Breaking :
||गैंगेस्टर अमन श्रीवास्तव गैंग का शूटर राजू शर्मा बिहार से गिरफ्तार||Jharkhand: प्रेमी ने पांच माह की गर्भवती प्रेमिका को गला दबाकर मार डाला||कोयला लदे हाइवा व ट्रक की भीषण टक्कर में दोनों चालकों की दर्दनाक मौत||रांची: असामाजिक तत्वों ने मेन रोड स्थित हनुमान मंदिर में की तोड़फोड़, प्रतिमा क्षतिग्रस्त||बालूमाथ: वज्रपात की चपेट में आने से पत्नी की मौत, पति समेत दो घायल||पातम-डाटम जलप्रपात में डूबे दोनों युवकों के शव बरामद, प्रशासनिक उदासीनता से ग्रामीणों में आक्रोश||तीन माह की गर्भवती महिला से छह अपराधियों ने पति के सामने किया सामूहिक दुष्कर्म, सभी आरोपी गिरफ्तार||लातेहार: माइंस खोलने को लेकर भूमि पूजन करने मंगरा गांव पहुंची डीवीसी कंपनी का विरोध, दो पक्षों में जमकर मारपीट, आधा दर्जन लोग घायल||लातेहार: नाबालिग से दुष्कर्म कर बनाया वीडियो, वायरल करने की धमकी दे करता रहा दुष्कर्म, ग्रामीणों ने पिटायी कर पुलिस को सौंपा||BREAKING: बालूमाथ में मधुमक्खियों ने फिर किया हमला, एक आदिवासी महिला की मौत, छह घायल

Russia Ukraine Conflict – आखिर क्यों यूक्रेन पर कब्जा करना चाहता है रूस, जानिए 2 मुख्य कारण

'

Russia Ukraine Conflict

रूस ने यूक्रेन पर हमला करना शुरू कर दिया है, जवाबी कार्रवाई में यूक्रेन ने 5 रूसी विमानों को मार गिराया है। रूस की सेना यूक्रेन की राजधानी कीव तक पहुंच गयी है। तीसरे विश्व युद्ध की भी संभावना है।

इस लेख में हम जानेंगे कि क्या इतनी बड़ी वजह है कि रूस यूक्रेन पर कब्जा करना चाहता है :-

ऐतिहासिक कारण:

पहला कारण जानने के लिए हमें थोड़ा इतिहास में जाना होगा। 1945 में जब द्वितीय विश्व युद्ध समाप्त हुआ, तो अमेरिका और रूस दोनों ही विजेता थे। जब से अमेरिका ने जापान पर परमाणु बम गिराकर द्वितीय विश्व युद्ध समाप्त किया, तब से अमेरिका महाशक्ति बनने की राह पर था। वह 1930 की आर्थिक मंदी से भी पूरी तरह उबर चुका था ।

हालांकि उस समय रूस भी उतना ही शक्तिशाली था। रूस जैसा कि आप आज जानते हैं, उस समय सोवियत संघ के नाम से जाना जाता था। वर्तमान सोवियत संघ 15 देशों से मिलकर बना था। इनमें आज का रूस और यूक्रेन भी शामिल है। यूक्रेन और रूस तब सोवियत संघ का हिस्सा थे। इतने बड़े भौगोलिक क्षेत्र में फैले होने के कारण रूस बहुत तेजी से विकास कर रहा था।

अमेरिका और रूस की आर्थिक विचारधाराओं के बीच संघर्ष के कारण वे एक दूसरे का पीछे करने में लगे हुए थे। एक पूंजीवाद (अमेरिका) का पुजारी था और एक साम्यवाद (रूस) का रक्षक था। हालांकि, समय बीतने के साथ, 1991 तक, अमेरिका एक महाशक्ति बन गया था। कारण था सोवियत संघ का विघटन। कहा जाता है कि उसने सोवियत संघ के टुकड़े करने के लिए अच्छी विदेश नीति और कूटनीति का इस्तेमाल किया। सोवियत संघ का विघटन 26 दिसंबर 1991 को शुरू हुआ। सोवियत संघ टूट कर आज का 15 देश बन गया, जिसमें यूक्रेन भी शामिल है।

आज के परिप्रेक्ष्य में पुतिन दुनिया के साहसी नेताओं में से एक हैं। उनका कार्यकाल लंबे समय से चल रहा है। आज भी अमेरिका और रूस में विचारधाराओं की लड़ाई है और इसीलिए रूस आज भी अमेरिका को पीछे करने में लगा हुआ है। रूस यूक्रेन पर कब्जा करके अमेरिका और दुनिया के सामने यह साबित करना चाहता है कि रूस अब विश्व की महाशक्ति है।

भौगोलिक कारण:

दूसरा कारण जानने के लिए हमें वर्तमान रूस की भौगोलिक स्थिति की जांच करनी होगी। दुनिया के नक्शे पर नजर डालें तो रूस भारत के उत्तर में स्थित है। इसका अधिकतम क्षेत्रफल ठंडे क्षेत्र में आता है। आप जानते हैं कि किसी एक देश के लिए अपना व्यापार बढ़ाने या व्यापारिक विकास के लिए समुद्री मार्ग का होना बहुत जरूरी है। लेकिन रूस की भौगोलिक स्थिति के कारण इसे सुगम समुद्री मार्ग नहीं मिलता है।

रूस की भौगोलिक स्थिति ऐसी है कि उसके पास कहीं भी सुगम समुद्री मार्ग नहीं है। ताकि वह यूरोप, अफ्रीका और दक्षिण एशिया के साथ व्यापार बढ़ा सके। रूस के उत्तर की ओर समुद्र से घिरा हुआ हिस्सा 6 महीने से अधिक ठंड के कारण बर्फ से जमा रहता है। पूर्वी रूस में एक छोटा सा हिस्सा रूस की समुद्री यात्रा की सुविधा प्रदान करता है। हालाँकि, इस छोटे से हिस्से से, यह केवल पूर्वी एशिया के हिस्से में ही आयात और निर्यात कर सकता है।

अब अगर आप भूगोल में यूक्रेन को देखें तो नक्शे में आप पाएंगे कि अगर रूस ने उस यूक्रेन पर कब्जा कर लिया तो वह यूक्रेन के तट से काला सागर से होते हुए भूमध्य सागर तक और भूमध्य सागर से प्रशांत महासागर तक जा सकता है। और फिर प्रशांत महासागर और हिंद महासागर के पास के सभी देशों से व्यापारिक संबंध समुद्री मार्ग से बना सकता है, जो अभी संभव नहीं है। इस तरह वह समुद्री व्यापार को बढ़ाकर अपने देश की आर्थिक स्थिति को और मजबूत कर सकता है।

धन्यवाद्

Russia Ukraine Conflict


Leave a Reply

Your email address will not be published.