Breaking :
||लोहरदगा में हथियार के साथ एक गिरफ्तार, एक भागने में सफल, भारी मात्रा में हथियार व गोलियां बरामद||सीएम हेमंत सोरेन का ऐलान, नेतरहाट फील्ड फायरिंग रेंज होगी रद्द, ग्रामीण 30 साल से कर रहे थे आंदोलन||कोलकाता हाईकोर्ट ने कांग्रेस के तीनों विधायकों को दी सशर्त अंतरिम जमानत||लातेहार: फिर एक महिला ने इलाज के बहाने डॉक्टर पर लगाया छेड़खानी का आरोप||बिहार में नीतीश कैबिनेट का विस्तार, 31 मंत्रियों ने ली शपथ, तेज प्रताप फिर बने मंत्री||DGP नीरज सिन्हा ने कहा- पिछले तीन साल में 1,526 नक्सली गिरफ्तार, 51 मारे गये||जम्मू-कश्मीर में जवानों से भरी बस खाई में गिरी, 7 जवान शहीद, 32 घायल, राष्ट्रपति ने व्यक्त की संवेदना||JPSC के पूर्व अध्यक्ष IPS अमिताभ चौधरी का हार्ट अटैक से निधन||लातेहार: पीटीआर के गारू पूर्वी वन क्षेत्र में हाथी की मौत, पोस्टमार्टम के लिए पहुंची मेडिकल टीम||पलामू में बिजली गिरने से तीन किशोर की मौत, बारिश से बचने के लिए पेड़ के नीचे छिपे थे

बालूमाथ: 9 सूत्री मांगों को लेकर हड़ताल पर गयीं आंगनबाड़ी सेविकायें लौटी वापस

'

शशि भूषण गुप्ता/बालूमाथ

लातेहार : झारखंड प्रदेश आंगनवाडी वर्क्स यूनियन के तत्वधान में बालूमाथ बाल विकास परियोजना अंतर्गत पड़ने वाले बालूमाथ, बारियातू तथा हेरंज प्रखंड क्षेत्र के सैकड़ों आंगनबाड़ी सेविका-सहायिका अपनी 9 सूत्री मांगों को लेकर 5 जुलाई से हड़ताल पर चली गई थी। जो आज 18 जुलाई से वापस लौट गई हैं।

इस संबंध में आंगनबाड़ी सेविकाओं ने इसकी लिखित सूचना मुख्यमंत्री के नाम बालूमाथ स्थित परियोजना कार्यालय के प्रधान सहायक को ज्ञापन सौंपा है।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

उल्लेखनीय है कि ज्ञापन के माध्यम से 11 माह से लंबित मानदेय तत्काल भुगतान करने के साथ-साथ आंगनबाड़ी सेविका सहायिका की नियमावली बनाने, समान काम समान वेतन लागू करने, वर्तमान झारखंड सरकार द्वारा चुनावी घोषणा पत्र में आंगनबाड़ी सेविका को 10000 और सहायिका को ₹8000 देने, सेवानिवृत्त होने पर आर्थिक लाभ एकमुश्त ₹500000 तथा पेंशन लागू करने, लघु आंगनबाड़ी सेविकाओं को आंगनबाड़ी सेविका के बराबर मानदेय देने आदि प्रमुख मांगे हैं।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

मौके पर आगनबाडी वर्क्स यूनियन के संगीता देवी, लक्ष्मी देवी, अंजनी देवी, नंदिनी देवी, सुनीता देवी, बबीता देवी, डोली कुमारी समेत काफी संख्या में आंगनबाड़ी सेविका और सहायिका मौजूद थीं।