Breaking :
||चतरा: अत्याधुनिक हथियार के साथ TSPC के तीन उग्रवादी गिरफ्तार||लातेहार में बड़ा रेल हादसा, चार यात्रियों की मौत और कई के घायल होने की सूचना||मोदी 3.0: मोदी सरकार में मंत्रियों के बीच हुआ विभागों का बंटवारा, देखें किसे मिला कौन सा मंत्रालय||गढ़वा: प्रेमी ने गला रेतकर की प्रेमिका की हत्या, शादी का बना रही थी दबाव, बिन बयाही बनी थी मां||मैक्लुस्कीगंज में फायरिंग व आगजनी मामले में पांच गिरफ्तार, ऑनलाइन जुआ खेलाने वाले गिरोह का भंडाफोड़, सात गिरफ्तार||पलामू में शैक्षणिक संस्थानों के 100 मीटर के दायरे में 60 दिनों के लिए निषेधाज्ञा लागू, जानिये वजह||पलामू में युवक की गोली मारकर हत्या, पुलिस जांच तेज||पलामू: संदिग्ध हालत में स्कूल में फंदे से लटका मिला प्रधानाध्यापक का शव, हत्या की आशंका||लातेहार: तालाब में डूबे बच्चे का 24 घंटे बाद भी नहीं मिला शव, तलाश के लिए पहुंची NDRF की टीम||मुख्यमंत्री चंपाई सोरेन ने आलमगीर आलम से लिए सभी विभाग वापस
Saturday, June 15, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरपलामू प्रमंडलमहुआडांड़लातेहार

लातेहार: मनरेगा योजना में रिश्वत लेते पंचायत सेवक रंगेहाथ गिरफ्तार

लातेहार में पंचायत सेवक गिरफ्तार

लातेहार : जिले के महुआडांड़ प्रखंड मुख्यालय से पलामू एसीबी की टीम ने एक पंचायत सेवक को चार हजार रुपये रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार किया है। पंचायत सेवक मनरेगा योजना के तहत लाभुक से रिश्वत ले रहा था। गिरफ्तार करने के बाद एसीबी की टीम पंचायत सेवक को अपने साथ पलामू ले गयी।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

दरअसल, महुआडांड़ प्रखंड के चटकपुर पंचायत के ग्राम गोठगांव निवासी मनोज प्रजापति को मनरेगा योजना के तहत कुआं मरम्मत की योजना स्वीकृत हुई थी। योजना की कुल राशि 60 हजार रुपये थी। लाभार्थी को पहली किस्त 21 हजार रुपये और दूसरी किस्त 15 हजार रुपये मिल चुकी थी। जबकि अंतिम किस्त 24 हजार रुपये का भुगतान किया जाना था। लाभुक द्वारा कार्य पूरा होने के बाद अंतिम भुगतान के लिए पिछले कई दिनों से पंचायत सेवक अनेश्वर प्रसाद से अनुरोध किया जा रहा था। लेकिन पंचायत सेवक द्वारा रिश्वत की मांग की जा रही थी। कहा गया कि चार हजार रुपये रिश्वत देने के बाद ही अंतिम किस्त का भुगतान किया जायेगा। पंचायत सेवक की इस हरक्कत से परेशान होकर लाभुक ने इसकी शिकायत पलामू एसीबी की टीम से की।

एसीबी की टीम ने पूरे मामले की जांच के बाद लाभुक के आरोपों को सत्य पाया। इसी क्रम में बुधवार को लाभुक को चार हजार रुपये देकर पंचायत सेवक अनेश्वर प्रसाद के पास भेजा गया। पंचायत सेवक जैसे ही रिश्वत की रकम लिया मौके पर मौजूद एसीबी की टीम ने पंचायत सेवक को पकड़ लिया। इसके बाद आवश्यक जांच के बाद आरोपी पंचायत सेवक अनेश्वर प्रसाद को गिरफ्तार कर लिया गया। गिरफ्तार करने के बाद एसीबी की टीम उसे अपने साथ पलामू ले गयी। पंचायत सेवक के रिश्वत लेते गिरफ्तार किये जाने की घटना के बाद प्रखंड के अन्य कर्मचारियों में हड़कंप मच गया है।

लातेहार में पंचायत सेवक गिरफ्तार