Breaking :
||सीएम हेमंत सोरेन की नहीं होगी गिरफ्तारी, ईडी के पास कोई पुख्ता सबूत नहीं||झारखंड से कोरोना की विदाई, सभी जिले कोरोना मुक्त घोषित||झारखंड: प्रमाण पत्र सत्यापन नहीं कराने वाले सहायक अध्यापक होंगे कार्यमुक्त||झारखंड में Suo-Moto Online Mutation की ऐतिहासिक शुरुआत, अब जमीन रजिस्ट्री के बाद म्यूटेशन के लिए नहीं देना पड़ेगा आवेदन||झारखंड प्रशासनिक सेवा के 14 अधिकारियों को मिली अपर सचिव के पद पर पदोन्नति||लातेहार: कब्र से निकाले गये शव की गुत्थी महुआडांड़ पुलिस ने सुलझाया, सास, ससुर व साले ने पीट-पीटकर की थी हत्या||लातेहार: आदिवासी मुख्यमंत्री के कार्यकाल में आदिवासी की मौत के बाद नहीं मिली एंबुलेंस, ठेले पर ले गया शव||पलामू में भाकपा माओवादी के सब जोनल कमांडर नारायण यादव गिरफ्तार||चतरा में भाकपा माओवादी के एरिया कमांडर ने किया पुलिस के सामने सरेंडर||लातेहार: सात दिन पूर्व दफनाये गये शव को महुआडांड़ पुलिस ने कब्र से निकलवाया, हत्या की आशंका

बालूमाथ: जंगली हाथियों ने घर तोड़ा, मवेशी को कुचल कर मार डाला, अनाज किये चट

शशि भूषण गुप्ता/बालूमाथ

लातेहार : मंगलवार की देर रात बालूमाथ प्रखंड के बसिया पंचायत अन्तर्गत पिंडारकोम ग्राम के बड़का आहरा टोला में एक बार फिर जंगली हाथियों ने उत्पात मचाया है।

इस दौरान हाथियों ने बड़का आहार निवासी वृद्ध सोहरी मसोमात के घर को पूरी तरह से ध्वस्त कर घर में रखे अनाज महुआ, चावल, आलू, प्याज, गेहूं इत्यादि को चट कर गये और घर में रखे सामान को तहस-नहस कर दिया। जबकि घर के बाहर बंधे मवेशी (गाय) को कुचल कर मार डाला। घटना के बाद से पूरा परिवार दहशत में है। लाखो रूपये के संपत्ति जान मॉल का नुकसान हो जाने से पूरा परिवार शोक में डूबा है।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

इधर, भाजपा मंडल अध्यक्ष लक्ष्मण कुशवाहा ने मौके पर पहुंचकर पीड़ित परिवार को सांत्वना देते हुए वन विभाग से उचित मुवावजे की मांग की है। मौके पर मंडल अध्यक्ष ने कहा कि इस तरह आखिर कब तक गरीबों को हाथी के आतंक के साये में जीवन गुजारना पड़ेगा। वन विभाग के द्वारा अभी तक संवेदनशील जगहों पर टॉर्च, मसाल, पटाखे इत्यादि का वितरण नही किया गया है। जिससे तत्काल हाथियों को भागने में ग्रामीणों को जान का खतरा बना रहता है।

मौके पर भाजपा मंडल अध्यक्ष लक्ष्मण कुशवाहा, एससी मोर्चा जिला उपाध्यक्ष अमित कुमार, सुरेश गंझू, आशिक गंझू, मुकेश गंझू, मतलू गंझू, टेपर गंझू, सोहराय गंझू, कटन गंझू सहित सैकड़ों ग्रामीण मौजूद रहे।