Breaking :
||लातेहार: लापरवाह वाहन चालक हो जायें सावधान! कल से पुलिस चलायेगी जिलेभर में सघन वाहन चेकिंग अभियान||झारखंड की नाबालिग लड़की के साथ अमानवीय व्यवहार करने वालों के खिलाफ मुख्यमंत्री ने दिये सख्त कार्रवाई के आदेश||लातेहार: बालूमाथ में ट्यूशन पढ़ाकर घर लौट रहे शिक्षक की सड़क दुर्घटना में मौत||हेमंत सरकार ने खिलाड़ियों के सर्वांगीण विकास को लेकर की जोहार खिलाड़ी स्पोर्ट्स इंटीग्रेटेड पोर्टल की शुरुआत, खिलाड़ियों की समस्याओं के निराकरण में होगा सहायक||रामगढ़, चतरा व लातेहार में कोयला कारोबारियों पर जानलेवा हमला करने वाले TSPC के चार उग्रवादी गिरफ्तार, एक लातेहार का||अब राज्य के सरकारी शिक्षकों को ‘लीव मैनेजमेंट मॉड्यूल’ के माध्यम से ही मिलेगी छुट्टी, अन्य माध्यमों से दिये गये आवेदन होंगे रद्द||लातेहार: बालूमाथ में हुई विवाहिता हत्याकांड का खुलासा, चार अभियुक्तों ने मिलकर की थी बेरहमी से हत्या||पलामू: शहर में बिना अनुमति के जुलूस निकालने पर होगी कार्रवाई, रात 10 बजे के बाद डीजे बजाने पर रोक||लातेहार: मवेशियों से लदा ट्रक दुर्घटनाग्रस्त, ग्रामीणों ने एक तस्कर को पकड़ कर किया पुलिस के हवाले, डाल्टनगंज से खरीद कर रांची के मांस कारोबारी को जा रहे थे पहुंचाने||प्रेमिका से वीडियो कॉल पर बात करते प्रेमी ने दे दी जान

मनिका में महिलाओं ने की महिला थाने की मांग

लातेहार : अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर ग्राम स्वराज मजदूर संघ की ओर से मनिका में एक रैली एवं सम्मेलन का आयोजन किया गया। हाई स्कूल मैदान से रैली निकाली गई, जो मनिका प्रखंड कार्यालय परिसर में पहुंची और जागरूकता सम्मेलन में बदल गई। सम्मेलन में नुक्कड़ नाटक और हिंसा और लैंगिक भेदभाव पर पारंपरिक सांस्कृतिक कार्यक्रम पेश कर महिलाओं के अधिकारों के प्रति जागरूक किया गया।

इस मौके पर नामुदाग पंचायत की मुखिया श्यामा सिंह ने कहा कि आज महिलाओं को आजादी मिली है तो यह हम सभी महिलाओं के संघर्ष से ही संभव हो पाया है। अब हमें और अधिक अधिकारों के लिए लड़ने की जरूरत है। आज भी महिलाएं सुरक्षित नहीं हैं। महिलाओं की सुरक्षा के लिए अभी भी संघर्ष की जरूरत है। श्यामा ने झारखंड सरकार से मनिका में महिला थाना बनाने की मांग की। कहा कि मनिका में महिला थाना न होने से महिलाओं को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

महिला नेता सोनमती ने कहा कि सरकार महिलाओं के लिए सरकारी योजनाएं चला रही है, लेकिन योजनाओं की जानकारी के अभाव में योजनाओं का लाभ नहीं मिल पा रहा है।

इसके लिए लोगों को और जागरूक करने की जरूरत है। आज भी समाज में लड़के और लड़कियों के बीच भेदभाव किया जाता है। इसे खत्म करने के लिए हम सभी को जागरूक करना जरूरी है ताकि समाज से लैंगिक भेदभाव को खत्म किया जा सके।

कार्यक्रम में नीलम उरांव, सतनी देवी, लालो देवी, प्रतिमा देवी, मार्टिना भेंगरा समेत कई महिलाओं ने अधिकारों को लेकर अपने विचार व्यक्त किए। कार्यक्रम को सफल बनाने में नरेगा सहायता केंद्र की टीम ने मदद की।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *