Breaking :
||झारखंड: रामनवमी जुलूस रोके जाने से लोगों में आक्रोश, आगजनी, पुलिस की गाड़ियों में तोड़फोड़, लाठीचार्ज||लातेहार में भीषण सड़क हादसा, दो बाइकों की टक्कर में तीन युवकों की मौत, महिला समेत चार घायल, दो की हालत नाजुक||बड़ी खबर: 25 लाख के इनामी समेत 29 नक्सली ढेर, तीन जवान घायल||पलामू: महुआ चुनकर घर जा रही नाबालिग से भाजपा मंडल अध्यक्ष ने किया दुष्कर्म, आरोपी की तलाश में जुटी पुलिस||झामुमो केंद्रीय समिति सदस्य नज़रुल इस्लाम ने मोदी को जमीन में 400 फीट नीचे गाड़ने की दी धमकी, भाजपा प्रवक्ता ने कहा- इंडी गठबंधन के नेता पीएम मोदी के खिलाफ बड़ी घटना की रच रहे साजिश||लातेहार: बालूमाथ में अज्ञात वाहन की चपेट में आने से एक बाइक सवार की मौत, दो की हालत गंभीर||लातेहार: माओवादियों की बड़ी साजिश नाकाम, बरवाडीह के जंगल से आठ आईईडी बम बरामद||गुमला में लूटपाट करने आये चार अपराधी हथियार के साथ गिरफ्तार||रांची में वाहन चेकिंग के दौरान भारी मात्रा में कैश बरामद||लोहरदगा में धारदार हथियार से गला रेतकर महिला की हत्या
Wednesday, April 17, 2024
देश-विदेश

नक्सलियों की अब खैर नहीं ! सैटेलाइट ट्रैकर का होगा इस्तेमाल, बड़े ऑपरेशन की तैयारी

सुरक्षा बल नक्सल प्रभावित इलाकों में अपनी पैठ लगातार मजबूत करने में लगे हैं। सुरक्षाबलों के जवानों ने मांद में घुसकर नक्सलियों के खिलाफ बड़े ऑपरेशन की योजना तैयार की है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार सुरक्षा बल उपग्रहों से संचालित होने वाले सैटेलाइट ट्रैकर के माध्यम से काम करेंगे। जंगलों में नक्सलियों को ढूंढ़ना बेहद मुश्किल होता है। इसलिए अब अत्याधुनिक ड्रोन के साथ-साथ सैटेलाइट से लाइव तस्वीरों का इस्तेमाल किया जाएगा। आपको बता दें कि अभी भी झारखंड और छत्तीसगढ़ के कई इलाकों में खूंखार नक्सली मौजूद है।

कैसे काम करता है सैटेलाइट ट्रैकर :-

सैटेलाइट के माध्यम से किसी भी एक स्थान की लाइव तस्वीरें खींची जाएगी। फिर इन तस्वीरों को सुरक्षा बलों के नियंत्रण कक्ष तक उपलब्ध कराई जाएंगी। उसके बाद नक्सलियों के खिलाफ ऑपरेशन में उन तस्वीरों को सुरक्षा बलों को साझा किया जाएग, जहां नक्सलियों की मौजूदगी है। इसके साथ ही रास्ते की सटीक जानकारी के लिए भी इसका उपयोग किया जाएगा। ताकि ऑपरेशन के बाद जवान जंगल में न भटकें और उन्हें सही रास्ता मिल सके।