Breaking :
||सीएम हेमंत सोरेन की नहीं होगी गिरफ्तारी, ईडी के पास कोई पुख्ता सबूत नहीं||झारखंड से कोरोना की विदाई, सभी जिले कोरोना मुक्त घोषित||झारखंड: प्रमाण पत्र सत्यापन नहीं कराने वाले सहायक अध्यापक होंगे कार्यमुक्त||झारखंड में Suo-Moto Online Mutation की ऐतिहासिक शुरुआत, अब जमीन रजिस्ट्री के बाद म्यूटेशन के लिए नहीं देना पड़ेगा आवेदन||झारखंड प्रशासनिक सेवा के 14 अधिकारियों को मिली अपर सचिव के पद पर पदोन्नति||लातेहार: कब्र से निकाले गये शव की गुत्थी महुआडांड़ पुलिस ने सुलझाया, सास, ससुर व साले ने पीट-पीटकर की थी हत्या||लातेहार: आदिवासी मुख्यमंत्री के कार्यकाल में आदिवासी की मौत के बाद नहीं मिली एंबुलेंस, ठेले पर ले गया शव||पलामू में भाकपा माओवादी के सब जोनल कमांडर नारायण यादव गिरफ्तार||चतरा में भाकपा माओवादी के एरिया कमांडर ने किया पुलिस के सामने सरेंडर||लातेहार: सात दिन पूर्व दफनाये गये शव को महुआडांड़ पुलिस ने कब्र से निकलवाया, हत्या की आशंका

पुलिस द्वारा आदिवासी किसान की पिटाई मामले को लेकर आक्रोशित ग्रामीणों ने किया थाना का घेराव, दोषी पुलिस कर्मियों पर कारवाई की मांग

Angry villagers surrounded the police station

गोपी कुमार सिंह/लातेहार

लातेहार : जिले के गारू थाना का सोमवार को कुकू गांव के सैकड़ों ग्रामीणों ने घेराव किया। ग्रामीणों ने गारू थाना पुलिस पर बुधवार की रात बेवजह कुकू गांव के अनिल कुमार सिंह को घर से उठाकर थाना ले जाने और फिर माओवादी समर्थक बताकर बेरहमी से मारपीट करने का आरोप लगाया है.

ग्रामीणों ने दोषी पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई और घायल के बेहतर इलाज की मांग की है. ग्रामीणों का नेतृत्व भाकपा माले नेता कन्हाई सिंह कर रहे थे। प्रदर्शनकारियों में पीड़ित अनिल सिंह के परिजन भी शामिल थे।

बता दें कि इसी गांव के बगल के गांव पिरी में 12 जून 2021 को नक्सल सर्च अभियान पर निकले सुरक्षा बलों के द्वारा की गई गोलीबारी में पिरी गनइखाड़ के युवक ब्रम्हदेव सिंह की गोली लगाने से मृत्यु हो गयी थी। तबसे ग्रामीण और मृतक के परिजन दोषी पुलिसकर्मियों पर कानूनी कार्रवाई की मांग को लेकर आंदोलनरत रहे हैं।

प्रशासन की प्रतिनिधि के रूप में मौजदू पुलिस निरीक्षक चंद्रशेखर चौधरी, बरवाडीह थाना प्रभारी श्रीनिवास सिंह और छिपादोहर थाना प्रभारी विश्वजीत तिवारी ने ग्रामीणों से वार्ता कर उचित कार्रवाई का आश्वासन दिया है।

घायल अनिल सिंह की माँ कर्मी देवी और पत्नी मनिता देवी ने बताया कि पीड़ित ही घर में कमाने वाले एकमात्र व्यक्ति हैं। तीन बच्चों के साथ पांच सदस्यीय परिवार के भरण पोषण का जिम्मा भी उन्ही के कंधे पर है। इसलिए तत्काल उनका इलाज करवाया जाय और मामले का जाँच कर दोषियों पर कारवाई सुनिश्चित किया जाय।

वहीं इंस्पेक्टर चंद्रशेखर चौधरी ने बताया कि मामले की जांच के लिए टीम का गठन किया गया है। पूरे मामले की बारीकी से जाँच की जाएगी। यदि कोई भी पुलिस अधिकारी दोषी पाये जाते हैं तो उनके उपर जरूर कारवाई की जाएगी।

Angry villagers surrounded the police station


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *