Breaking :
||पलामू में बिजली गिरने से तीन किशोर की मौत, बारिश से बचने के लिए पेड़ के नीचे छिपे थे||रांची में करंट लगने से एक ही परिवार के तीन लोगों की मौत, तिरंगा लगाने के दौरान हुआ हादसा||15 अगस्त को झारखंड के 26 पुलिसकर्मियों को विभिन्न सेवाओं के लिए मेडल||रांची में नकली नोटों के तस्कर को पकड़ने गई दिल्ली पुलिस पर ग्रामीणों ने किया हमला, बनाया बंधक||झारखंड जल्द होगा सूखाग्रस्त घोषित, सभी मापदंडों पर तैयार हो रही रिपोर्ट||लातेहार: विद्यालय से उर्दू शब्द हटाए जाने पर मुस्लिम समुदाय में आक्रोश, किया प्रदर्शन||मुख्य धारा में लौटे नक्सलियों के सम्मान समारोह में अधिकारियों ने कहा- सरकार की सेरेंडर पॉलिसी का लाभ उठाएं नक्सली||लातेहार : खेत में धान बो रहे किसान पर गिरी बिजली, पति-पत्नी की मौके पर ही मौत||झारखंड भाजपा को मिलेगा नया प्रदेश अध्यक्ष, नियुक्ति को लेकर कई नामों पर चर्चा||अब झारखंड के बिजली उपभोक्ताओं को मिलेगी 100 यूनिट मुफ्त बिजली

उपराष्ट्रपति चुनाव में एनडीए प्रत्याशी जगदीप धनखड़ की जीत, देश के 14वें उपराष्ट्रपति होंगे धनखड़

'

Vice Presidential election

नई दिल्ली : उपराष्ट्रपति चुनाव में एनडीए की जीत हुई है। इसके साथ ही राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) के उम्मीदवार और पश्चिम बंगाल के पूर्व राज्यपाल जगदीप धनखड़ को देश का नया उपराष्ट्रपति चुना गया है। उपराष्ट्रपति चुनाव में एनडीए उम्मीदवार जगदीप धनखड़ को 528 वोट मिले, जबकि विपक्षी उम्मीदवार मार्गरेट अल्वा को 182 वोट मिले।

उपराष्ट्रपति चुनाव हारने के बाद मार्गरेट अल्वा ने कहा कि कुछ दलों और उनके नेताओं ने प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से भाजपा का समर्थन करके उनकी विश्वसनीयता को नुकसान पहुंचाया है।

पश्चिम बंगाल के पूर्व राज्यपाल जगदीप धनखड़ देश के नए उपराष्ट्रपति होंगे। अधिकारियों ने बताया कि इस चुनाव में कुल 725 सांसदों ने मतदान किया था, जिसमें से 710 मत वैध पाए गए, 15 मतपत्र अवैध पाए गए. अब 71 वर्षीय धनखड़ एम वेंकैया नायडू की जगह देश के नए उपराष्ट्रपति और राज्यसभा के सभापति होंगे। वह भारत के 14वें उपराष्ट्रपति होंगे। नायडू का कार्यकाल 10 अगस्त को समाप्त हो रहा है।

उपराष्ट्रपति चुनाव में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी समेत करीब 93 फीसदी सांसदों ने मतदान किया, जबकि 50 से ज्यादा सांसदों ने अपने मताधिकार का प्रयोग नहीं किया. मतदान के योग्य 780 सांसदों में से 725 ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया।