निर्माण कार्य में लगी कंपनी के साइट पर नक्सलियों का उत्पात, फायरिंग कर जेसीबी में लगायी आग||दुर्गा पूजा पर आयोजित कार्यक्रम देख लौट रही नाबालिग से सामूहिक दुष्कर्म||हजारीबाग: तीर्थयात्रियों से भरे बस और ट्रक की सीधी टक्कर में 4 की मौत, 30 घायल||लातेहार: ढाबा चलाने की आड़ में अफीम व डोडा पाउडर बेचने के आरोप में ढाबा संचालक गिरफ्तार||रांची: गैस रिफिलिंग की दुकान में रखे सिलेंडर में हुए विस्फोट से चार दुकानें जलकर राख||चतरा में पुलिस और नक्सलियों के बीच मुठभेड़, भारी मात्रा में सामान और हथियार बरामद||लातेहार: दशहरा व दुर्गा पूजा को लेकर मिठाई व फास्ट फूड दुकानों की हुई जांच, पांच दुकानों पर कार्रवाई, लगा जुर्माना||पलामू सिविल सर्जन 50 हजार रुपये की रिश्वत लेते रंगेहाथ गिरफ्तार, बिल भुगतान के एवज में मांगी थी रिश्वत

नक्सली बंदी कल, पुलिस और प्रशासन सतर्क

'

नक्सली बंदी

माओवादियों ने 5 अप्रैल को चार राज्यों में बंद की घोषणा की है। इसकी घोषणा करते हुए पूर्वी रीजनल ब्यूरो माओवादी के प्रवक्ता संकेत ने प्रेस रिलीज जारी किया है। प्रेस रिलीज जारी कर बिहार, झारखंड, पश्चिम बंगाल और असम बंद करने की घोषणा की है।

जारी प्रेस रिलीज में बताया गया है कि केंद्रीय कमेटी और पूर्वी रीजनल ब्यूरो सदस्य अरुण कुमार भट्टाचार्य उर्फ कंचन की गिरफ्तारी के विरोध में बंद बुलाया गया है। रिलीज में बताया गया है कि कंचन को हिरासत में लेकर पूछताछ के नाम पर मानसिक यातनाएं दी जा रही है। बेहतर इलाज की समुचित व्यवस्था, आवश्यक दवाएं मुहैया करने में कोताही बरतने, राजनीतिक बंदी का दर्जा देने और अविलंब बिना शर्त रिहा करने को लेकर 5 अप्रैल को बंद बुलाया गया है।

पुलिस और प्रशासन सतर्क

इस चेतावनी के बाद झारखंड पुलिस सतर्क हो गई है। बंद को देखते हुए रेलवे और झारखंड पुलिस अलर्ट हो गई है। पुलिस मुख्यालय ने जिले के सभी एसपी को सतर्क रहने और अति संवेदनशील इलाकों में गश्त बढ़ाने के निर्देश दिए हैं।

इसे भी पढ़ें :- नेतरहाट स्कूल में एडमिशन के लिए झारखण्ड का निवासी होना अनिवार्य

नक्सली बंद के दौरान माओवादी पुलिस बलों पर हमला करने का प्रयास किया जा सकता है। ऐसे में किसी भी अप्रिय घटना से बचने के लिए पुलिस को पूरी तरह सतर्क और तैयार रहने को कहा गया है। आईजी अभियान के मुताबिक नक्सली बंद के दौरान उनका मुख्य फोकस नक्सलियों के उन इलाकों पर है जहां वे सक्रिय हैं। लातेहार, गढ़वा, रांची के पारसनाथ, झुमरा, नक्सल प्रभावित क्षेत्रों, पलामू कोल्हान, सरायकेला, गुमला जैसे जिलों पर विशेष नजर रखने पर जोर दिया गया।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरें देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

नक्सली बंदी