Breaking :
||लातेहार: दुकान में चोरी करने आये तीन चोर आग में झुलसे, एक की मौत, दो गंभीर||झारखंड की चार लोकसभा सीटों पर वोटिंग कल, 82 लाख मतदाता करेंगे 93 उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला||पलामू: तत्कालीन एसपी के फर्जी हस्ताक्षर से बने 12 चरित्र प्रमाण पत्र, बड़ा गिरोह सक्रिय||ED की टीम फिर पहुंची आलमगीर आलम के पीएस संजीव लाल के नौकर जहांगीर के घर||झारखंड: ज्वैलर्स शोरूम से दो लाख रुपये नकद समेत 50 लाख के आभूषण की लूट||निशिकांत दुबे के खिलाफ चुनाव आयोग से शिकायत||लातेहार: चुनाव कार्य में लापरवाही बरतने वाले 9 कर्मियों पर प्राथमिकी दर्ज||बंगाल की खाड़ी में बन रहे लो प्रेशर का झारखंड में असर, ऑरेंज अलर्ट जारी, झमाझम बारिश से लोगों को गर्मी से मिली राहत||जेठानी ने देवरानी पर लगाये गंभीर आरोप, कहा- कल्पना सोरेन के इशारे पर मेरी दोनों बेटियों को मारने की थी कोशिश||गढ़वा: JJMP जोनल कमांडर के नाम पर पूर्व विधायक सत्येंद्र नाथ तिवारी को धमकी
Saturday, May 25, 2024
मनिकालातेहार

मनिका में महिलाओं ने की महिला थाने की मांग

लातेहार : अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर ग्राम स्वराज मजदूर संघ की ओर से मनिका में एक रैली एवं सम्मेलन का आयोजन किया गया। हाई स्कूल मैदान से रैली निकाली गई, जो मनिका प्रखंड कार्यालय परिसर में पहुंची और जागरूकता सम्मेलन में बदल गई। सम्मेलन में नुक्कड़ नाटक और हिंसा और लैंगिक भेदभाव पर पारंपरिक सांस्कृतिक कार्यक्रम पेश कर महिलाओं के अधिकारों के प्रति जागरूक किया गया।

इस मौके पर नामुदाग पंचायत की मुखिया श्यामा सिंह ने कहा कि आज महिलाओं को आजादी मिली है तो यह हम सभी महिलाओं के संघर्ष से ही संभव हो पाया है। अब हमें और अधिक अधिकारों के लिए लड़ने की जरूरत है। आज भी महिलाएं सुरक्षित नहीं हैं। महिलाओं की सुरक्षा के लिए अभी भी संघर्ष की जरूरत है। श्यामा ने झारखंड सरकार से मनिका में महिला थाना बनाने की मांग की। कहा कि मनिका में महिला थाना न होने से महिलाओं को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

महिला नेता सोनमती ने कहा कि सरकार महिलाओं के लिए सरकारी योजनाएं चला रही है, लेकिन योजनाओं की जानकारी के अभाव में योजनाओं का लाभ नहीं मिल पा रहा है।

इसके लिए लोगों को और जागरूक करने की जरूरत है। आज भी समाज में लड़के और लड़कियों के बीच भेदभाव किया जाता है। इसे खत्म करने के लिए हम सभी को जागरूक करना जरूरी है ताकि समाज से लैंगिक भेदभाव को खत्म किया जा सके।

कार्यक्रम में नीलम उरांव, सतनी देवी, लालो देवी, प्रतिमा देवी, मार्टिना भेंगरा समेत कई महिलाओं ने अधिकारों को लेकर अपने विचार व्यक्त किए। कार्यक्रम को सफल बनाने में नरेगा सहायता केंद्र की टीम ने मदद की।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *