Breaking :
||झारखंड में धूमधाम से मनाया गया प्रकृति का पर्व सरहुल, निकाली गयी भव्य शोभायात्रा||झारखंड: सुरक्षाबलों के दबिश का परिणाम, दो महिला नक्सली समेत 15 माओवादियों ने एक साथ किया सरेंडर||पलामू: प्रेम प्रसंग में युवक की हत्या, शव फंदे से लटकाया!||चतरा: TSPC के उग्रवादियों ने बालू माफियाओं को अवैध खनन बंद करने की दी चेतावनी||पलामू में दो मादक पदार्थ तस्करों को 10-10 साल सश्रम कारावास की सजा, एक-एक लाख रुपये का जुर्माना||पलामू में अवैध शराब की खेप के साथ तस्कर गिरफ्तार, बिहार में खपाने की थी तैयारी, कार जब्त||शहरी जलापूर्ति योजना से 20 करोड़ रुपये गबन करने का आरोपी PHED कर्मचारी गिरफ्तार||लातेहार: आगामी त्योहारों के दौरान बिजली संबंधी समस्याओं एवं आपात स्थिति से निपटने के लिए मोबाइल नंबर जारी||सांप्रदायिक सौहार्द्र में खलल डालने वाले तत्वों के खिलाफ होगी सख्त कार्रवाई, DJ संचालकों से भरवाये जायेंगे बांड||झामुमो ने राजमहल और सिंहभूम लोकसभा सीट से उतारे उम्मीदवार
Friday, April 12, 2024
गारूपलामू प्रमंडललातेहार

सामाजिक कुरीतियों के प्रति जागरूक करना कानूनी आधिकारिकता शिविर का उदेश्य : अखिल कुमार

बारेसांढ़ में विधिक अधिकरिकता शिविर का आयोजन

लातेहार : जिला विधिक सेवा प्राधिकार लातेहार के तत्वाधान में रविवार को गारू प्रखंड के बारेसांढ़ में कानूनी आधिकारिकता शिविर का आयोजन किया गया। प्रधान जिला एवं सत्र न्यायधीश-सह-अध्यक्ष, जिला विधिक सेवा प्राधिकार, लातेहार अखिल कुमार, उपायुक्त भोर सिंह यादव, पुलिस अधीक्षक अंजनी अंजन ने दीप प्रज्वलित कर आधिकारिकता शिविर का शुभारम्भ किया।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

प्रधान जिला एवं सत्र न्यायाधीश ने लोगों को सम्बोधित करते हुये कहा लोगों को क़ानून एवं अधिकारों के जानकारी देकर सशक्त बनाने सामाजिक कुरीतियों के प्रति जागरूक करने के उद्देश्य से बारेसांढ़ जैसे सुदूरवर्ती क्षेत्र में क़ानूनी आधिकारिकता शिविर का आयोजन किया गया है। उन्होंने कहा शिक्षित एवं जागरूक होकर हम शोषण एवं अत्याचार से बच सकते हैं। उन्होंने कहा लातेहार जिला के कई ग्रामीण क्षेत्रों में मानव तस्कर सक्रिय हैं। वे नौकरी दिलाने का लालच देकर लड़कियों को बड़े शहरों में ले जाकर बेच देते हैं।

उन्होंने कहा अभिभावकों से अपील किया कि वे अपने बच्चों को पढ़ाये लिखायें, कम उम्र में काम करने के लिए बच्चों को शहरों में नहीं भेजें। साथ ही उन्होंने लोगों से अपील किया कि अपने क्षेत्र में डायन प्रथा की कुरीति को रोकने में सहयोग करें।

उपायुक्त ने कहा कि शिविर का उद्देश्य गरीब जन, महिलाओं, पिछड़े वर्ग, अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति के लिए संचालित योजनाओं की जानकारी देना और उन्हें कानून एवं अधिकारों के प्रति जागरूक करना है।

आगे उन्होंने डायन बिसाही कुप्रथा, महिलाओं के विरुद्ध अपराध, महिला अधिकारों की जानकारी देते हुए कहा कि अशिक्षा ही अंधविश्वास का जड़ है। शिक्षित बने और जागरूक हों। अंधविश्वास को मन से ख़त्म करें। उन्होंने लोगों को अपने आसपास घटित अपराधों के नियंत्रण हेतु जागरूक होने एवं कानूनी सहायता लेने हेतु प्रोत्साहित किया। उन्होंने अपराध की घटना की जानकारी निकटवर्ती थाना को देने बात कही।

पुलिस अधीक्षक ने कहा कि इस शिविर का उद्देश्य लोगों को उसके कानूनी अधिकार के प्रति जागरूक एवं शिक्षित करना है। साथ ही साथ सरकार की योजनाओं के प्रति जागरूक कर लोगों को लाभ पहुंचाना है।

इस दौरान उन्होंने डायन–बिसाही कुप्रथा के बारे विस्तार से जानकारी देते हुए बताया कि डायन प्रथा एक समाजिक बुराई है। बीमार व्यक्ति का इलाज चिकित्सक से इलाज कराना चाहिए। ओझा-गुणी के अंधविश्वास से ग्रामीणों को बचने की आवश्यकता है। यह कुप्रथा है, कई लोग इसमें फंस जाते हैं। डायन प्रथा की रोकथाम के लिए सख्त कानून बना हुआ है। कोई व्यक्ति यदि किसी को डायन करार देता है, तो उसे जेल की सजा हो सकती है। उन्होंने मानव तस्करी, डायन- बिसाही कुप्रथा, महिलाओं के विरुद्ध अपराध, साइबर क्राइम समेत अन्य अपराधों के बारे विस्तार से ग्रामीणों को जानकारी दिया एवं उन्होंने अपराध की घटना के रोकथाम हेतु पुलिस को सूचना देने की बात कही।

शिविर में संजीव कुमार दास अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश ने अनुसूचित जाति व जनजाति अत्याचार प्रतिषेध अधिनियम के विभिन्न प्रावधानों के जानकारी दिया एवं लोगों को जागरूक किया।

अमित कुमार अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश ने पोक्सो एक्ट के बारे लोगों को जानकारी दिया।

स्वाति विजय उपाध्याय ने जिला विधिक सेवा प्राधिकार के द्वारा गरीब लोगों का न्यायालय में पक्ष रखने के लिए उपलब्ध कराये जाने वाले विधिक सहायता के बारे जानकारी दिया।

शिविर में नुक्कड़ नाटक दिखाकर डायन–बिसाही कुप्रथा, मानव तस्करी के रोकथाम हेतु लोगों को जागरूक किया गया।

शिविर में पशुपालन, कृषि, शिक्षा, आपूर्ति, समाज कल्याण, स्वास्थ्य, जेएसएलपीएस, कल्याण, सामाजिक सुरक्षा के द्वारा स्टॉल लगाया गया।

शिविर में जरूरतमंदो के बीच परिसंपत्तियों का किया गया वितरण

पशुपालन विभाग द्वारा मुख्यमंत्री पशुधन विकास योजना के तहत दो दुधारू गाय वितरण किया गया। सामाजिक सुरक्षा विभाग द्वारा सर्वजन पेंशन योजना के तहत स्वीकृति पत्र वितरित किया गया। JSLPS के तहत 1.75 करोड़ रूपए का सीसीएल लिंकेज चेक प्रदान किया गया। ग्रामीण विकास विभाग द्वारा बिरसा सिंचाई कूप योजना के तहत स्वीकृति पत्र वितरित किया गया। बिरसा मुंडा आम बागवानी योजना के तहत स्वीकृति पत्र वितरित किया गया। जॉब कार्ड वितरित किया गया। समाज कल्याण विभाग द्वारा सावित्रीबाई फुले किशोरी समृद्धि योजना के तहत स्वीकृति पत्र वितरित किया गया। श्रवण यंत्र, ट्राई साइकिल का वितरण किया गया।

कार्यक्रम में उप विकास आयुक्त आलोक शिकारी कच्छप, परियोजना निदेशक विंदेश्वरी ततमा, सिविल सर्जन डॉ दिनेश कुमार, अनुमंडल पदाधिकारी लातेहार शेखर कुमार, अनुमंडल पदाधिकारी महुआडांड़ नीत निखिल सुरीन, जिला परिवहन पदाधिकारी संतोष सिंह, जिला योजना पदाधिकारी संतोष भगत, जिला समाज कल्याण पदाधिकारी रेणु रवि व अन्य उपस्थित थे।