Breaking :
||भाजपा की मोटरसाइकिल रैली पर पथराव, कार्यकर्ताओं के साथ मारपीट, कई घायल||झारखंड की तीन लोकसभा सीटों पर चुनाव प्रचार थमा, 20 मई को वोटिंग||पिता के हत्यारे बेटे की निशानदेही पर हत्या में प्रयुक्त बंदूक बरामद समेत पलामू की तीन ख़बरें||चतरा लोकसभा क्षेत्र के नक्सल प्रभावित इलाके में नौ बूथों का स्थान बदला, जानिये||झारखंड हाई कोर्ट में 20 मई से ग्रीष्मकालीन अवकाश||पलामू: हार्डकोर इनामी माओवादी नीतेश के दस्ते का सक्रिय सदस्य गिरफ्तार||लातेहार: 65 हेली ड्रॉपिंग बूथ के लिए शुभकामनायें लेकर मतदान कर्मी रवाना||KIDZEE लातेहार के बच्चों ने मतदाताओं से की अपील- पहले मतदान, फिर कोई काम||पलामू में शौच के लिए निकली नाबालिग से सामूहिक दुष्कर्म, चार आरोपी गिरफ्तार||लातेहार अनुमंडल क्षेत्र में चुनाव के मद्देनजर चार जून तक धारा 144 लागू
Sunday, May 19, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरउत्तरी छोटानागपुरझारखंड

Jharkhand News: ‘जय श्रीराम’ बोलने पर छात्रों को मिली सजा, माफीनामा भी लिखवाया, रोष

विश्व हिंदू परिषद ने स्कूल प्रबंधन के खिलाफ कार्रवाई की दी चेतावनी

बोकारो : झारखंड के बोकारो जिले में स्थित लोयला स्कूल में एक छात्र द्वारा जय श्री राम के नारे लगाने पर पूरी क्लास को सजा दी गयी। जय श्रीराम बोलने वाला यह छात्र दसवीं कक्षा में पढ़ता है। इस स्कूल को ईसाई मिशनरी चलाती है। यह घटना 5 अप्रैल को हुई थी। यह खुलासा विश्व हिंदू परिषद के धनबाद विभाग के मंत्री विनय कुमार ने बुधवार को किया।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

विश्व हिंदू परिषद के नेता विनय कुमार ने जिला प्रशासन को स्कूल प्रबंधन के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की चेतावनी दी है। उन्होंने जिला शिक्षा अधिकारी को पत्र लिखकर तत्काल जांच कराकर सख्त कार्रवाई की मांग की है। विनय कुमार के मुताबिक 5 अप्रैल को लोयला स्कूल में दसवीं की पढ़ाई चल रही थी। इस दौरान किसी बच्चे ने जय श्री राम कहा। शिक्षक ने तब सभी बच्चों को अगली चार पीरियड के लिए निलंबित कर दिया और उन्हें सजा के रूप में कक्षा से निकाल दिया। साथ ही पूरी क्लास को 6 अप्रैल तक के लिए सस्पेंड कर दिया।

कुछ अभिभावकों का कहना है कि कुछ बच्चों से जय श्री राम बोलने पर माफीनामा भी लिखवाया गया। मंगलवार को डायरी में शिकायत लिखकर अभिभावकों को स्कूल बुलाया गया। स्कूल पहुंचने पर प्रिंसिपल ने कुछ अभिभावकों को फटकार भी लगायी। इस पर प्राचार्य अलीशा मंजुनी ने सफाई दी है। उन्होंने पत्रकारों से कहा है कि अनुशासनहीनता और शिक्षक के आदेश की अवहेलना करने के आरोप में छात्रों को एक दिन के लिए सस्पेंड किया गया था। बच्चों को निलंबित नहीं किया गया था।