Breaking :
||लातेहार: दुकान में चोरी करने आये तीन चोर आग में झुलसे, एक की मौत, दो गंभीर||झारखंड की चार लोकसभा सीटों पर वोटिंग कल, 82 लाख मतदाता करेंगे 93 उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला||पलामू: तत्कालीन एसपी के फर्जी हस्ताक्षर से बने 12 चरित्र प्रमाण पत्र, बड़ा गिरोह सक्रिय||ED की टीम फिर पहुंची आलमगीर आलम के पीएस संजीव लाल के नौकर जहांगीर के घर||झारखंड: ज्वैलर्स शोरूम से दो लाख रुपये नकद समेत 50 लाख के आभूषण की लूट||निशिकांत दुबे के खिलाफ चुनाव आयोग से शिकायत||लातेहार: चुनाव कार्य में लापरवाही बरतने वाले 9 कर्मियों पर प्राथमिकी दर्ज||बंगाल की खाड़ी में बन रहे लो प्रेशर का झारखंड में असर, ऑरेंज अलर्ट जारी, झमाझम बारिश से लोगों को गर्मी से मिली राहत||जेठानी ने देवरानी पर लगाये गंभीर आरोप, कहा- कल्पना सोरेन के इशारे पर मेरी दोनों बेटियों को मारने की थी कोशिश||गढ़वा: JJMP जोनल कमांडर के नाम पर पूर्व विधायक सत्येंद्र नाथ तिवारी को धमकी
Saturday, May 25, 2024
झारखंडरांचीलातेहार

लोहरदगा: सालों से फरार भाकपा माओवादी का हार्डकोर नक्सली गिरफ्तार

लोहरदगा : जिले के पेशरार थाना पुलिस ने छह साल के लंबे अंतराल से फरार भाकपा-माओवादी संगठन के हार्डकोर नक्सली अशोक खेरवार को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। पेशरार थाने में माओवादियों के खिलाफ दर्ज प्राथमिकी में पुलिस काफी समय से उसकी तलाश कर रही थी।

इसी बीच स्थानीय पुलिस को पेशरार बाजार में माओवादियों के आने की गुप्त सूचना मिली। जिसके बाद पुलिस ने इलाके की घेराबंदी कर माओवादी को गिरफ्तार करने में उल्लेखनीय सफलता हासिल की।

पेशरार थाना क्षेत्र के बुलबुल गांव निवासी हार्डकोर नक्सली अशोक खेरवार के खिलाफ पेशरार थाने में धारा 147, 148, 149, 307, 353, विस्फोटक पदार्थ अधिनियम की धारा 3/4, शस्त्र अधिनियम की धारा 25. बी) सीएलए अधिनियम की धारा ए, 26, 37, 35 और धारा 17 के तहत मामला संख्या 41/16 में प्राथमिकी दर्ज है।

रांची की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

पुलिस को अशोक खेरवार की तलाश काफी समय से थी। उसकी गिरफ्तारी काे लेकर पुलिस ने उसके घर पर कई बार छापेमारी भी की थी, परंतु वह हर बार पुलिस के हाथों से बच निकलता था। नक्सली के विरुद्ध न्यायालय से गिरफ्तारी वारंट जारी थी। इसी बीच पुलिस ने फरार माओवादी को पेशरार बाजार से गिरफ्तार कर लिया।

पुलिस अशोक खेरवार को काफी लंबे समय से तलाश कर रही थी। पुलिस ने उसकी गिरफ्तारी के लिए कई बार उसके घर पर छापेमारी की थी, लेकिन हर बार वह पुलिस के हाथ से बच निकला। कोर्ट से नक्सलियों के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी किया गया था। इस बीच पुलिस ने फरार माओवादी को पेशरार बाजार से गिरफ्तार कर लिया।