Breaking :
||झारखंड में भीषण गर्मी से मिलेगी राहत, 20 जून तक मानसून करेगा प्रवेश||पलामू: बालिका गृह में दुष्कर्म पीड़िता की बहन की मौत, मजिस्ट्रेट की मौजूदगी में हुआ पोस्टमार्टम||सतबरवा प्रखंड के रैयतों ने सांसद से की मुलाकात, उचित मुआवजा दिलाने की मांग||पलामू में तीन अलग-अलग सड़क हादसों में तीन की मौत, नेतरहाट घूमने जा रहा एक पर्यटक भी शामिल||केंद्रीय मंत्री शिवराज व असम के मुख्यमंत्री हिमंता झारखंड विधान सभा चुनाव में भाजपा का करेंगे बेड़ापार||झारखंड में पांच नक्सली ढेर, एक महिला नक्सली समेत दो गिरफ्तार, हथियार बरामद||अब स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग स्कूली बच्चों को नशीले पदार्थो के सेवन से होने वाले दुष्प्रभावों के बारे में करेगा जागरूक||लातेहार: बालूमाथ में अनियंत्रित बाइक दुर्घटनाग्रस्त, दो युवक घायल, सांसद ने पहुंचाया अस्पताल, दोनों रिम्स रेफर||15 ऐसे महत्वपूर्ण कानून और कानूनी अधिकार जो हर भारतीय को जरूर जानने चाहिए||लातेहार में तेज रफ्तार बोलेरो ने घर में सो रहे पांच लोगों को रौंदा, एक की मौत, चार रिम्स रेफर
Tuesday, June 18, 2024
पलामूपलामू प्रमंडल

पलामू : नौकरी का झांसा देकर 90 लाख की ठगी

पलामू के छतरपुर प्रखंड के सुदूरवर्ती गांव की महिलाओं से 90 लाख रुपए की ठगी कर ली गई है . फेडरल फाउंडेशन, चेन्नई की कंपनी के नाम से महिलाओं को झांसे में लेकर पार्ट टाइम शिक्षिका बनाने का सपना दिखाया गया .

जानकारी के अनुसार हैदरनगर के लहरपुर निवासी अर्जुन मेहता इस गिरोह का सरगना है. ठगी की शिकार हुई दटटूटा निवासी रिंकी कुमारी ने बताया कि अर्जुन मेहता ने वार्ड स्तर पर निशुल्क शिक्षा केंद्र चलाने के नाम पर प्रखंड के 900 महिलाओं से 10 से ₹15000 प्रति महिला वसूली की. वह करीब 90 लाख रूपए की ठगी करने के बाद कार्यालय बंद कर भाग गया है.

ठगी की शिकार महिलाओं ने थाने में आवेदन देकर अर्जुन मेहता के विरुद्ध मुकदमा दर्ज करने की मांग की है. महिला का आरोप है कि उनका आवेदन थाने में नहीं लिया गया.

पलामू की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

छतरपुर उच्च विद्यालय हाई स्कूल के पीछे मसीहानी में फेडरल फाउंडेशन, चेन्नई नामक कंपनी का कार्यालय खोला गया. इसके माध्यम से निशुल्क शिक्षा केंद्र चलाने की बात कही गई. बताया गया कि प्रति महिला को घर बैठे पार्ट टाइम 15 बच्चों को प्रतिदिन 2 घंटे पढ़ाना है. इसके एवज में ₹4000 प्रतिमाह दिए जाएंगे. इसके बाद महिलाओं से ₹10000 लिए गए. फिर स्टांप पेपर पर एग्रीमेंट कर महिलाओं को बच्चों को पढ़ाने का निर्देश दिया गया.

पलामू प्रमंडल की ताज़ा ख़बरें यहाँ पढ़ें

शुरुआत में संस्थान से जुड़ी महिलाओं को ₹4000 प्रति माह उनके खाते में पैसे भेजे गए. इसके बाद महिलाओं को संस्थान पर पूरा विश्वास हो गया और वह आसपास की महिलाओं को इस से जोड़ती चली गई. देखते ही देखते ऐसी महिलाओं की संख्या 900 तक पहुंच गई. इसके बाद सबसे पैसा वसूल कर अर्जुन मेहता ने कार्यालय में ताला जड़ा और पैसा लेकर फरार हो गया है.