Breaking :
||नहीं रहे ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री नव किशोर दास, इलाज के दौरान तोड़ा दम||दुमका में मूर्ति विसर्जन के दौरान जय श्री राम के नारे बजाने को लेकर दो समुदायों के बीच झड़प||मुख्यमंत्री ने लातेहार के कार्यपालक अभियंता पर अभियोजन चलाने की दी स्वीकृति||1932 के खतियान आधारित स्थानीयता वाले विधेयक को राज्यपाल ने लौटाया, कहा- सरकार वैधानिकता की करे समीक्षा||भाजपा प्रदेश प्रवक्ता ने किया पतरातू गांव का दौरा, घटना की CID जांच की मांग||लातेहार: मूर्ति विसर्जन के दौरान दो समुदायों में भिड़ंत, गांव पहुंचे विधायक और एसपी, माहौल तनावपूर्ण||ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री पर जानलेवा हमला, कार से उतरते ही ASI ने मारी गोली||मनिका: करोड़ों की लागत से हो रहे सड़क निर्माण में धांधली, बालू की जगह डस्ट से हो रही ढलाई||पड़ताल: गांव के दबंग ने ज़बरन रुकवाया PM आवास का निर्माण, 4 सालों से सरकारी बाबुओं के कार्यालय का चक्कर लगा रहा पीड़ित परिवार||लातेहार: बंद पड़े अभिजीत पावर प्लांट के सुरक्षा गार्ड की संदेहास्पद मौत, जांच जारी

शिक्षकों की कमी: सरकारी विद्यालय में निजी खर्च पर शिक्षक बहाल करने का ग्रामीणों ने लिया निर्णय

Latehar govt school teacher shortage

संजय राम/बारियातू

लातेहार : बरियातू प्रखंड अंतर्गत फुलसू पंचायत के राजकीय मध्य विद्यालय करमा में शिक्षकों की कमी को देखते हुए अभिभावकों व ग्रामीणों ने बैठक कर 2 शिक्षकों को निजी खर्च पर रखने पर सहमति जताई।

बैठक में विद्यालय अभिभावक सह प्रबंधन समिति के अध्यक्ष विजय गंझू, वीरेंद्र प्रसाद केशरी, योगेंद्र गंझू, संतोष प्रसाद केशरी, संजीत कुमार सिंह, सुरेश प्रसाद केशरी, रामजीत सिंह, धर्मदेव गंझू, हीरालाल गंझू, सरिता देवी, मीना देवी, जमुनी देवी, कविता देवी, सविता देवी, मीना देवी, बुधनी देवी, संगीता देवी सहित अन्य ग्रामीण महिला पुरुष उपस्थित थे।

बैठक में अध्यक्ष विजय गंझू ने बताया कि करमा विद्यालय में कक्षा एक से आठ तक की पढ़ाई होती है. स्कूल में प्रधानाध्यापक जनार्दन पासवान व सहायक शिक्षक संतोष राम सिर्फ दो ही शिक्षक कार्यरत हैं। जिसमें प्रधानाध्यापक ऑफिस के कार्यों में व्यस्त रहते हैं। ऐसे में एक शिक्षक के भरोसे स्कूल चल रहा है।

साथ ही पिछले दो साल से वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के संक्रमण के चलते स्कूल पूरी तरह बंद रहने से बच्चों की पढ़ाई पर विपरीत असर पड़ा है। बच्चों की शिक्षा गुणवत्तापूर्ण रहे और बच्चों का भविष्य उज्ज्वल रहे, इसके लिए अभिभावकों ने दो शिक्षकों कंचन देवी और कंचन पाठक को पांच हजार रुपये प्रति माह की दर से शिक्षण कार्य के लिए स्कूल में निजी खर्च पर रखने पर सहमति जताई।

दोनों शिक्षकों के खर्चे को पूरा करने के लिए प्रति माह 100 रुपये प्रति बच्चा सहयोग शुल्क राशि इकठ्ठा कर दिए जाएंगे।। स्कूल के अभिभावक और ग्रामीणों ने चतरा के सांसद, क्षेत्रीय विधायक, जिले के उपायुक्त और जिला शिक्षा पदाधिकारी से कक्षावार शिक्षकों की प्रतिनियुक्ति करने की मांग की है।

उल्लेखनीय है कि विद्यालय में कक्षा एक से आठ तक में कुल 125 विद्यार्थी नामांकित हैं।

Latehar govt school teacher shortage


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *