Breaking :
||सीएम हेमंत सोरेन की नहीं होगी गिरफ्तारी, ईडी के पास कोई पुख्ता सबूत नहीं||झारखंड से कोरोना की विदाई, सभी जिले कोरोना मुक्त घोषित||झारखंड: प्रमाण पत्र सत्यापन नहीं कराने वाले सहायक अध्यापक होंगे कार्यमुक्त||झारखंड में Suo-Moto Online Mutation की ऐतिहासिक शुरुआत, अब जमीन रजिस्ट्री के बाद म्यूटेशन के लिए नहीं देना पड़ेगा आवेदन||झारखंड प्रशासनिक सेवा के 14 अधिकारियों को मिली अपर सचिव के पद पर पदोन्नति||लातेहार: कब्र से निकाले गये शव की गुत्थी महुआडांड़ पुलिस ने सुलझाया, सास, ससुर व साले ने पीट-पीटकर की थी हत्या||लातेहार: आदिवासी मुख्यमंत्री के कार्यकाल में आदिवासी की मौत के बाद नहीं मिली एंबुलेंस, ठेले पर ले गया शव||पलामू में भाकपा माओवादी के सब जोनल कमांडर नारायण यादव गिरफ्तार||चतरा में भाकपा माओवादी के एरिया कमांडर ने किया पुलिस के सामने सरेंडर||लातेहार: सात दिन पूर्व दफनाये गये शव को महुआडांड़ पुलिस ने कब्र से निकलवाया, हत्या की आशंका

रांची में टीपीसी उग्रवादी भीखन गंझू समेत दो गिरफ्तार, 10 लाख का था इनामी, NIA को थी तलाश

रांची : एसएसपी सुरेंद्र कुमार झा को मिली गुप्त सूचना के आधार पर रांची पुलिस की टीम ने 17 मार्च को सदर थाना क्षेत्र के ढेलटोली में छापेमारी की। छापेमारी में 10 लाख के इनामी टीपीसी उग्रवादी भीखन गंझू और राहुल मुंडा को लेवी की राशि के साथ गिरफ्तार किया गया है।

गिरफ्तार उग्रवादी पर चतरा जिले के पिपरवार, टंडवा, लवलोंग और पत्थलगड़ा, जबकि रांची जिले के खलारी, बुढ़मू, मैक्लुस्कीगंज और कांके पुलिस थानों में कुल 26 मामले दर्ज हैं। भीखन गंझू झारखंड पुलिस के साथ-साथ एनआईए के राडार पर आतंकी फंडिंग और विदेशी हथियारों की तस्करी में था। एनआईए ने भीखन को मोस्ट वांटेड घोषित किया था।

पुलिस ने उसके पास से 12.32 लाख रुपये लेवी, सात मोबाइल, दो राउटर, टीपीसी का लेटर पैड, एक लैपटॉप और कई अन्य सामान बरामद किया है। एनआईए भीखन को भी रिमांड पर लेगी और 13 फंडिंग हथियारों की तस्करी और कई अन्य मामलों से पूछताछ करेगी। ऐसे में कई बड़े नाम सामने आने की संभावना है।

चतरा जिले के पिपरवार थाना क्षेत्र में रहने वाला टीपीसी का आतंकी भीखन गंझू एनआईए की रडार पर था। एनआईए ने भीखन गंझू पर आतंकी फंडिंग के मामले में केस दर्ज किया है। एनआईए को मगध आमपराली कोयला परियोजना में आतंकी फंडिंग, उग्रवादी परमेश्वर गंझू से लेवी राशि की बरामदगी और पूर्णिया हथियार रैकेट मामले में भीखनकी तलाश थी।

भीखन गंझू सीसीएल कर्मचारी है। जबकि उग्रवादी संगठन में कमांडर है। पिपरवार के अशोका, टंडवा के मगध-आम्रपाली प्रोजेक्ट में टेरर फंडिंग के मामले में एनआईए ने चार्जशीट दाखिल की है। जबकि एनआईए ने नागालैंड से हथियारों की तस्करी में भीखन पर चार्जशीट भी दाखिल की है। इन मामलों में वह फरार था। मोस्ट वांटेड होने के बावजूद वह इन दिनों कोयले के कारोबार में सक्रिय था। हाल ही में टंडवा में आगजनी की घटना में भीखन का नाम भी सामने आया था।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *