Breaking :
||फल खरीदने गया पति, प्रेमी के साथ भाग गयी पत्नी||पलामू में 47.5 डिग्री पहुंचा पारा, मई महीने का रिकॉर्ड टूटा, दशक का सर्वाधिक अधिकतम तापमान||DJ सैंडी मर्डर केस : हत्या और मारपीट का मामला दर्ज, बार संचालक व बाउंसर समेत 14 गिरफ्तार||झारखंड की चर्चा खूबसूरत पहाड़ों की वजह से नहीं बल्कि नोटों के पहाड़ की वजह से हो रही : मोदी||लातेहार: हाइवा की चपेट में आने से मजदूर घायल, विरोध में सड़क जाम समेत बालूमाथ की दो ख़बरें||चक्रवाती तूफ़ान ‘रेमल’ का असर, कल से दो जून तक बारिश, इन जिलों के लिए अलर्ट जारी||टेंडर कमीशन घोटाला: कल IAS मनीष रंजन से ED करेगी पूछताछ||पलामू SP की दरियादिली, हैदराबाद के अस्पताल में जवान की मौत के बाद बकाया राशि का भुगतान कर शव भी मंगवाया||पलामू में नाबालिग के साथ दुष्कर्म, आरोपी गिरफ्तार||पलामू: 17 दिन से लापता युवक का मिला कंकाल, हत्या की आशंका
Wednesday, May 29, 2024
पलामू प्रमंडल

पर्यावरण की रक्षा में लगे वनवासियों का अहम योगदान : पांकी विधायक

प्रेम पाठक/सतबरवा

पलामू : जल, जंगल और जमीन बचाने के अभियान में वनवासियों का पर्यावरण को बचाने में अहम योगदान है।उक्त बातें पांकी विधायक डॉ शशि भूषण मेहता ने रविवार को पलामू जिले के सतबरवा प्रखंड के सुदूरवर्ती चांपी गांव के लिटिया टोला में आयोजित एक सम्मेलन में कहीं।

जल, जंगल और जमीन बचाने के उद्देश्य से कार्यक्रम की अध्यक्षता सोहराई सिंह ने की, जबकि आशीष कुमार सिन्हा संचालन कर रहे थे।

वही मुख्य अतिथि डॉ. एस.बी. मेहता ने आगे कहा कि जल, जंगल और जमीन हमारी संस्कृति और सभ्यता के प्रतीक हैं। इसे बचाने के लिए ग्रामीणों सहित सभी लोगों को आगे आना होगा। हम 50 घरों, आदिवासी खरवार और अन्य समाज के लोगों को सलाम करते हैं जिन्होंने इसकी रक्षा करने का संकल्प लिया। जंगल वातावरण को शुद्ध बनाते हैं और बारिश होती है। गांव में बसे ग्रामीण पेड़-पौधों की रक्षा करने वाले देवता हैं।

सम्मेलन में वक्ताओं ने कहा कि आजादी के बाद पहली बार जनप्रतिनिधि यहां पहुंचे। गांव तक पहुंचने के लिए सड़क का अभाव है, प्रखंड मुख्यालय से 14 किमी दूर पहाड़ी क्षेत्र में स्थित यह टोला विकास के मामले में काफी पीछे है।

इस मौके पर मंडल अध्यक्ष विजय पाठक, पांकी मंडल अध्यक्ष बाल्मीकि सिंह, प्रोफ़ेसर वचन ठाकुर, राजेंद्र सिंह चेरो, महेश यादव, अशोक यादव, इंद्रदेव तूरी मौजूद थे। वही विधायक का स्वागत ढोल मांदर और नृत्य के साथ किया गया।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *