Breaking :
||झारखंड में भीषण गर्मी से मिलेगी राहत, 20 जून तक मानसून करेगा प्रवेश||पलामू: बालिका गृह में दुष्कर्म पीड़िता की बहन की मौत, मजिस्ट्रेट की मौजूदगी में हुआ पोस्टमार्टम||सतबरवा प्रखंड के रैयतों ने सांसद से की मुलाकात, उचित मुआवजा दिलाने की मांग||पलामू में तीन अलग-अलग सड़क हादसों में तीन की मौत, नेतरहाट घूमने जा रहा एक पर्यटक भी शामिल||केंद्रीय मंत्री शिवराज व असम के मुख्यमंत्री हिमंता झारखंड विधान सभा चुनाव में भाजपा का करेंगे बेड़ापार||झारखंड में पांच नक्सली ढेर, एक महिला नक्सली समेत दो गिरफ्तार, हथियार बरामद||अब स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग स्कूली बच्चों को नशीले पदार्थो के सेवन से होने वाले दुष्प्रभावों के बारे में करेगा जागरूक||लातेहार: बालूमाथ में अनियंत्रित बाइक दुर्घटनाग्रस्त, दो युवक घायल, सांसद ने पहुंचाया अस्पताल, दोनों रिम्स रेफर||15 ऐसे महत्वपूर्ण कानून और कानूनी अधिकार जो हर भारतीय को जरूर जानने चाहिए||लातेहार में तेज रफ्तार बोलेरो ने घर में सो रहे पांच लोगों को रौंदा, एक की मौत, चार रिम्स रेफर
Tuesday, June 18, 2024
लातेहार

लातेहार: नाबालिग लड़की की शादी कराने के आरोप में माँ-बाप समेत बारातियों पर प्राथमिकी दर्ज

लातेहार : सदर थाना क्षेत्र के नावागढ़ गांव में एक नाबालिग लड़की की शादी संपन्न होने पर शुक्रवार को लातेहार थाने में बीडीओ मेघनाथ उरांव ने बच्ची के माता-पिता समेत चार सौ बारातियों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करायी है।

बीडीओ द्वारा थाने में दिए गए आवेदन में लिखा है कि 27 अप्रैल को कुरा निवासी नाबालिग लड़की का विवाह नावागढ़ निवासी होरिल साव के पुत्र सुभाष कुमार प्रसाद से तय किया गया था। यह जानकारी चाइल्ड लाइन के जिला समन्वयक आशुतोष कुमार के माध्यम से मिली।

इसे भी पढ़ें :- लातेहार में टाना भगतों का आंदोलन चौथे दिन भी जारी, रेलवे ट्रैक जाम करने की चेतावनी

बीडीओ ने आगे बताया कि मैंने तुरंत पंचायत सेवक संतोष उरांव को भेजा और घरवालों को शादी न करने के लिए समझाया। मैं खुद बालिका के घर पहुंचा और माता-पिता से बात कर उन्हें बाल विवाह रोकथाम अधिनियम 2006 की जानकारी दी। साथ ही बालिका के सारे दस्तावेज लेकर उसने शादी नहीं करने की बात कही। लेकिन मेरे समझाने के बाद भी लड़की के माता-पिता ने शादी करवाई।

इसके बाद बीडीओ ने लातेहार थाने में बालिका के माता-पिता समेत 400 बारातों पर बाल विवाह रोकथाम अधिनियम 2006 के तहत प्राथमिकी दर्ज करायी है. इसके साथ ही विवाहिता को पुलिस के माध्यम से सीडब्ल्यूसी ले जाया गया है।

इधर, सदर थाना के इंस्पेक्टर सह थाना प्रभारी अमित कुमार गुप्ता ने बताया कि बाल विवाह के मामले में माता-पिता समेत 400 लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गयी है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरें देखने के लिए यहाँ क्लिक करें