Breaking :
||सीएम हेमंत सोरेन की नहीं होगी गिरफ्तारी, ईडी के पास कोई पुख्ता सबूत नहीं||झारखंड से कोरोना की विदाई, सभी जिले कोरोना मुक्त घोषित||झारखंड: प्रमाण पत्र सत्यापन नहीं कराने वाले सहायक अध्यापक होंगे कार्यमुक्त||झारखंड में Suo-Moto Online Mutation की ऐतिहासिक शुरुआत, अब जमीन रजिस्ट्री के बाद म्यूटेशन के लिए नहीं देना पड़ेगा आवेदन||झारखंड प्रशासनिक सेवा के 14 अधिकारियों को मिली अपर सचिव के पद पर पदोन्नति||लातेहार: कब्र से निकाले गये शव की गुत्थी महुआडांड़ पुलिस ने सुलझाया, सास, ससुर व साले ने पीट-पीटकर की थी हत्या||लातेहार: आदिवासी मुख्यमंत्री के कार्यकाल में आदिवासी की मौत के बाद नहीं मिली एंबुलेंस, ठेले पर ले गया शव||पलामू में भाकपा माओवादी के सब जोनल कमांडर नारायण यादव गिरफ्तार||चतरा में भाकपा माओवादी के एरिया कमांडर ने किया पुलिस के सामने सरेंडर||लातेहार: सात दिन पूर्व दफनाये गये शव को महुआडांड़ पुलिस ने कब्र से निकलवाया, हत्या की आशंका

अभिजीत पावर प्लांट से चोरी का स्क्रैप लेकर भाग रहे दो ऑटो जब्त, एक गिरफ्तार, एक भागने में सफल

लातेहार : लातेहार एसपी अंजनी अंजन को मिली गुप्त सूचना के आधार पर चंदवा पुलिस ने छापेमारी कर चकला गांव से कबाड़ (स्क्रैप) लदे दो ऑटो जब्त किये। दोनों में करीब 9 क्विंटल अवैध कबाड़ लदे हुए थे।

चंदवा थाने के प्रभारी पुलिस निरीक्षक बबलू कुमार ने बताया कि सूचना के बाद गुरुवार को चकला गांव में छापेमारी की गयी। इस दौरान दो ऑटो तेज रफ्तार में भागते नजर आये। इनमें से एक पैसेंजर ऑटो और दूसरा कार्गो ऑटो था। पुलिस बल द्वारा दोनों का पीछा किया गया, एक ऑटो चालक ऑटो छोड़कर भागने में सफल रहा जबकि दूसरे ऑटो चालक को पुलिस ने पकड़ लिया।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

गिरफ्तार चालक की पहचान संतोष कुमार गुप्ता पिता उमेश प्रसाद गड़ीलोंग टंडवा जिला चतरा के रूप में हुई है। पुलिस ने बताया कि चंदवा थाने के कांड संख्या 137/22 के तहत दोनों ऑटो के चालक व मालिक के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। दूसरे ऑटो चालक व मालिक की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी की जा रही है।

आपको बता दें कि लाख कोशिशों के बाद भी अर्धनिर्मित अभिजीत पावर प्लांट से स्क्रैप चोरी का कारोबार थमने का नाम नहीं ले रहा है। इन दिनों साइकिल, ऑटो सहित पिकअप व बड़े ट्रकों से भी अवैध रूप से कबाड़ का खेल चल रहा है। पुलिस द्वारा छोटे-मोटे चोरियों को पकड़ा जा रहा है। लेकिन बड़े पैमाने पर कबाड़ का अवैध कारोबार करने वाले अब भी पुलिस की पकड़ से बाहर हैं।