Breaking :
||झारखंड में भीषण गर्मी से मिलेगी राहत, 20 जून तक मानसून करेगा प्रवेश||पलामू: बालिका गृह में दुष्कर्म पीड़िता की बहन की मौत, मजिस्ट्रेट की मौजूदगी में हुआ पोस्टमार्टम||सतबरवा प्रखंड के रैयतों ने सांसद से की मुलाकात, उचित मुआवजा दिलाने की मांग||पलामू में तीन अलग-अलग सड़क हादसों में तीन की मौत, नेतरहाट घूमने जा रहा एक पर्यटक भी शामिल||केंद्रीय मंत्री शिवराज व असम के मुख्यमंत्री हिमंता झारखंड विधान सभा चुनाव में भाजपा का करेंगे बेड़ापार||झारखंड में पांच नक्सली ढेर, एक महिला नक्सली समेत दो गिरफ्तार, हथियार बरामद||अब स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग स्कूली बच्चों को नशीले पदार्थो के सेवन से होने वाले दुष्प्रभावों के बारे में करेगा जागरूक||लातेहार: बालूमाथ में अनियंत्रित बाइक दुर्घटनाग्रस्त, दो युवक घायल, सांसद ने पहुंचाया अस्पताल, दोनों रिम्स रेफर||15 ऐसे महत्वपूर्ण कानून और कानूनी अधिकार जो हर भारतीय को जरूर जानने चाहिए||लातेहार में तेज रफ्तार बोलेरो ने घर में सो रहे पांच लोगों को रौंदा, एक की मौत, चार रिम्स रेफर
Tuesday, June 18, 2024
गढ़वापलामू प्रमंडल

गढ़वा: श्री बंशीधर नगर अस्पताल के स्टोर रूम में आग लगने से लाखों रुपये का सामान जल कर राख

गढ़वा : जिले के श्री बंशीधर नगर अनुमंडल अस्पताल के स्टोर रूम में मंगलवार की सुबह आग लगने से लाखों रुपये का सामान जल कर राख हो गया। घटना की जानकारी मिलने के बाद अस्पताल कर्मियों ने आग बुझाने का प्रयास किया लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी थी।

घटना की जानकारी होने पर दमकल की गाड़ी भी अस्पताल पहुंच गयी, लेकिन सड़क नहीं होने के कारण दमकल कर्मी आग नहीं बुझा पाये। अस्पताल प्रबंधन के मुताबिक सुबह राजमती अस्पताल की सफाई के दौरान सफाईकर्मी ने स्टोर रूम से धुआं निकलते देखा तो ड्यूटी पर मौजूद कैसर आलम को सूचना दी। कैसर आलम ने डीएस डॉ. सुचित्रा को सूचना दी और अस्पताल कर्मियों के साथ आग बुझाने में जुट गया।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

कुछ देर बाद डीएस भी अस्पताल पहुंचे, स्टोर रूम में आग देखकर ताला तोड़कर सामान बचाने की कोशिश की लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी थी। स्टोर रूम में रखी दवाइयां, फर्नीचर, पुराने दस्तावेज व अन्य सामान जल गया। अस्पताल की बाउंड्री में स्थित आम तोड़ रहे बच्चों द्वारा आग लगाने की आशंका जतायी जा रही है। हालांकि, समय रहते आग पर काबू नहीं पाया गया होता, तो बड़ा हादसा हो सकता था। आग की चपेट में कुपोषण उपचार केंद्र, दवा स्टोर रूम, प्रसव कक्ष, जले हुए स्टोर रूम के बगल में स्थित प्रसूति गृह भी आग की चपेट में आ सकता था, जिससे एक बड़ा हादसा हो सकता था।

इस संबंध में डीएस डॉ. सुचित्रा कुमारी ने बताया कि सफाई के दौरान सफाई कर्मी राजमती ने अस्पताल की चारदीवारी के पीछे कुछ बच्चों को आम तोड़ते देखा था। उन्होंने संभावना जतायी कि आम तोड़ते समय बच्चों ने ही आग लगा ली, जिससे स्टोर रूम जलकर राख हो गया।