Breaking :
||झारखंड एकेडमिक काउंसिल कल जारी करेगा मैट्रिक और इंटर का रिजल्ट||लातेहार: चुनाव प्रशिक्षण में बिना सूचना के अनुपस्थित रहे SBI सहायक पर FIR दर्ज||ED ने जमीन घोटाला मामले में आरोपियों के पास से बरामद किये 1 करोड़ 25 लाख रुपये||झारखंड में हीट वेब को लेकर इन जिलों में येलो अलर्ट जारी, पारा 43 डिग्री के पार||सतबरवा सड़क हादसे में मारे गये दोनों युवकों की हुई पहचान, यात्री बस की चपेट में आने से हुई थी मौत||झारखंड: रामनवमी जुलूस रोके जाने से लोगों में आक्रोश, आगजनी, पुलिस की गाड़ियों में तोड़फोड़, लाठीचार्ज||लातेहार में भीषण सड़क हादसा, दो बाइकों की टक्कर में तीन युवकों की मौत, महिला समेत चार घायल, दो की हालत नाजुक||बड़ी खबर: 25 लाख के इनामी समेत 29 नक्सली ढेर, तीन जवान घायल||पलामू: महुआ चुनकर घर जा रही नाबालिग से भाजपा मंडल अध्यक्ष ने किया दुष्कर्म, आरोपी की तलाश में जुटी पुलिस||झामुमो केंद्रीय समिति सदस्य नज़रुल इस्लाम ने मोदी को जमीन में 400 फीट नीचे गाड़ने की दी धमकी, भाजपा प्रवक्ता ने कहा- इंडी गठबंधन के नेता पीएम मोदी के खिलाफ बड़ी घटना की रच रहे साजिश
Saturday, April 20, 2024
देश-विदेश

पाकिस्तान की नेशनल असेंबली भंग, 90 दिन में होंगे चुनाव

पाकिस्तान की नेशनल असेंबली ने रविवार को इमरान खान सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पर वोटिंग होनी थी. नेशनल असेंबली में जिस तरह के समीकरण बने थे उसके हिसाब से प्रधानमंत्री इमरान खान की कुर्सी जानी तय तय लग रही थी. नेशनल असेंबली की कार्रवाई दोपहर में शुरू हुई.

पाकिस्तान की नेशनल असेंबली के डिप्टी स्पीकर कासिम खान सूरी ने रविवार को प्रधानमंत्री इमरान खान के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव को संविधान के अनुच्छेद पांच के खिलाफ बताते हुए खारिज कर दिया. उन्होंने विदेशी साजिश का आरोप लगाकर इसे खारिज किया है. डिप्टी स्पीकर ने नेशनल असेंबली की कार्रवाई 25 अप्रैल तक स्थगित कर दी.

इसे भी पढ़ें :- नक्सलियों की अब खैर नहीं ! सैटेलाइट ट्रैकर का होगा इस्तेमाल, बड़े ऑपरेशन की तैयारी

वहीं अविश्वास प्रस्ताव के खारिज होने से नाराज विपक्ष ने सदन पर कब्जा कर लिया है. विपक्ष ने अयाज सादिक को स्पीकर चुन कर अलग से अपनी कार्यवाही शुरू कर दी है.

विपक्ष का दावा उसके पास 177 सदस्यों समर्थन

वहीं विपक्ष के सदस्य जब आज जब सदन में पहुंचे तो वे अविश्वास प्रस्ताव को लेकर आश्वस्त दिखाई दिए, लेकिन प्रस्ताव खारिज होने के बाद उन्होंने फैसले का विरोध किया. विपक्ष को इमरान खान को सरकार से बाहर करने के लिए निचले सदन में 342 में से 172 सदस्यों के समर्थन की ज़रूरत थी जबकि उन्होंने दावा किया है कि उनके पास 177 सदस्यों को समर्थन है.

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरें देखने के लिए यहाँ क्लिक करें