Breaking :
||राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू 28 फरवरी को आयेंगी रांची, सुरक्षा के रहेंगे कड़े इंतजाम||झारखंड: अश्लील वीडियो वायरल करने की धमकी देकर युवती से किया दुष्कर्म, धर्म परिवर्तन कराकर जबरन करा दी शादी||लातेहार: बालूमाथ में लोडेड देशी पिस्टल के साथ दो युवक गिरफ्तार, कार जब्त||पीएम मोदी ने समुद्र में लगायी डुबकी, जलमग्न कृष्ण की नगरी द्वारका को देखा||लातेहार: बारियातू में ऑटो चालक की गोली मारकर हत्या, विरोध में सड़क जाम||लातेहार जिले के विकास के लिए किसी के पास कोई रोडमैप नहीं, अधिकारी भी नहीं रहना चाहते यहां: सुदेश महतो||झारखंड में अधिकारियों के तबादले में चुनाव आयोग के निर्देशों का नहीं हुआ पालन, मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ने लिखा पत्र||पलामू: बाइक सवार अपराधियों ने व्यवसायी को मारी गोली, पत्नी ने गोतिया परिवार पर लगाया आरोप||पलामू: ट्रैक्टर की चपेट में आने से बाइक सवार इंटर के परीक्षार्थी की मौत||पलामू DAV के बच्चों की बस बिहार में पलटी, दर्जनों छात्र घायल
Monday, February 26, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरगढ़वाझारखंडपलामू प्रमंडल

गढ़वा में आयोजित सरकार आपके द्वार कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने कहा- झारखंड के नवनिर्माण के लिए पूरी ताकत के साथ काम कर रही राज्य सरकार

गढ़वा : सरकार की योजनाएं आपके दरवाजे पर इंतजार कर रही है। आप इन योजनाओं से जुड़कर खुद को सशक्त और स्वावलंबी बनाएं। मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन आज गढ़वा जिले के मेराल प्रखंड में “आपकी योजना, आपकी सरकार, आपके द्वार” के तीसरे चरण के तहत आयोजित कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि इस योजना के तहत सभी पंचायतों में शिविर लगाए जा रहे हैं। मैं सभी शिविरों में तो नहीं जा सकता हूं, लेकिन कुछ शिविरों में शामिल हो रहा हूं। इन शिविरों में पहुंच कर मैं यह देखने का प्रयास कर रहा हूं कि सरकार ने आपके लिए जो योजनाएं बनाई है, उसका लाभ वास्तव में आपको मिल रहा है या नहीं। योजनाएं धरातल पर उतरे, इसी प्रतिबद्धता के साथ सरकार काम कर रही है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में कई योजनाएं चल रही हैं और हर योजना अपने आप में खास है। ग्रामीण और शहरी पृष्ठभूमि में रहने वालों के लिए अलग-अलग योजनाएं हैं। हमारे राज्य की 80 प्रतिशत जनता गांवों में रहती है। ऐसे में किसानों, मजदूरों, आदिवासियों, दलितों और अल्पसंख्यकों के कल्याण के लिए कई योजनाएं चलायी जा रही है। इन योजनाओं का मकसद ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूत करना है। जब गांव मजबूत होगा तो हमारा राज्य भी मजबूत बनेगा, इसी सोच के साथ हमारी सरकार काम कर रही है।

मुख्यमंत्री ने कहा झारखंड युवावस्था में प्रवेश कर चुका है। इस राज्य के बने 23 वर्ष हो चुके हैं, लेकिन पिछले दो दशकों के दौरान यह राज्य हमेशा विकास को लेकर हाशिये पर रहा। झारखंड राज्य कैसे आगे बढ़े, इसकी चिंता किसी ने नहीं की। लेकिन, हमारी सरकार झारखंड के नवनिर्माण के लिए पूरी ताकत के साथ काम कर रही है। योजनाएं धरातल पर कैसे उतरे, इसी प्रतिबद्धता के साथ हमारी सरकार काम कर रही है। राज्य अपनी पैरों पर कैसे खड़ा हो? अव्वल राज्यों की श्रेणी में झारखंड कैसे शामिल हो? इसके लिए हम बेहतर कार्य योजना बनाकर आगे बढ़ रहे हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार हर किसी को सामाजिक सुरक्षा देने के लिए प्रतिबद्ध है। इसी बात को ध्यान में रखकर हमारी सरकार ने यूनिवर्सल पेंशन स्कीम लागू किया है। अब सभी बुजुर्ग, विधवा और दिव्यांग को पेंशन मिल रहा है। अब पेंशन के लिए विधवाओं और दिव्यांगों के लिए कोई उम्र सीमा की बाध्यता नहीं है। 5 वर्ष के दिव्यांग बच्चों को भी पेंशन दे रहे हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य के बच्चों को अब पढ़ाई के लिए पैसे की चिंता नहीं करनी होगी। गरीब बच्चों को भी अब अच्छी और बेहतर शिक्षा देने के लिए कई कदम उठाए गए हैं। बच्चियों के लिए किशोरी बाई सावित्री फूले योजना है। बच्चों को परीक्षाओं की तैयारियों से लेकर विभिन्न कोर्सेस को करने के लिए आर्थिक सहायता दे रही है। गुरुजी क्रेडिट कार्ड योजना के तहत 15 लाख रुपए तक का शिक्षा ऋण दिया जा रहा है। इसका लाभ लेने के लिए आपको कोई गारंटी नहीं देनी होगी। सरकार आपकी गारंटर बनेगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकारी नौकरियों के साथ निजी क्षेत्र में भी बड़े पैमाने पर युवाओं को नियुक्ति पत्र दे रहे हैं। वहीं, जो स्वरोजगार करना चाहते हैं, उनके लिए मुख्यमंत्री रोजगार सृजन योजना है। आप इस योजना के लिए आवेदन दें। आपको व्यवसाय के लिए सरकार की ओर से आर्थिक मदद की जाएगी। मेरा आपसे कहना है कि आप दूसरों के लिए मजदूरी नहीं करें, बल्कि अपना काम करें और दूसरों को भी रोजगार दें।

मुख्यमंत्री ने कहा कि मैंने पहले ही निर्देश दिया था कि ” आपकी योजना, आपकी सरकार, आपके द्वार” कार्यक्रमों में आने वाले हर लाभुक को एक फलदार पौधा दिया जाय। आज मुझे बहुत खुशी है कि यहां आयोजित शिविर में लोगों के बीच लगभग 5000 फलदार पौधे वितरित किये गए। पौधा लगाने की जिम्मेवारी किसी एक व्यक्ति को नहीं दी जाए, बल्कि हर किसी को यह जिम्मा मिलना चाहिए। हम जितना ज्यादा से ज्यादा पेड़ लगाएंगे, वह पर्यावरण संरक्षण के दृष्टिकोण से तो अच्छा होगा ही, साथ मे आपकी आमदनी का एक बेहतर जरिया भी बनेगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि गढ़वा का बूढ़ा पहाड़ इलाका कभी आतंक और दहशत का पर्याय था। उग्रवादियों ने पूरे इलाके को अपने कब्जे में कर रखा था। यहां लोग भय के साए में जीते थे। लेकिन हमारी सरकार के प्रयासों से यह इलाका उग्रवाद मुक्त हो चुका है। मैं स्वयं बूढ़ा पहाड़ पहुंचकर लोगों के साथ मिल बैठ कर उनके दुःख-दर्द और परेशानियां को साझा किया। आज यहां लोगों के चेहरे पर मुस्कान देखने को मिल रहा है। पूरे इलाके में विभिन्न योजनाओं के माध्यम से विकास की लंबी लकीर खीची जा रही है ।

मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारी सरकार किसानों की आय बढ़ाने के लिए हर संभव कदम उठा रही है । किसान पाठशाला खोले जा रहे हैं। यहां किसानों को खेती की नवीनतम तकनीकों की जानकारी दी जा रही है। वहीं, 20 लाख अतिरिक्त हरा राशन कार्ड जारी कर गरीबों और जरूरतमंदों को अनाज दिया जा रहा है। उपभोक्ताओं को 100 यूनिट बिजली फ्री दी जा रही है। इसके अलावा भी कई ऐसी योजनाएं हैं जिनके माध्यम से ग्रामीणों को मजबूत और सशक्त बना रहे हैं।

मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर 99 करोड़ 96 लाख 89 हज़ार रुपए की लागत से निर्मित 1146 योजनाओं का उद्घाटन किया। वहीं, 109 योजनाओं की आधारशिला रखी । इन योजनाओं पर कुल 111 करोड़ 39 लाख 73 हज़ार 562 रुपए ख़र्च होंगें। इस तरह 211 करोड़ 36 लाख 62 हज़ार 562 रुपए की लागत वाली 1255 योजनाओं का तोहफा गढ़वा वासियों को मिला। मुख्यमंत्री ने विभिन्न योजनाओं के लाभुकों के बीच 7 करोड़ 49 लाख 63 हज़ार 745 रुपए की परिसंपत्ति प्रदान कर उनके सशक्तिकरण और स्वावलंबी बनने का राह प्रशस्त किया।

इस अवसर पर श्रम मंत्री सत्यानंद भोक्ता, कृषि मंत्री बादल, पेयजल एवं स्वच्छता मंत्री मिथिलेश कुमार ठाकुर, जिला परिषद अध्यक्षा शांति देवी, मुख्यमंत्री के सचिव विनय कुमार चौबे, पलामू प्रमण्डल के पुलिस महानिरीक्षक राजकुमार लकड़ा और जिले के उपायुक्त शशिरंजन और पुलिस अधीक्षक रीष्मा रमेशन समेत अन्य पदाधिकारी मौजूद थे।

CM Hemant Soren in Garhwa