Breaking :
||कोयला लदे हाइवा व ट्रक की भीषण टक्कर में दोनों चालकों की दर्दनाक मौत||रांची: असामाजिक तत्वों ने मेन रोड स्थित हनुमान मंदिर में की तोड़फोड़, प्रतिमा क्षतिग्रस्त||बालूमाथ: वज्रपात की चपेट में आने से पत्नी की मौत, पति समेत दो घायल||पातम-डाटम जलप्रपात में डूबे दोनों युवकों के शव बरामद, प्रशासनिक उदासीनता से ग्रामीणों में आक्रोश||तीन माह की गर्भवती महिला से छह अपराधियों ने पति के सामने किया सामूहिक दुष्कर्म, सभी आरोपी गिरफ्तार||लातेहार: माइंस खोलने को लेकर भूमि पूजन करने मंगरा गांव पहुंची डीवीसी कंपनी का विरोध, दो पक्षों में जमकर मारपीट, आधा दर्जन लोग घायल||लातेहार: नाबालिग से दुष्कर्म कर बनाया वीडियो, वायरल करने की धमकी दे करता रहा दुष्कर्म, ग्रामीणों ने पिटायी कर पुलिस को सौंपा||BREAKING: बालूमाथ में मधुमक्खियों ने फिर किया हमला, एक आदिवासी महिला की मौत, छह घायल||लातेहार: पातम-डाटम जल प्रपात घूमने आये दो युवकों की नहाने के दौरान नदी में डूबने से मौत||पाकुड़ में करंट लगने से बाप-बेटे की मौत, बेटे को बचाने में गयी पिता की जान

रामनवमी से पहले बरवाडीह व सरईडीह बाजार में जर्जर बिजली तार बदलने की मांग

'

शशि शेखर/बरवाडीह

लातेहार : बरवाडीह प्रखंड मुख्यालय के बाजार से बस स्टैंड के बीच और सरईडीह संपूर्ण बाजार में विद्युत आपूर्ति को लेकर जर्जर तार लगातार दुर्घटनाओं का आमंत्रण दे रही है। प्रखंड मुख्यालय के बाजार से बस स्टैंड के बीच कई बार जर्जर तार टूट कर गिर चुके है।

वही एक सप्ताह पूर्व सरईडीह बाजार में जर्जर तार गिरने के कारण 1 पशु की मौत होने के साथ-साथ कई लोग भी तार की चपेट में आने से बाल-बाल बचे थे।

जिसको लेकर प्रखण्ड की महिला समाजसेवी औऱ अपना अधिकार अपना सम्मान मंच की सचिव सन्तोषी शेखर ने पत्र और अन्य माध्यमों से राज्य के मुख्यमंत्री और उपायुक्त से जर्जर तार को रामनवमी के पूर्व बदलने की मांग की है। ताकि भविष्य में कोई दुर्घटना ना हो।

साथ ही बिजली के तार को प्लास्टिक कवर वाली तार लगाने की भी मांग की गई है। ताकि वह पूरी तरह से सुरक्षित हो सके।

सन्तोषी शेखर ने कहा प्रखंड मुख्यालय का बाजार से बस स्टैंड और सरईडीह बाज़ार पूरा भीड़भाड़ वाला इलाका है और इस बीच वर्षों से विद्युत विभाग के जर्जर तार का टूट जाना बड़ी दुर्घटना को आमंत्रण देने के साथ विभाग की लापरवाही को दिखाता है। इसके लिए उपायुक्त को संज्ञान लेना चाहिए और कोई बड़ी दुर्घटना ना हो इसके पहले विभाग को सचेत करना चाहिए। इसी उद्देश्य ध्यान आकर्षित कराने का प्रयास किया जा रहा है।