Breaking :
||पलामू में बिजली गिरने से तीन किशोर की मौत, बारिश से बचने के लिए पेड़ के नीचे छिपे थे||रांची में करंट लगने से एक ही परिवार के तीन लोगों की मौत, तिरंगा लगाने के दौरान हुआ हादसा||15 अगस्त को झारखंड के 26 पुलिसकर्मियों को विभिन्न सेवाओं के लिए मेडल||रांची में नकली नोटों के तस्कर को पकड़ने गई दिल्ली पुलिस पर ग्रामीणों ने किया हमला, बनाया बंधक||झारखंड जल्द होगा सूखाग्रस्त घोषित, सभी मापदंडों पर तैयार हो रही रिपोर्ट||लातेहार: विद्यालय से उर्दू शब्द हटाए जाने पर मुस्लिम समुदाय में आक्रोश, किया प्रदर्शन||मुख्य धारा में लौटे नक्सलियों के सम्मान समारोह में अधिकारियों ने कहा- सरकार की सेरेंडर पॉलिसी का लाभ उठाएं नक्सली||लातेहार : खेत में धान बो रहे किसान पर गिरी बिजली, पति-पत्नी की मौके पर ही मौत||झारखंड भाजपा को मिलेगा नया प्रदेश अध्यक्ष, नियुक्ति को लेकर कई नामों पर चर्चा||अब झारखंड के बिजली उपभोक्ताओं को मिलेगी 100 यूनिट मुफ्त बिजली

लातेहार: ग्रामीणों ने गांव में कांग्रेस कार्यकर्ताओं के प्रवेश पर लगाई रोक, जानें क्या है वजह

'

राजीव मिश्रा/लातेहार

लातेहार : लोकसभा में कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी की राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू के खिलाफ अमर्यादित भाषा का प्रयोग से पूरा आदिवासी समाज आक्रोशित है। लातेहार जिले के कई गावों में तो आदिवासियों ने कांग्रेस कार्यकर्ताओं के गांव में प्रवेश पर भी रोक लगा दी है।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

जिले के मनिका प्रखंड के जमुना गांव में कांग्रेसियों के खिलाफ वॉल राइटिंग की गई है। ग्रामीणों का कहना है कि अधीर रंजन चौधरी के खिलाफ एफआईआर दर्ज होने व कांग्रेस से निकाले जाने तक नेताओं का प्रवेश प्रतिबंधित रहेगा।

Latehar News

ग्रामीणों का कहना है कि जब तक दोषी नेता अधीर रंजन चौधरी को पार्टी से निष्कासित नहीं किया जाता, तब तक कोई भी कांग्रेसी नेता कार्यकर्ता को गांव में प्रवेश नहीं करने देंगे। इसके लिए ग्रामीणों ने गांव में कई जगह वॉल राइटिंग भी की है।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

लोगों का कहना है कि देश में पहली बार किसी आदिवासी महिला ने सर्वोच्च स्थान हासिल किया है। इससे जहां आदिवासी समाज को गर्व है, वहीं कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी राष्ट्रपति को नीचा दिखाने की कोशिश कर रहे हैं। यह देश के सर्वोच्च पद के साथ-साथ देश की जनता, लोकतंत्र और आदिवासी समाज का अपमान है।