Breaking :
||पलामू में जन वितरण प्रणाली दुकानदार की गोली मारकर हत्या, पुलिस कर रही जांच||लातेहार: युवक हत्याकांड का खुलासा, भाभी ने ही करा दी देवर की हत्या, दो आरोपी गिरफ्तार||थर्ड रेल लाइन निर्माण कार्य में लगी कंपनी के साइट पर नक्सलियों का उत्पात, फायरिंग कर जेसीबी में लगायी आग||दुर्गा पूजा पर आयोजित कार्यक्रम देख लौट रही नाबालिग से सामूहिक दुष्कर्म||हजारीबाग: तीर्थयात्रियों से भरे बस और ट्रक की सीधी टक्कर में 4 की मौत, 30 घायल||लातेहार: ढाबा चलाने की आड़ में अफीम व डोडा पाउडर बेचने के आरोप में ढाबा संचालक गिरफ्तार||रांची: गैस रिफिलिंग की दुकान में रखे सिलेंडर में हुए विस्फोट से चार दुकानें जलकर राख||चतरा में पुलिस और नक्सलियों के बीच मुठभेड़, भारी मात्रा में सामान और हथियार बरामद||लातेहार: दशहरा व दुर्गा पूजा को लेकर मिठाई व फास्ट फूड दुकानों की हुई जांच, पांच दुकानों पर कार्रवाई, लगा जुर्माना||पलामू सिविल सर्जन 50 हजार रुपये की रिश्वत लेते रंगेहाथ गिरफ्तार, बिल भुगतान के एवज में मांगी थी रिश्वत

वन विभाग ने तीन ट्रैक्टरों में लदी अवैध लकड़ी जब्त की, चार पर नामजद प्राथमिकी दर्ज

'

लातेहार वन विभाग

लातेहार : पलामू व्याघ्र परियोजना के तहत दक्षिणी वन प्रमंडल के बारेसाढ़ वन क्षेत्र में गुप्त सूचना पर रेंजर तरुण कुमार के नेतृत्व में छापेमारी अभियान चलाया गया।

अभियान में पीएफ पहाड़कोचा के पास से लकड़ी लदे तीन ट्रैक्टर जब्त किए गए। इसकी कीमत करीब 50 हजार रुपए आंकी गई है। इस संबंध में चार लोगों के खिलाफ वन अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया गया है।

रेंजर कुमार ने बताया कि गुप्त सूचना मिली थी कि पहाड़कोचा पीएफ वन से अवैध लकड़ी लाकर ईंट भट्ठे में रख दी गई है। सूचना पर वनकर्मियों की टीम गठित कर पहाड़कोचा में छापेमारी की गई, जहां से तीन ट्रैक्टर लकड़ी के बोटे जब्त किए गए। इसकी कीमत 50 हजार रुपये आंकी गई है।

उन्होंने कहा कि डीएफओ को सूचना मिली थी कि संतोष यादव, मुन्ना सिंह, एल्विनस लकड़ा सभी पहाड़कोचा गांव और सुनील प्रसाद बारेसाढ़ ने अवैध रूप से लकड़ी के बोटा की कटाई कर ईंट भट्ठा जलाने के लिए स्टोर कर रखा है। इसके आधार पर लकड़ी का बोटा जब्त कर लिया गया।

वनकर्मियों की छापेमारी देख इसमें शामिल लोग भाग खड़े हुए। इस संबंध में चारों के खिलाफ बारेसाढ़ थाने में मामला दर्ज किया गया है। अभियान में बड़ी संख्या में बारेसाढ़ के वनकर्मी शामिल थे।

लातेहार वन विभाग


Leave a Reply

Your email address will not be published.