Breaking :
||लातेहार: दुकान में चोरी करने आये तीन चोर आग में झुलसे, एक की मौत, दो गंभीर||झारखंड की चार लोकसभा सीटों पर वोटिंग कल, 82 लाख मतदाता करेंगे 93 उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला||पलामू: तत्कालीन एसपी के फर्जी हस्ताक्षर से बने 12 चरित्र प्रमाण पत्र, बड़ा गिरोह सक्रिय||ED की टीम फिर पहुंची आलमगीर आलम के पीएस संजीव लाल के नौकर जहांगीर के घर||झारखंड: ज्वैलर्स शोरूम से दो लाख रुपये नकद समेत 50 लाख के आभूषण की लूट||निशिकांत दुबे के खिलाफ चुनाव आयोग से शिकायत||लातेहार: चुनाव कार्य में लापरवाही बरतने वाले 9 कर्मियों पर प्राथमिकी दर्ज||बंगाल की खाड़ी में बन रहे लो प्रेशर का झारखंड में असर, ऑरेंज अलर्ट जारी, झमाझम बारिश से लोगों को गर्मी से मिली राहत||जेठानी ने देवरानी पर लगाये गंभीर आरोप, कहा- कल्पना सोरेन के इशारे पर मेरी दोनों बेटियों को मारने की थी कोशिश||गढ़वा: JJMP जोनल कमांडर के नाम पर पूर्व विधायक सत्येंद्र नाथ तिवारी को धमकी
Saturday, May 25, 2024
झारखंडरांची

निलंबित कांग्रेस विधायकों को स्पीकर का नोटिस, शिल्पी नेहा तिर्की, अनूप सिंह और भूषण बड़ा की शिकायत पर पार्टी ने की है कार्रवाई की मांग

रांची : झारखंड में जारी राजनीतिक उठापटक के बीच कांग्रेस ने पार्टी विरोधी कार्य में शामिल तीन निलंबित विधायक इरफान अंसारी, नमन विक्सल कोंगाडी और राजेश कच्छप पर स्पीकर ट्रिब्यूनल में शिकायत दर्ज कराई है।

स्पीकर ने उन्हें नोटिस भेजा है। कांग्रेस विधायक दल के नेता आलमगीर आलम ने तीनों विधायकों पर दलबदल का आरोप लगाते हुए कार्रवाई की मांग की है।

रांची की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

जानकारी के मुताबिक स्पीकर ट्रिब्यूनल ने तीनों विधायकों को नोटिस जारी किया है। उन्हें एक सितंबर तक अपना पक्ष रखने को कहा गया है। जमानत मिलने के बाद तीनों विधायक कोलकाता में हैं। कांग्रेस विधायक शिल्पी नेहा तिर्की, अनूप सिंह और भूषण बड़ा की शिकायत पर कार्रवाई की मांग की गई है।

शिकायत करने वाले विधायकों के अनुसार, तीन निलंबित विधायकों को भाजपा में शामिल होने के लिए 10 करोड़ रुपये और एक मंत्री पद की पेशकश की गई थी। इससे पहले पार्टी ने तीनों विधायकों को कारण बताओ नोटिस जारी किये गया था।

आपको बता दें कि बीते दिनों तीनों विधायक हावड़ा में पकड़े गए थे और उनके पास से 49 लाख रुपये नकद बरामद हुए थे। कोलकाता सीआईडी ​​पूरे मामले की जांच कर रही है। हाल ही में जमानत पर जेल से बाहर आने के बाद इरफान अंसारी और राजेश कच्छप ने खुद को कांग्रेस का वफादार सिपाही बताते हुए खुद को साजिश में फंसाने का आरोप लगाया था।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

कांग्रेस के इस कदम से साफ हो गया है कि मौजूदा राजनीतिक हालात में सभी विधायकों को यह बताने की कोशिश की जा रही है कि अगर पार्टी के फैसले के खिलाफ जाते हैं तो बड़ी कार्रवाई हो सकती है।