Breaking :
||धनबाद रेल मंडल में बड़ा हादसा, हाईटेंशन तार की चपेट में आने से छह लोग ज़िंदा जले, दो लातेहार व दो सतबरवा के सगे भाई शामिल||लातेहार: मनिका इलाके से TSPC के छह उग्रवादी हथियार के साथ गिरफ्तार||यात्रीगण कृपया ध्यान दें! बीडीएम सवारी गाड़ी के परिचालन पर फिर लगी रोक, 29 मई से शुरू होना था परिचालन, अब इस..||चतरा: TSPC के एरिया कमांडर समेत तीन उग्रवादी गिरफ्तार, विदेशी हथियार बरामद||पलामू: TSPC सुप्रीमो की पत्नी को लेवी के पैसे पहुंचाने जा रहे दो उग्रवादी गिरफ्तार||लातेहार: माओवादियों ने पुल निर्माण स्थल पर मचाया उत्पात, एक पोकलेन और चार ट्रैक्टरों में लगा दी आग||पलामू: बैंक में पैसा जमा करने जा रहे युवक से बदमाशों ने लूट लिये 63 हजार||पलामू: प्रेम प्रसंग में नाबालिग छात्रा हुई गर्भवती, गर्भपात की दवा खाने पर बिगड़ी हालत||आशुतोष कुमार लातेहार और बबलू कुमार बने चंदवा के थाना प्रभारी||पलामू में आर्केस्ट्रा के दौरान जमकर मारपीट, उप मुखिया ने भाजपा नेता सहित चार को दांतों से काटकर किया घायल

Jharkhand News: ‘जय श्रीराम’ बोलने पर छात्रों को मिली सजा, माफीनामा भी लिखवाया, रोष

विश्व हिंदू परिषद ने स्कूल प्रबंधन के खिलाफ कार्रवाई की दी चेतावनी

बोकारो : झारखंड के बोकारो जिले में स्थित लोयला स्कूल में एक छात्र द्वारा जय श्री राम के नारे लगाने पर पूरी क्लास को सजा दी गयी। जय श्रीराम बोलने वाला यह छात्र दसवीं कक्षा में पढ़ता है। इस स्कूल को ईसाई मिशनरी चलाती है। यह घटना 5 अप्रैल को हुई थी। यह खुलासा विश्व हिंदू परिषद के धनबाद विभाग के मंत्री विनय कुमार ने बुधवार को किया।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

विश्व हिंदू परिषद के नेता विनय कुमार ने जिला प्रशासन को स्कूल प्रबंधन के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की चेतावनी दी है। उन्होंने जिला शिक्षा अधिकारी को पत्र लिखकर तत्काल जांच कराकर सख्त कार्रवाई की मांग की है। विनय कुमार के मुताबिक 5 अप्रैल को लोयला स्कूल में दसवीं की पढ़ाई चल रही थी। इस दौरान किसी बच्चे ने जय श्री राम कहा। शिक्षक ने तब सभी बच्चों को अगली चार पीरियड के लिए निलंबित कर दिया और उन्हें सजा के रूप में कक्षा से निकाल दिया। साथ ही पूरी क्लास को 6 अप्रैल तक के लिए सस्पेंड कर दिया।

कुछ अभिभावकों का कहना है कि कुछ बच्चों से जय श्री राम बोलने पर माफीनामा भी लिखवाया गया। मंगलवार को डायरी में शिकायत लिखकर अभिभावकों को स्कूल बुलाया गया। स्कूल पहुंचने पर प्रिंसिपल ने कुछ अभिभावकों को फटकार भी लगायी। इस पर प्राचार्य अलीशा मंजुनी ने सफाई दी है। उन्होंने पत्रकारों से कहा है कि अनुशासनहीनता और शिक्षक के आदेश की अवहेलना करने के आरोप में छात्रों को एक दिन के लिए सस्पेंड किया गया था। बच्चों को निलंबित नहीं किया गया था।