Breaking :
||भाजपा प्रदेश प्रवक्ता का इंडी गठबंधन पर हमला, कहा- कोड वर्ड के जरिये बेच दिया झारखंड को||टेंडर कमीशन देने में पांकी के ठेकेदार का भी नाम : शशिभूषण मेहता||टेंडर घोटाले की जांच में पूर्व मंत्री आलमगीर आलम नहीं कर रहे सहयोग : ED||पांचवें चरण में 63.21 फीसदी वोटिंग, पुरुषों से ज्यादा रही महिलाओं की भागीदारी||गढ़वा: शादी समारोह में शामिल होने जा रही मां-बेटी की सड़क हादसे में मौत, बेटा और बेटी की हालत नाजुक||झारखंड: स्कूलों में शत प्रतिशत नामांकन को लेकर राज्य शिक्षा परियोजना गंभीर, लापरवाही बरतने पर होगी कार्रवाई||टेंडर कमीशन घोटाला मामला: ED ने अब IAS मनीष रंजन को पूछताछ के लिए बुलाया||मतदान केंद्र में फोटो या वीडियो लेना अपराध, की जा रही है कार्रवाई : मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी||लातेहार: बालूमाथ में बाइक दुर्घटना में एक युवक की मौत, दूसरा गंभीर, रिम्स रेफर||गढवा: डोभा में नहाने के दौरान डूबने से JJM नेता के पोते समेत दो किशोरों की मौत
Thursday, May 23, 2024
मनिकालातेहार

बेटे की मौत से नाराज परिजनों ने अपने ही रिश्तेदारों को घर में बंद कर लगाई आग, पुलिस की सक्रियता से होते-होते टली मॉब लिंचिंग की घटना

Manika News Mob Lynching

लातेहार : ज़िले के मनिका थाना क्षेत्र के सिंजो गांव में सोमवार की सुबह अपने बेटे की मौत से नाराज गणेश सिंह ने परिजनों के साथ मिलकर नटाई सिंह और उनके परिजनों को मौत का जिम्मेवार मानते हुए उन्हें घर में बंद कर जिन्दा जलाने के लिए किरासन तेल छिड़क कर आग लगा दी। घर चारो ओर से धू-धू कर जलने लगा। आग की लपटें तेज होने लगी।

घर में बंद नटाई सिंह के पुत्र तपेश्वर सिंह, पत्नी उर्मिला देवी और पुत्री काजल कुमारी चीखने चिल्लाने लगे परंतु बाहर से किसी ने दरवाजा नहीं खोला। इसके बाद आसपास के ग्रामीणों ने इस बात की सूचना मनिका थाना पुलिस को दी।

घटना की सूचना मिलते ही थाना प्रभारी शुभम कुमार, एसआई गौतम कुमार, सुरेश सिंह, भोला यादव समेत कई पुलिसकर्मी मौके पर पहुंचे और दरवाजा खोलकर अंदर बंद तीनों को सुरक्षित बाहर निकाला। पुलिस की सक्रियता से तीन लोगों की जान बच गई।

देखें वीडियो :-

इसके बाद पुलिस ने घर में लगी आग बुझाना शुरू किया परंतु आग की लपटें इतनी तेज हो गई कि काफी मसक्कत के बाद भी आग पर काबू नहीं पाया गया। बाद में फायर बिग्रेड को सूचना दी गयी। लेकिन फायर बिग्रेड के पहुंचने से पहले ही पूरा घर जलकर खाक हो गया था।

क्या है मामला

आपको बता दें कि गणेश सिंह और नटाई सिंह आपस में रिश्तेदार हैं। जिनके बीच किसी जमीन को लेकर विवाद चल रहा था। हालांकि मामला थाने तक पहुंच गया था। इसी बीच रविवार से लापता गणेश सिंह का बेटा किरण सिंह (22) का शव सोमवार की सुबह गांव के अहिलडेगवा पुल के पास संदिग्ध हालत में मिला।

बताया जाता है कि रविवार की सुबह छह बजे गणेश सिंह का पुत्र किरानी सिंह घर से निकला था। जो देर रात तक घर नहीं लौटा था। परिजनों द्वारा आसपास तलाश करने के बावजूद रात उसका कुछ पता नहीं चल सका। सुबह करीब पांच बजे अहिलडेगावा पुल के पास किरानी का शव संदिग्ध हालत में मिला।

पलाश के पेड़ का फंदा टूटा हुआ था और लाश पेड़ के नीचे पड़ी थी। गणेश ने अपने बेटे का शव देखा तो नाराज होकर घर पहुंचे और नताई सिंह के घर में आग लगा दी। गणेश ने नटाई सिंह, कामेश्वर सिंह, तपेश्वर सिंह और कालेश्वर सिंह, कामेश्वर सिंह पर ह्त्या आरोप लगाया है।

इस संबंध में थाना प्रभारी शुभम कुमार ने बताया कि प्रथम दृष्टया आत्महत्या प्रतीत होता है। वैसे शव को पोस्मार्टम के लिए सदर अस्पताल भेजा गया है। रिपोर्ट आने के बाद ही कुछ कहा जा सकता है। उन्होंने कहा कि घर में लोगों को बंद कर आग लगाने की घटना निंदनीय है। आग लगाने वाले किसी भी हालत में बख्शे नहीं जाएंगे।

लोगों से अपील करते हुए उन्होंने कहा कि इस तरह की घटना की सूचना तुरंत पुलिस को दें और क़ानून का सहारा लें।

समाचार लिखे जाने तक किसी भी पक्ष ने मनिका थाने में घटना से संबंधित कोई लिखित शिकायत नहीं दी है।

Manika News Mob Lynching


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *