Breaking :
||चतरा डीसी अबु इमरान ने किया एक और सांसद का अपमान, लोकसभा स्पीकर के पास दूसरी बार पहुंची शिकायत||अब झारखंड के प्राथमिक विद्यालयों में कक्षाएं संचालित करने में स्थानीय युवाओं की मदद लेगी सरकार||रांची बिरसा मुंडा एयरपोर्ट उड़ाने की धमकी देने वाला आरोपी बिहार से गिरफ्तार||बिहार में सियासी हलचल, नीतीश के पालाबदल की चर्चा, दिल्ली बुलाए गए भाजपा नेता||सुखाड़ को लेकर सरकार गंभीर, स्थिति का जायजा लेने सभी जिलों में भेजे गए अधिकारी||रांची में अपराधियों ने गैस दुकानदार मारी गोली, रिम्स में चल रहा इलाज||माओवादियों के नाम पर लेवी वसूलने आये तीन बदमाश पकड़ाये||झारखंड कैबिनेट में फेरबदल, कांग्रेस के लिए नयी मुसीबत, फूट पड़ने की आशंका बढ़ी||अब लातेहार के इस गांव के ग्रामीणों ने सीमा पर लगाया बोर्ड, बाहरी व्यक्ति के प्रवेश पर रोक||सांगठनिक बदलाव की तैयारी में झारखंड कांग्रेस, अधिकांश जिले में नए चेहरों को मौका

बालूमाथ: बैंक में पैसा जमा कराने आए वृद्ध की जेब से दिनदहाड़े उड़ाए 26500 रुपए

'

शशि भूषण गुप्ता/बालूमाथ

लातेहार : बालूमाथ थाना परिसर से महज 100 मीटर की दूरी पर स्थित सेंट्रल बैंक शाखा परिसर में एक वृद्ध की जेब से उच्चकों ने दिनदहाड़े 26500 रुपये की पॉकेटमारी कर ली।

प्राप्त जानकारी के अनुसार बालूमाथ थाना क्षेत्र के चेटुवाग ग्राम निवासी खिरोधर यादव उम्र 65 वर्ष सेंट्रल बैंक बालूमाथ में 26500 अपना पैसा जमा करने आया था। बैंक पहुंच जमा फार्म भरकर बैंक में अपना पैसा जमा करना चाहा जैसे ही वह अपना हाथ अपनी पैकेट में लगाया तो पैसे गायब थे और पैकेट कटा हुआ था।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

जिसे देख बैंक परिसर में उपस्थित ग्राहकों के बीच अफरा-तफरी मच गई और चर्चा होने लगा जब बैंक परिसर में ही अपराधियों द्वारा खाता धारी का पॉकेटमारी कर रहे हैं, ऐसी स्थिति में लोग बाहर कैसे सुरक्षित रह सकते हैं।

हालांकि वृद्ध ने अपने स्टार से काफी खोजबीन की लेकिन कुछ पता नहीं चल पाया। जिसके बाद वृद्ध ने नजदीकी थाना पहुंच कर मामले की सूचना दी। सूचना मिलते ही स्थानीय थाना पुलिस बैंक परिसर पहुंचकर सीसी टीवी के सहारे मामले की छानबीन शुरू कर दी है।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

बहरहाल, यह घटना बालूमाथ क्षेत्र में चर्चा का विषय बना हुआ है। सच कहा जाए तो या घटना बालूमाथ थाना के नाक के नीचे घटी है, जो पुलिस की सक्रियता पर प्रश्नचिन्ह खड़ा कर रहा है।