Breaking :
||लातेहार जिले के विकास के लिए किसी के पास कोई रोडमैप नहीं, अधिकारी भी नहीं रहना चाहते यहां: सुदेश महतो||झारखंड में अधिकारियों के तबादले में चुनाव आयोग के निर्देशों का नहीं हुआ पालन, मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ने लिखा पत्र||पलामू: बाइक सवार अपराधियों ने व्यवसायी को मारी गोली, पत्नी ने गोतिया परिवार पर लगाया आरोप||पलामू: ट्रैक्टर की चपेट में आने से बाइक सवार इंटर के परीक्षार्थी की मौत||पलामू DAV के बच्चों की बस बिहार में पलटी, दर्जनों छात्र घायल||पलामू: पिछले 13 माह में सड़क दुर्घटना में 225 लोगों की मौत पर उपायुक्त ने जतायी चिंता||सदन की कार्यवाही सोमवार सुबह 11 बजे तक के लिए स्थगित||JSSC परीक्षा में गड़बड़ी मामले की CBI जांच कराने की मांग को लेकर विधानसभा गेट पर भाजपा विधायकों का प्रदर्शन||लातेहार: 10 लाख के इनामी JJMP जोनल कमांडर मनोहर और एरिया कमांडर दीपक ने किया सरेंडर||युवक ने थाने की हाजत में लगायी फां*सी, परिजनों ने लगाया हत्या का आरोप
Sunday, February 25, 2024
लातेहार

वन विभाग ने तीन ट्रैक्टरों में लदी अवैध लकड़ी जब्त की, चार पर नामजद प्राथमिकी दर्ज

लातेहार वन विभाग

लातेहार : पलामू व्याघ्र परियोजना के तहत दक्षिणी वन प्रमंडल के बारेसाढ़ वन क्षेत्र में गुप्त सूचना पर रेंजर तरुण कुमार के नेतृत्व में छापेमारी अभियान चलाया गया।

अभियान में पीएफ पहाड़कोचा के पास से लकड़ी लदे तीन ट्रैक्टर जब्त किए गए। इसकी कीमत करीब 50 हजार रुपए आंकी गई है। इस संबंध में चार लोगों के खिलाफ वन अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया गया है।

रेंजर कुमार ने बताया कि गुप्त सूचना मिली थी कि पहाड़कोचा पीएफ वन से अवैध लकड़ी लाकर ईंट भट्ठे में रख दी गई है। सूचना पर वनकर्मियों की टीम गठित कर पहाड़कोचा में छापेमारी की गई, जहां से तीन ट्रैक्टर लकड़ी के बोटे जब्त किए गए। इसकी कीमत 50 हजार रुपये आंकी गई है।

उन्होंने कहा कि डीएफओ को सूचना मिली थी कि संतोष यादव, मुन्ना सिंह, एल्विनस लकड़ा सभी पहाड़कोचा गांव और सुनील प्रसाद बारेसाढ़ ने अवैध रूप से लकड़ी के बोटा की कटाई कर ईंट भट्ठा जलाने के लिए स्टोर कर रखा है। इसके आधार पर लकड़ी का बोटा जब्त कर लिया गया।

वनकर्मियों की छापेमारी देख इसमें शामिल लोग भाग खड़े हुए। इस संबंध में चारों के खिलाफ बारेसाढ़ थाने में मामला दर्ज किया गया है। अभियान में बड़ी संख्या में बारेसाढ़ के वनकर्मी शामिल थे।

लातेहार वन विभाग


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *