Breaking :
||झारखंड में भीषण गर्मी से मिलेगी राहत, 20 जून तक मानसून करेगा प्रवेश||पलामू: बालिका गृह में दुष्कर्म पीड़िता की बहन की मौत, मजिस्ट्रेट की मौजूदगी में हुआ पोस्टमार्टम||सतबरवा प्रखंड के रैयतों ने सांसद से की मुलाकात, उचित मुआवजा दिलाने की मांग||पलामू में तीन अलग-अलग सड़क हादसों में तीन की मौत, नेतरहाट घूमने जा रहा एक पर्यटक भी शामिल||केंद्रीय मंत्री शिवराज व असम के मुख्यमंत्री हिमंता झारखंड विधान सभा चुनाव में भाजपा का करेंगे बेड़ापार||झारखंड में पांच नक्सली ढेर, एक महिला नक्सली समेत दो गिरफ्तार, हथियार बरामद||अब स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग स्कूली बच्चों को नशीले पदार्थो के सेवन से होने वाले दुष्प्रभावों के बारे में करेगा जागरूक||लातेहार: बालूमाथ में अनियंत्रित बाइक दुर्घटनाग्रस्त, दो युवक घायल, सांसद ने पहुंचाया अस्पताल, दोनों रिम्स रेफर||15 ऐसे महत्वपूर्ण कानून और कानूनी अधिकार जो हर भारतीय को जरूर जानने चाहिए||लातेहार में तेज रफ्तार बोलेरो ने घर में सो रहे पांच लोगों को रौंदा, एक की मौत, चार रिम्स रेफर
Tuesday, June 18, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरचतराझारखंड

15 लाख के इनामी भाकपा माओवादी रीजनल कमेटी सदस्य नवीन यादव ने किया सरेंडर

झारखंड-बिहार में कुल 72 मामले दर्ज

चतरा : भाकपा माओवादी संगठन के रीजनल कमेटी सदस्य और 15 लाख के इनामी नक्सली नवीन उर्फ सर्वजीत यादव उर्फ विजय यादव ने बुधवार को डीसी और एसपी के समक्ष सरेंडर कर दिया। वह मूल रूप से चतरा के प्रतापुर का रहने वाला है।

नक्सली ने चतरा पुलिस लाइन में उपायुक्त अबु इमरान, एसपी राकेश रंजन और सीआरपीएफ 190 बटालियन के कमांडेंट मनोज कुमार की मौजूदगी में सरेंडर किया। इसके खिलाफ झारखंड के चतरा, लातेहार, गढ़वा, पलामू, बिहार के गया और छत्तीसगढ़ के बलरामपुर जिला में कुल 72 मामले दर्ज हैं।

एसपी राकेश रंजन ने बताया कि सरकार की सरेंडर नीति से प्रभावित होकर नक्सली ने सरेंडर किया। साथ ही आत्मसमर्पण नीति को सुलभ बनाने के लिए खुला जेल सह पुनर्वास कैम्प नियमावली में किया गया संशोधन और संगठन के आंतरिक शोषण एवं भयादोहन से क्षुब्ध होकर नक्सली कमांडर ने पुलिस एवं सुरक्षा एजेंसी से सम्पर्क कर मुख्य धारा में जुड़ने की इच्छा व्यक्त की।

नक्सली नवीन यादव का इतिहास

नवीन चचेरे भाई से जमीन विवाद को लेकर वर्ष 2000 में भाकपा माओवादी संगठन में शामिल हुआ था। शुरू में लोकल होने के कारण ग्रामीणों को संगठन में जोड़ने की जिम्मेवारी दी गयी। इसके कार्यशैली को देखते हुए वर्ष 2003 में एलओएस बनाया गया था। वर्ष 2005 से 2007 तक बांकेबाजार, जिला-गया (बिहार) क्षेत्र का एरिया कमांडर तथा वर्ष 2007 से 2009 तक गया, औरंगाबाद (बिहार) क्षेत्र का सब जोनल कमांडर तथा वर्ष 2009 से 2012 तक मध्य जोन का जोनल कमांडर बनाया गया। वर्ष 2012 में इसे माओवादी संगठन में रीजनल कमांडर का पद दिया गया। इसके बाद बिहार रीजनल कमेटी का सदस्य बनाया गया ।

Chatra Naveen Yadav Surrendered