Breaking :
||लातेहार: दुकान में चोरी करने आये तीन चोर आग में झुलसे, एक की मौत, दो गंभीर||झारखंड की चार लोकसभा सीटों पर वोटिंग कल, 82 लाख मतदाता करेंगे 93 उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला||पलामू: तत्कालीन एसपी के फर्जी हस्ताक्षर से बने 12 चरित्र प्रमाण पत्र, बड़ा गिरोह सक्रिय||ED की टीम फिर पहुंची आलमगीर आलम के पीएस संजीव लाल के नौकर जहांगीर के घर||झारखंड: ज्वैलर्स शोरूम से दो लाख रुपये नकद समेत 50 लाख के आभूषण की लूट||निशिकांत दुबे के खिलाफ चुनाव आयोग से शिकायत||लातेहार: चुनाव कार्य में लापरवाही बरतने वाले 9 कर्मियों पर प्राथमिकी दर्ज||बंगाल की खाड़ी में बन रहे लो प्रेशर का झारखंड में असर, ऑरेंज अलर्ट जारी, झमाझम बारिश से लोगों को गर्मी से मिली राहत||जेठानी ने देवरानी पर लगाये गंभीर आरोप, कहा- कल्पना सोरेन के इशारे पर मेरी दोनों बेटियों को मारने की थी कोशिश||गढ़वा: JJMP जोनल कमांडर के नाम पर पूर्व विधायक सत्येंद्र नाथ तिवारी को धमकी
Saturday, May 25, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंड

गुमला: मंगेतर ने सीने में छुरा घोंपकर युवती की बेरहमी से हत्या, पांच माह पूर्व हुई थी सगाई

गुमला : बसिया थाना क्षेत्र के सरुडा गांव में सोमवार को एक युवक ने अपनी ही मंगेतर की चाकू से बेरहमी से हत्या कर दी। घटना सोमवार शाम करीब चार बजे की है। मृतक जेनेविभा तिर्की सिमडेगा जिले के कुरडेग की रहने वाली है। मंगेतर की हत्या की इस सनसनीखेज घटना के बाद से इलाके में हड़कंप मच गया है। अभी यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि अरविन्द ने अपने मंगेतर की हत्या क्यों की।

ह्त्या का कारण स्पष्ट नहीं

जेनेविभा सदर अस्पताल सिमडेगा में जीएनएम के पद पर कार्यरत थी। वह पिछले डेढ़ महीने से सरुडा निवासी अपने एक रिश्तेदार तीजन एक्का के घर में रह रही थी। जेनेविभा की करीब 5 महीने पहले रायडीह के सिकोई निवासी अरविंद कुजूर से सगाई हुई थी।

चाकू मारकर हुआ फरार

अरविन्द भी समय-समय पर जेनेविभा से मिलने सरुडा आता रहता था। सोमवार की शाम करीब 4 बजे अरविंद सरुडा आया और तीजन जैसे ही एक्का के घर में घुसा वह लगातार जेनेविभा के सीने में 20-25 चाकू मारकर फरार हो गया। बचाव के लिए चीख-पुकार की आवाज सुनकर तीजन एक्का पहुंचे। उसे बचाने के प्रयास में तीजन का हाथ भी कट गया।

पुलिस जांच में जुटी

घटना के तुरंत बाद जेनेविभा को स्थानीय लोगों की मदद से इलाज के लिए रेफरल अस्पताल बसिया लाया गया. जहां जांच के बाद डॉक्टरों ने जेनेविभा को मृत घोषित कर दिया। घटना की सूचना पर बसिया थाना प्रभारी छोटू राम रेफरल अस्पताल बसिया ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल गुमला भेज दिया और मामले की जांच कर रहे हैं।

छोटी-छोटी बात पर होता था झगड़ा

पारिवारिक सूत्रों के अनुसार अरविंद पहले भी छोटी-छोटी बातों को लेकर अपनी मंगेतर जेनेविभा से झगड़ता था। जेनेविभा सदर अस्पताल सिमडेगा में जीएनएम के पद पर कार्यरत थी। बचपन में जब उनके माता-पिता का निधन हो गया, तो उनका पालन-पोषण उसके बड़े चाचा ने किया और उन्हें जीएनएम की पढ़ाई भी करायी। घटना के बाद से परिवार के सदस्यों की हालत खराब है।