Breaking :
||झारखंड एकेडमिक काउंसिल कल जारी करेगा मैट्रिक और इंटर का रिजल्ट||लातेहार: चुनाव प्रशिक्षण में बिना सूचना के अनुपस्थित रहे SBI सहायक पर FIR दर्ज||ED ने जमीन घोटाला मामले में आरोपियों के पास से बरामद किये 1 करोड़ 25 लाख रुपये||झारखंड में हीट वेब को लेकर इन जिलों में येलो अलर्ट जारी, पारा 43 डिग्री के पार||सतबरवा सड़क हादसे में मारे गये दोनों युवकों की हुई पहचान, यात्री बस की चपेट में आने से हुई थी मौत||झारखंड: रामनवमी जुलूस रोके जाने से लोगों में आक्रोश, आगजनी, पुलिस की गाड़ियों में तोड़फोड़, लाठीचार्ज||लातेहार में भीषण सड़क हादसा, दो बाइकों की टक्कर में तीन युवकों की मौत, महिला समेत चार घायल, दो की हालत नाजुक||बड़ी खबर: 25 लाख के इनामी समेत 29 नक्सली ढेर, तीन जवान घायल||पलामू: महुआ चुनकर घर जा रही नाबालिग से भाजपा मंडल अध्यक्ष ने किया दुष्कर्म, आरोपी की तलाश में जुटी पुलिस||झामुमो केंद्रीय समिति सदस्य नज़रुल इस्लाम ने मोदी को जमीन में 400 फीट नीचे गाड़ने की दी धमकी, भाजपा प्रवक्ता ने कहा- इंडी गठबंधन के नेता पीएम मोदी के खिलाफ बड़ी घटना की रच रहे साजिश
Monday, April 22, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरपलामू प्रमंडलबालूमाथलातेहार

लातेहार: बालूमाथ में विराट शिव गुरु महोत्सव का आयोजन, हजारों शिव शिष्यों ने लिया भाग

Balumath Shiv Guru Mahotsav

लातेहार : रविवार को पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के तहत बालूमाथ प्रखंड मुख्यालय से सटे जोगियाडिह मैदान में हरींद्रानंद फाउंडेशन द्वारा विराट शिव गुरु महोत्सव का आयोजन किया गया। जिसमें लातेहार जिला के साथ-साथ आधे दर्जन से अधिक जिला क्षेत्र के हजारों लोगों ने बढ़ चढ़कर भाग लिया। महोत्सव में ऐतिहासिक भीड़ देख लोग आश्चर्यचकित रह गये।

Balumath Shiv Guru Mahotsav

कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के तौर पर कालखंड के महामानव साहब हरिंद्रानंद भैया के संदेश को लेकर आयी बरखा आनंद दीदी मौजूद रही। जिन्होंने अपने संबोधन में कहा कि मानव मात्र को शिव गुरु स्वरूप से जोड़ देना और हर व्यक्ति के मन में भगवान शिव को गुरु रूप में स्थापित कर देना ही मुख्य उद्देश्य है।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

बरखा दीदी ने कहा कि मनुष्यों के जीवन में अध्यात्मिक गुरु होना अति आवश्यक है। क्योंकि गुरु के बिना जीवन में आगे बढ़ना नामुमकिन है। इतिहास गवाह है गुरु शिष्य का हर हाल में मार्गदर्शन कराते हैं। पृथ्वी पर अवतरित भगवान विष्णु को भी गुरु ने ही मार्ग दिखाया था तब जाकर उनको हर क्षेत्र में विजय प्राप्त हुई थी। उन्होंने यह भी कहा कि “कर्ता करे ना कर सके। शिव करे सो होय तीन लोक नौ खंड में महादेव से बड़ा न कोय”। जीवन में एक गुरु होने से सभी शिष्यों का आचार विचार और व्यवहार एक समान होता है। इसलिए उपस्थित शिष्यों से अनुरोध है कि आप अधिक से अधिक लोगों को शिव चर्चा से जोड़कर शिव को अपना गुरु बनायें। क्योंकि इस सारे जगत में सृष्टि से आज तक इस संसार में भगवान शिव से बड़ा गुरु कोई नहीं है और ना ही होगा। भगवान शिव का सानिध्य पाने के लिए शिव चर्चा ही एक मुख्य मार्ग है।

बरखा दीदी ने अपने शिष्यों से कहां की किसी प्रकार के राजनीति, धर्म, जाति का भेदभाव, संप्रदाय नहीं रखते हमसब आपस में केवल गुरु भाई बहन है। उन्होंने कहा कि हमें तीन पालन करना चाहिए। पहला भगवान शिव को अपना गुरु मानकर उनसे दया की याचना करना चाहिए, दूसरा भगवान शिव के बारे में बताकर कि वह जगतगुरु आपके भी गुरु हो सकते हैं आप उनको गुरु बना लें।

रांची से चलकर आये भैया अर्चित आनंद ने कहा “अपने गुरु शिव को गुरु मानिये” गुरु वंदना से हजारों शिव शिष्य गुरु भाईयों झमने पर मजबूर किया।

इस कार्यक्रम के दौरान समाजसेवी सह चतरा लोकसभा क्षेत्र के भावी प्रत्याशी बबन सिंह, भारतीय जनता युवा मोर्चा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष किसलय तिवारी, चतरा लोकसभा क्षेत्र के संयोजक राजधानी यादव, लातेहार विधानसभा क्षेत्र के पूर्व भाजपा विधायक प्रकाश राम, बालूमाथ पूर्वी जिला परिषद सदस्य प्रियंका कुमारी के साथ-साथ लातेहार जिले के कई सामाजिक गनमान्य और राजनीतिक दल के लोग मुख्य रूप से मौजूद रहकर दीदी बरखा आनंद एवं भैया अर्चित आनंद से आशीर्वाद लिया।

बालूमाथ की गुरू बहन पुनम ने नागपुरी शिव गीत पर सभी को भावविभोर कर दिया। इससे पूर्व गुरु भाई दशरथ पासवन ने मुख्य अतिथि भ्राता अर्चित आनन्द और बरखा दीदी को स्वागत गान के माध्यम से स्वागत किया। मंच संचालन त्रीपु प्रजापति ने की।

कार्यक्रम के दौरान सुरेंद्र साहू त्रिवेणी साहू, सरयू दयाल पांडे, उपेंद्र रंगीला, अरुण विश्वास, रंजीत पासवान, शीतल साहू, उदयनाथ यादव, गणेश सिंह, दशरथ ठाकुर, बबलू गोसाई, प्रदीप जायसवाल, आरती विश्वास, गीता देवी, संगीता देवी, लक्ष्मी देवी, नीलू देवी, पूनम देवी, रीना सिंह, प्रमिला देवी, ललिता देवी, अर्चना देवी, रेखा देवी, तारा देवी, सरिता देवी समेत सैकड़ो लोगों ने सक्रिय भूमिका निभायी।

Balumath Shiv Guru Mahotsav