Breaking :
||राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू 28 फरवरी को आयेंगी रांची, सुरक्षा के रहेंगे कड़े इंतजाम||झारखंड: अश्लील वीडियो वायरल करने की धमकी देकर युवती से किया दुष्कर्म, धर्म परिवर्तन कराकर जबरन करा दी शादी||लातेहार: बालूमाथ में लोडेड देशी पिस्टल के साथ दो युवक गिरफ्तार, कार जब्त||पीएम मोदी ने समुद्र में लगायी डुबकी, जलमग्न कृष्ण की नगरी द्वारका को देखा||लातेहार: बारियातू में ऑटो चालक की गोली मारकर हत्या, विरोध में सड़क जाम||लातेहार जिले के विकास के लिए किसी के पास कोई रोडमैप नहीं, अधिकारी भी नहीं रहना चाहते यहां: सुदेश महतो||झारखंड में अधिकारियों के तबादले में चुनाव आयोग के निर्देशों का नहीं हुआ पालन, मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ने लिखा पत्र||पलामू: बाइक सवार अपराधियों ने व्यवसायी को मारी गोली, पत्नी ने गोतिया परिवार पर लगाया आरोप||पलामू: ट्रैक्टर की चपेट में आने से बाइक सवार इंटर के परीक्षार्थी की मौत||पलामू DAV के बच्चों की बस बिहार में पलटी, दर्जनों छात्र घायल
Monday, February 26, 2024
झारखंड

लातेहार, पलामू सहित झारखण्ड के कई जिलों में हो सकता है बिजली संकट

झारखंड के बिजली उत्पादन संयंत्रों का उत्पादन प्रभावित होने से राज्य में बिजली आपूर्ति प्रभावित हुई है। इससे बिजली संकट गहरा सकता है। राज्य के तीन बिजली संयंत्रों से उत्पादन ठप हो गया है।

इस वजह से लोहरदगा, गुमला, सिमडेगा, खूंटी, जमशेदपुर, चाईबासा, गढ़वा, पलामू, लातेहार और संताल-परगना के क्षेत्रों में बिजली आपूर्ति बुरी तरह प्रभावित हुई है। शुक्रवार की रात टीवीएनएल की एक इकाई ठप हो गई। यह इकाई 150 मेगावाट बिजली का उत्पादन कर रहा था। यूनिट के बंद होने से 150 मेगावाट बिजली कम हो गई। वहीं दूसरी ओर आधुनिक पावर प्लांट की एक इकाई ठप हो गई। बिजली संयंत्र की दो इकाइयों से लगभग कुल 180 मेगावाट बिजली का उत्पादन होता है।

हालाँकि आधुनिक पावर प्लांट से लगभग 40 से 80 MW बिजली प्राप्त की जा सकती है। जो अन्य दिनों की तुलना में 100 MW कम है। इनलैंड पावर स्टेशन का उत्पादन भी ठप हो गया है । इस पावर प्लांट से राजधानी रांची को 50 MW बिजली मिलती है. तीनों बिजली संयंत्रों के बंद होने से राज्य में पीक Hour में करीब 350 मेगावाट की कमी रही।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *